विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
नवरात्र में कराएं कामाख्या बगलामुखी कवच का पाठ व हवन, पाएं कर्ज मुक्ति एवं शत्रुओं से छुटकारा
Astrology Services

नवरात्र में कराएं कामाख्या बगलामुखी कवच का पाठ व हवन, पाएं कर्ज मुक्ति एवं शत्रुओं से छुटकारा

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

Lockdown Update : कोरोना की जंग में लोगों की मदद के लिए उतरी सेना, स्कूल बसें भी लगीं

लॉकडाउन में लोगों की मदद के लिए अब सेना उतर आई है।

29 मार्च 2020

विज्ञापन

Sp baghpat said

28 मार्च 2020

विज्ञापन

सीतापुर

रविवार, 29 मार्च 2020

नवरात्र : कष्ट हरने आ रहीं जगत जननी मां दुर्गा

सीतापुर। चैत्र नवरात्र का शुभारंभ बुधवार से हो गया है। घर-घर शुभ मुहूर्त में कलश स्थापना कर अब नौ दिनों तक मां भगवती के विभिन्न स्वरूपों का गुणगान होगा। कोरोना वायरस का खतरा देखते हुए इस नवरात्र देवी मंदिरों के बजाय श्रद्धालु घरों में ही जगत जननी माता की उपासना करेंगे। अबकी पूरे नौ दिन के नवरात्र हैं। अष्टमी एक अप्रैल, जबकि नवमी दो अप्रैल को मनाई जाएगी।
दो अप्रैल को दुर्गा नवमी व रामनवमी का विशेष संयोग है। यह संयोग पृथ्वी पर उत्पन्न दैहिक, दैविक व भौतिक तापों से मुक्ति दिलाने वाला है। इस बार कोरोना वायरस से मनुष्य को होने वाले कष्ट हरने मां दुर्गा आ रही हैं। शहर की बाजार में नवरात्र से एक दिन पहले मंगलवार को पूजन सामग्री व फल की खरीदारी करते लोग नजर आए। लॉकडाउन के कारण बाजार बंद होने से नवरात्र की खरीदारी का असर कम दिखाई दिया।
जरूरी सेवाओं की दुकानें ही खुली रहीं। इस बार विश्वविख्यात तीर्थ नैमिषारण्य स्थित मां ललिता देवी मंदिर सहित सभी प्रमुख मठ-मंदिरों में भी दर्शन पर रोक लगा दी गई है। इसलिए भक्त घरों से ही देवी माता का गुणगान करेंगे। पंडित धनंजय मिश्र ने बताया बुधवार भोर 5:45 बजे से 11 बजे तक कलश स्थापना का विशेष मुहूर्त है। कलश स्थापना पूरे दिन भक्त कर सकते हैं।
ऐसे करें कलश की स्थापना
नवरात्र में मां का विधि-विधान से पूजन करने वाले हर व्यक्ति की मनोकामना पूर्ण होती है। घर में पूजा घर या किसी स्थान की सफाई कर उसे पवित्र करें। फिर उस स्थान पर मिट्टी से वेदी बनाकर उसमें जौ व गेहूं बोएं। इसके बाद उस पर कलश को विधि पूर्वक स्थापित कर दें। कलश के ऊपर मूर्ति की प्रतिष्ठा करें। घी का दीपक जलाएं। नवरात्र में हम जितनी पवित्रता बरतते हैं, देवी उतना ही प्रसन्न होती हैं।
इस बार नहीं होंगे मां धूमावती के दर्शन
इस नवरात्र मां धूमावती के दर्शन भक्त नहीं कर सकेंगे। कोरोना वायरस के खतरे को देखते हुए प्रशासन के निर्देश पर कालीपीठाधीश गोपाल शास्त्री ने यह निर्णय लिया है। उन्होंने बताया, मां धूमावती के दर्शन नवरात्र के दौरान पड़ने वाले शनिवार के दिन ही होते हैं। इस बार मां धूमावती का पूजन व आरती तो विधान पूर्वक होगी, लेकिन भक्तों के दर्शनार्थ मंदिर नहीं खुलेगा। इस बीच प्रशासन से किसी तरह के नए निर्देश मिलते हैं तो उसके अनुरूप कार्य किया जाएगा।
नवरात्र पर लगने वाला मेला स्थगित
महमूदाबाद। नवरात्र पर प्रसिद्ध मां संकटा देवी मंदिर के कपाट खुले रहेंगे। प्रबंध समिति के अध्यक्ष रमेश बाजपेयी ने बताया मंदिर को प्रतिदिन सैनिटाइजेशन करवाया जा रहा है। मंदिर परिसर को दिन में तीन बार फिनायल से साफ किया जा रहा है। 25 मार्च से शुरू हो रहे नवरात्र में श्रद्धालुओं की संख्या को सीमित रखी जाएगी। कोरोना के कारण मां संकटा देवी मंदिर में लगने वाला 15 दिवसीय प्रसिद्ध वार्षिक मेला स्थगित किया जा रहा है। श्रद्धालुओं से आग्रह है कि शासन द्वारा दिए गए निर्देशों में पालन करें।
... और पढ़ें

जिला अस्पताल की ओपीडी बंद

सीतापुर। जिले में बुधवार से लॉकडाउन के बाद जिला अस्पताल की ओपीडी सेवा भी अगले तीन दिनों तक बंद रखने का फैैसला लिया गया है। लोगों को इमरजेंसी सेवाएं पहले की तरह मिलती रहेंगी। जिला अस्पताल में लगातार मरीजों की संख्या कम हो रही है। ओपीडी में 3200 तक आने वाले मरीजों का आंकड़ा सोमवार को ओपीडी में 1165 तक ही पहुंच गया था।
मंगलवार को भी ओपीडी में करीब 800 मरीज ही पहुंचे थे, इस बीच शासन के आदेश पर बुधवार से जिले को लॉकडाउन कर दिया जाएगा। इस पर जिला अस्पताल प्रशासन ने 25, 26, 27 मार्च तक ओपीडी सेवा बंद करने का फैसला लिया है। हालांकि, लोगों को इमरजेंसी सेवाओं के लिए परेशान होने की जरूरत नहीं है। उन्हें पहले की तरह जिला अस्पताल में इमरजेंसी सेवाएं मिलेंगी।
जिला अस्पताल के सीएमएस डॉ. अनिल अग्रवाल ने बताया कि जिले को तीन दिन के लिए लॉकडाउन किया गया है। जिला अस्पताल में इस दौरान ओपीडी बंद रहेगी। इमरजेंसी में मरीजों को सेवाएं मिलती रहेंगी। जिला महिला अस्पताल की सीएमएस डॉ. सुषमा कर्णवाल ने बताया कि महिला अस्पताल में अभी जो भी मरीज हैं, उन्हें देखा जा रहा है। जांच हो रही है। ओपीडी सेवा बंद करने का कोई आदेश नहीं मिला है। आदेश मिलने पर सेवाएं बंद की जाएंगी।
... और पढ़ें

ट्रैक्टर पलटा, पिता की मौत, बेटा जख्मी

कुतुबनगर (सीतापुर)। पिसावां थाना क्षेत्र के एक गांव के निकट गन्ने से भरी ट्रैक्टर-ट्रॉली के पलटने से एक युवक दबकर घायल हो गया। उसकी जिला अस्पताल ले जाते समय मौत हो गई। उसका पुत्र हादसे में घायल हो गया। पुलिस ने मौके पर पहुंच कर जांच की।
महोली कोतवाली क्षेत्र के कुसैला निवासी केदारनाथ वर्मा (55) पुत्र रामऔतार व उसका पुत्र अजय कुमार मंगलवार को गन्ने से भरी ट्रॉली को लेकर रामकोट स्थित जवाहरपुर चीनी मिल जा रहे थे। अजय कुमार ट्रैक्टर चला रहा था और केदारनाथ ट्रैक्टर पर बैठा था।
जब ट्रैक्टर-ट्रॉली पिसावां थाना क्षेत्र के अरसेनी गांव के निकट पहुंचा, तभी वह अनियंत्रित होकर रोड के किनारे गहरी खाई में पलट गया। ट्रैक्टर अनियंत्रित होता देख अजय कुमार कूद कर थोड़ी दूर जा गिरा। जिसके चलते उसको चोट आयी है।
उसका पिता केदारनाथ ट्रैक्टर के नीचे आ गया। राहगीरों की मदद से उसे निकाल कर फौरन जिला अस्पताल भेजा गया, लेकिन रास्ते में केदारनाथ की मौत हो गई। खबर पाकर पहुंची पुलिस ने वाहन को कब्जे में लेकर कार्रवाई शुरू कर दी है।
... और पढ़ें

लॉकडाउन : बेवजह घर से निकलने वालों का चालान

सीतापुर। लॉकडाउन के चौथे दिन शनिवार को जिलेभर में सार्वजनिक स्थानों और चौराहों पर पुलिस का सख्त पहरा रहा। हर आने-जाने वाले को रोककर पुलिसकर्मी पूछताछ करते रहे। वाजिब कारण बताने वालों को ही जाने दिया गया। बेवजह घर से निकलने वाले वाहन सवारों का पुलिस ने चालान काटा। निगरानी के लिए डीएम, एसपी व अन्य अधिकारियों के वाहन सड़कों पर दौड़ते रहे।
उन्होंने नागरिकों से बेवजह घर से बाहर नहीं निकलकर सहयोग की अपील की। शहर से लेकर कस्बों तक सड़कों पर पुलिस व प्रशासनिक अमले के अलावा जरूरी सेवाओं से जुड़े लोग ही नजर आ रहे थे। कोरोना की जंग में प्रधानमंत्री द्वारा देश भर में लॉकडाउन करने के बाद भी कुछ लोगों की लापरवाही देख पुलिस ने सख्ती बरतनी शुरू कर दी है।
जिले में लॉकडाउन के चौथे दिन शनिवार को शहर समेत सभी थाना क्षेत्रों की सीमा व लिंक मार्गो पर बैरियर लगाकर सघन चेकिंग की जाती रही। शहर का आलम यह रहा कि छोटे-छोटे चौराहों पर भी बैरियर लगा दिए गए। पुरुषों के साथ ही महिलाओं से भी बाहर निकलने की वजह पूछी गई। वाजिब कारण बताने वालों को ही आगे जाने दिया गया। बेवजह निकलने वालों को फटकार लगाते हुए वापस घर भेज दिया गया।
बाइकों से बिना किसी जरूरी काम के निकलने वालों पर चालान करने की कार्रवाई हुई। शहर के अंदर आने वाले सभी रास्तों पर बैरीकेडिंग लगाकर चेकिंग की गई। जरूरी सेवाओं से जुड़े लोगों को ही अंदर प्रवेश दिया गया। सभी थाना क्षेत्रों में सुबह से ही पुलिस भ्रमण कर माइक के जरिए लॉकडाउन का पालन करने तथा लापरवाही करते पाए जाने वालों के विरुद्ध सख्त कार्रवाई की चेतावनी देती रही।
हिमाचल में फंसे रेउसा के 40 मजदूर
जिले के ब्लॉक रेउसा क्षेत्र में रहने वाले 40 लोग हिमाचल प्रदेश के जिला सोलन में फंस गए हैं। सेवता विधायक ज्ञान तिवारी ने प्रधानमंत्री व मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर उनकी मदद करने का अनुरोध किया है। विधायक के मुताबिक, यह सभी लोग रोजगार के लिए गए थे। लॉकडाउन होने से फंस गए हैं। इनके सामने खाने-पीने, रहने व स्वास्थ्य की गंभीर समस्या उत्पन्न हो गई है।
स्वास्थ्य कर्मियों के पास नहीं सुरक्षा किट
कमलापुर। सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र कसमंडा व पीएचसी कमलापुर के चिकित्सक व स्वास्थ्य कर्मचारी इन दिनों विभिन्न गांवों में जाकर बाहर से आने वाले लोगों की जांच कर रहे हैं। लेकिन स्वास्थ्य कर्मियों के पास सुरक्षा का कोई इंतजाम नहीं है। बिना सुरक्षा किट के वह अपनी जिम्मेदारी निभा रहे हैं। इससे स्वास्थ्य कर्मियों पर भी खतरा मंडरा रहा है। उच्चाधिकारियों से सुरक्षा के लिहाज से जरूरी चीजें उपलब्ध कराने की गुहार लगाई है।
... और पढ़ें

आज बंद हो जाएगी किसान सहकारी चीनी मिल

महमूदाबाद (सीतापुर)। दि किसान सहकारी चीनी मिल्स लिमिटेड के पेराई सत्र का समापन 29 मार्च को होगा। मिल के प्रधान प्रबंधक ने किसानों को 29 मार्च तक गन्ना मिल में आपूर्ति करने की अपील की है। मिल का कहना है कि इसके बाद यदि किसान गन्ना लाते है तो मिल का कोई दायित्व नहीं होगा।
चीनी मिल जीएम केपी शुक्ल ने बताया कि 29 मार्च को मिल का पेराई सत्र समाप्त हो रहा है। कैलेंडर की सभी पर्चियां जारी करते हुए मिल गेट एवं क्रय केन्द्रों पर 24 मार्च से मुक्त खरीद की जा रही है फिर भी मिल को पर्याप्त मात्रा में गन्ना उपलब्ध नहीं हो पा रहा है। इससे मिल को प्रतिदिन 12 से 14 घंटे बंद कर चलाना पड़ रहा है। मिल को आर्थिक क्षति भी हो रही है। ऐसे में सभी किसान, जिनका पेराई योग्य गन्ना शेष है, वह 29 मार्च तक मिल में पहुंचा सकते हैं।
... और पढ़ें

लॉकडाउन के दौरान सिंघानिया इंस्टीट्यूट ने नौ शिक्षकों को निकाला

सीतापुर। लॉकडाउन के दौरान एक स्कूल की संवेदनहीनता देखने को सामने आई है। शहर के प्रतिष्ठित सिंघानिया एजुकेशनल इंस्टीट्यूट ने नौ शिक्षकों को फोन से सूचना देकर बाहर का रास्ता दिखा दिया। उन्हें कोई नोटिस भी नहीं दिया गया। स्कूल की तरफ से फोन के जरिए उनकी सेवाएं रोकने की सूचना दी गई है। इससे परेशान सभी शिक्षकों ने मुख्यमंत्री से लिखित शिकायत की है।
सिंघानिया एजुकेशनल इंस्टीट्यूट शहर का एक प्रतिष्ठित कॉलेज है। इसके कई बच्चे सीबीएसई में टॉप टेन सूची में आ चुके है। इधर, कोरोना वायरस की चपेट में पूरा विश्व जूझ रहा है। प्रधानमंत्री ने सुरक्षा की दृष्टि से पूरे देश को लॉकडाउन कर दिया है। इस दौरान सभी संस्थाओं को अपने कर्मचारी न निकालने की बात कही थी। लेकिन इसके इतर स्कूल ने अपनी संवेदनहीनता की सारी हदें पार करते हुए शिक्षकों को बाहर निकाल दिया है।
नौ शिक्षकों को कॉलेज की तरफ से फोन करके जानकारी दी गई कि आपकी सेवा रोक दी गई है। आप कॉलेज आकर अपना हिसाब कर लीजिए। इससे शिक्षकों में खलबली मच गई। शिक्षकों का कहना है कि इस समय आर्थिक स्थिति कमजोर हो रही है। मदद की जरूरत है, तब कॉलेज शिक्षकों को मदद करने के बजाए उनकी नौकरी से बाहर कर रहा है। शिक्षक अनुराग त्रिवेदी, यशी सक्सेना, कशिश अनेजा, शैलजा तिवारी, नुपुर सिंह, सोनिया चावला, ऋषभ दीक्षित, रोबिन सिंह, शिवांश सिंह ने मुख्यमंत्री से शिकायत दर्ज कराई है।
प्रबंधक आशीष सिंघानिया ने बताया कि हर साल शैक्षिक सत्र समाप्त होने के बाद शिक्षकों की परफॉर्मेंस देखी जाती है। इस परफॉर्मेंस में शिक्षक फेल साबित हुए हैं। यह निर्णय लॉकडाउन से पहले लिया गया था। कॉलेज में करीब 125 लोगों का स्टॉफ है। किसी अन्य को नहीं निकाला गया है। इन शिक्षकों को शैक्षिक रिकार्ड अच्छा नहीं था।इनकी सेवाएं समाप्त की गई है। शिकायत करना हर शिक्षक का अधिकार है।
... और पढ़ें

हिंद अस्पताल में कोरोना मरीजों के लिए 200 बेड की होगी व्यवस्था

सीतापुर। जिले में कोरोना वायरस से निपटने के लिए स्वास्थ्य विभाग की तैयारियां जारी हैं। मरीजों की संख्या बढ़ने या संदिग्धों के पाए जाने पर उन्हें आइसोलेट करने के लिए हिंद अस्पताल फिलहाल विभाग के तहत रहेगा। मेडिकल अफसर की तैनाती कर इसकी निगरानी की जाएगी। अस्पताल में बेड से लेकर वेंटीलेटर तक बढ़ाए जाएंगे। सीएमओ ने अस्पताल पहुंचकर तैयारियों पर अस्पताल प्रशासन से चर्चा की।
जिले में अभी तक कोरोना पॉजिटिव का एक भी मरीज नहीं मिला है। ये सभी के लिए अच्छी बात है, लेकिन आने वाले दिनों में अगर मरीजों की संख्या बढ़ती है, कोरोना संदिग्ध मरीज पाए जाते हैं तो ऐसे हालात में जिला अस्पताल में भर्ती करने के लिए बेड कम पड़ जाएंगे। इसी को देखते हुए स्वास्थ्य विभाग ने पहले ही तैयारियां मुकम्मल करनी शुरू कर दी है।
शुक्रवार को सीएमओ डॉ. आलोक वर्मा अटरिया स्थित हिंद मेडिकल कॉलेज पहुंचे, जहां पर प्रशासन से सुविधाएं बढ़ाने पर मंत्रणा की। सीएमओ ने बताया कि अभी अस्पताल में 30-30 बेड के दो आइसोलेशन वार्ड बना रखे हैं। पांच वेंटीलेटरों की व्यवस्था है, लेकिन अब कोरोना मरीजों को भर्ती करने के लिए 200 बेड बनाए जाएंगे। 100 बेडों की जल्द ही व्यवस्था होने वाली है।
पांच वेंटीलेटर की जगह 20 किए जाएंगे, लेकिन 100 और बेड बनाने के लिए मेडिकल कॉलेज में भवन की तलाश की जाएगी। जगह चिन्हित होने के बाद 100 बेड के अलग-अलग आइसोलेशन वार्ड बनाए जाएंगे। सरकार के आदेश के बाद फिलहाल स्वास्थ्य विभाग ने हिंद अस्पताल को अधिग्रहण कर लिया है। कोरोना महामारी का अंत न होने तक विभाग केे अंडर में रहेगा।
सुविधाओं और अन्य व्यवस्थाओं की निगरानी के लिए अस्पताल में स्वास्थ्य विभाग की ओर से एक मेडिकल अफसर की तैनाती की जाएगी। जल्द ही काम शुरू होने जा रहा है।
अस्पताल में ही रोका जाएगा स्टाफ
कोरोना मरीजों के लिए बेड और वेंटीलेटरों को बढ़ाने के साथ हिंद अस्पताल के स्टाफ को मरीजों की देखरेख के लिए दिन और रात में ही रोकने की व्यवस्था की जाएगी। इसके लिए स्टाफ की रहने, खाने का इंतजाम भी विभाग की ओर से होगा।
सीएमओ ने इलाज के साथ बचाव की दी ट्रेनिंग
शुक्रवार को हिंद अस्पताल पहुंचे सीएमओ ने यहां के स्टाफ में शामिल डॉक्टर, नर्सों को कोरोना मरीजों के इलाज की बारीकियां समझाईं। बताया कि मरीज का कैसे इलाज करना है, इसके साथ ही खुद को संक्रमण से बचाने के लिए क्या-क्या सावधानियां बरतनी हैं।
... और पढ़ें

सब्जी मंडी में उमडी भीड़ से बिगड़े हालात को पुलिस ने लाठी भांजकर संभाला

सीतापुर। प्रशासन व पुलिस अफसरों के लाख समझाने पर भी शहर की गल्ला मंडी में शुक्रवार को सब्जी लेने के लिए दुकानदारों के साथ ही भारी संख्या में भीड़ उमड़ पड़ी। यह देख कोतवाल ने आम नागरिकों से वार्डों में फेरी लगाने वालों से सब्जी खरीदने की बात कहते हुए घर जाने का अनुरोध किया। कई बार चेतावनी देने पर लोग नहीं माने तो पुलिस को लाठियां भांजनी पड़ी। लाठीचार्ज होते ही लोग भाग खड़े हुए।
इसे बाद पुलिस ने शहर के हर इंट्री प्वाइंट समेत चौराहों पर बैरियर लगाकर चेकिंग शुरू दी। पुलिस का रवैया सख्त होने के बाद शहर में सन्नाटा पसर गया। इसके चलते लॉकडाउन के तीसरे दिन शुक्रवार को जिले भर में कर्फ्यू सरीखा माहौल बना रहा। कोरोना वायरस संक्रमण के खतरे से निपटने के लिए प्रधानमंत्री ने देश भर में 21 दिनों का लॉकडाउन किया है। प्रशासनिक व पुलिस अमला लगातार लॉकडाउन का पालन करने के लिए लोगों से अपील कर रहा है।
इस बात का भी ध्यान रखा जा रहा है कि जरूरी सेवाएं बाधित न हों। इसके बाद भी कुछ लोग सामाजिक दूरी बनाए रखने को लेकर अब तक गंभीर नहीं हो रहे हैं। शहर की गल्लामंडी में सुबह 7 बजे से 9 बजे तक सब्जी व फल की थोक बाजार लगती है। लॉकडाउन के तीसरे दिन शुक्रवार सुबह सब्जी की थोक बाजार में फुटकर विक्रेताओं के साथ ही बड़ी संख्या में आम नागरिक भी पहुंच गए।
इससे वहां भारी भीड़ हो गई। यह देख शहर कोतवाल अंबर सिंह ने माइक से केवल फुटकर विक्रेताओं को छोड़कर अन्य सभी लोगों से वापस जाने को कहा। उन्होंने आश्वस्त भी किया कि सब्जी व अन्य जरूरी खाद्य सामग्री की ठेलियां पहले की तरह सभी वार्डों व गलियों में फेरी लगाएंगी, आपको घर के दरवाजे पर ही सामग्री उपलब्ध होगी। इस पर भी लोग टस से मस नहीं हुए।
लगातार भीड़ बढ़ती देख लोगों को वहां से हटाने के लिए पुलिस को लाठीचार्ज करना पड़ा, तब जाकर हालात काबू में हुए। इसके बाद पुलिस ने एक-एक कर क्रमवार सब्जी के फुटकर विक्रेताओं से दुकानों पर जाने को कहा। लॉक डाउन के तीसरे दिन पुलिस कड़ा रुख अपनाते हुए शहर के अंदर आने वाले प्रत्येक रास्ते व चौराहों पर बैरियर लगाकर आने-जाने वालों से पूछताछ करती रही।
जरूरी काम से आने वालों को चेकिंग के बाद ही शहर के अंदर प्रवेश दिया गया। बेवजह आने वालों को चेतावनी देकर वापस भेज दिया गया। शहर में पुलिस की सख्ती का असर यह रहा कि हर चौराहे, सार्वजनिक स्थान व सड़कों पर सन्नाटा पसरा रहा। शहर के अलावा कमलापुर, खैराबाद, रामकोट, रेउसा, हरगांव, सिधौली, लहरपुर, जहांगीराबाद, मछरेहटा, पिसावां, तंबौर आदि क्षेत्रों में भी पुलिस लगातार भ्रमण करते हुए लोगों से घरों में ही रहने की अपील करती रही।
पुलिस के कडे़ पहरे के बीच लॉक डाउन के तीसरे दिन जिले भर में कर्फ्यू सरीखा नजारा दिखाई दिया। लॉकडाउन की वजह से वाहनों का संचालन बंद है। खैराबाद निवासी रामकरन (71) की पत्नी सरला देवी शुक्रवार को अचानक बीमार पड़ गई। वाहनों के अभाव में रामकरन अपनी पत्नी को साइकिल पर बिठाकर ही जिला अस्पताल की ओर चल दिए। जिला अस्पताल में पत्नी को दवा दिलाकर वापस जा रहे रामकरन ने बताया रास्ते में कई जगह पुलिस ने पूछताछ की, लेकिन पत्नी की बीमारी का हवाला देने पर आने दिया।
... और पढ़ें

लॉकडाउन के उल्लंघन में पांच पर केस

औचक निरीक्षण में महोली सीएचसी का डॉक्टर नदारद, स्पष्टीकरण तलब

सीतापुर। कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप के बीच स्वास्थ्य कर्मियों को तैनाती स्थल न छोड़ने के आदेश दिए गए हैं। आदेशों का जमीनी स्तर पर पालन हो रहा है या नहीं, इसकी हकीकत जानने के लिए स्वास्थ्य महकमे के अफसरों ने तीन का औचक निरीक्षण किया। दो सीएचसी में स्टाफ मौजूद मिला जबकि एक सीएचसी के डॉक्टर गैरहाजिर मिले। नोटिस जारी कर जवाब मांगा गया है।
सीएमओ डॉ. आलोक वर्मा ने बताया कि महामारी से निपटने के लिए सभी अधीक्षकों और स्वास्थ्य कर्मियों को बिना जरूरी काम के तैनाती स्थल न छोड़ने के आदेश उनके और डीएम द्वारा दिए जा चुके हैं। निर्देशों के पालन की हकीकत जानने के लिए एसीएमओ डॉ. राजशेखर ने कसमंडा सीएचसी का औचक निरीक्षण किया जहां अधीक्षक समेत पूरा स्टाफ रात में मौजूद मिला।
एसीएमओ डॉ. पीके सिंह ने बताया कि उन्होंने 11:15 बजे परसेंडी सीएचसी का निरीक्षण किया। सीएचसी अधीक्षक डॉ. सुनील शुक्ला, इमरजेंसी मेडिकल अफसर, फार्मासिस्ट, नर्स और पैरामेडिकल स्टाफ मौजूद मिला। एसीएमओ ने मातहतों को सतर्क रहने और व्यवस्थाएं दुरुस्त करने के आदेश दिए। जिला क्षय रोग अधिकारी ने महोली सीएचसी का रात करीब 11:45 बजे औचक निरीक्षण किया। डॉ. आशुतोष शुक्ला गैैरहाजिर पाए गए। बताया कि डॉक्टर को नोटिस जारी कर जवाब मांगा गया है।
... और पढ़ें

घर में घुसे युवक को पीटकर मार डाला

सीतापुर। संदना थाना क्षेत्र में गुरुवार रात चोरी के इरादे से घर में घुसे चोर को ग्रामीणों ने घेराबंदी कर दबोच लिया। इसके बाद पीट-पीटकर मौत के घाट उतार दिया। पुलिस ने मौके पर पहुंचकर जांच की है। पुलिस ने मृतक चोर के खिलाफ चोरी के प्रयास, अज्ञात ग्रामीणों पर गैर इरादतन हत्या का केस दर्ज कर लिया है। पुलिस का कहना है कि जांचकर कार्रवाई की जा रही है।
संदना इलाके के गांव रालामऊ निवासी रामदयाल गुरुवार रात परिवार समेत घर में सो रहे थे। देर रात चोर घर में घुस गया, इस बीच गृहस्वामी की आंख खुल गई और वह लघुशंका के लिए उठे। बताया जाता है कि घर में अज्ञात युवक को देखकर उन्होंने शोर मचाया, इस पर परिवारीजन और गांव के लोग जग गए। ग्रामीणों को आता देख चोर मौकेे से भागने लगा, लेकिन ग्रामीणों ने घेराबंदी कर भाग रहे चोर को दबोच लिया और पीट-पीटकर मौके पर ही मौत के घाट उतार दिया।
घटना की सूचना पाकर पुलिस मौके पर पहुंची और जांच पड़ताल की। इसके बाद पुलिस ने शव को पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया है। एसओ संदना संजय पांडेय ने बताया कि मृतक की शिनाख्त संदना इलाके के गढ़वे गांव निवासी पिंटू (24) पुत्र रामपाल के रूप में हुई। आरोपी इससे पहले भी चोरी के मामले में जेल जा चुका है। अभी 15 दिन पूर्व ही जेल से छूटकर आया था।
एसओ ने बताया कि इस मामले में दोनों पक्षों पर केस दर्ज किया गया है। मृतक आरोपी के खिलाफ चोरी के प्रयास का केस हुआ हैं। वहीं मृतक के चाचा राजेश की तहरीर पर रालामऊ गांव के अज्ञात लोगों पर गैर इरादतन हत्या की एफआईआर दर्ज की गई है। मामले की जांच की जा रही है। जांच पड़ताल कर आवश्यक कार्रवाई की जाएगी।
... और पढ़ें

मुंबई और केरल से लौटे 27 यात्रियों की स्क्रीनिंग, होम आइसोलेट

जहांगीराबाद (सीतापुर)। कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप के बीच बाहर से आने वालों का सिलसिला जारी है। सकरन ब्लॉक के एक गांव में मुंबई और केरल से 27 यात्रियों के आने की सूचना पर पहुंची स्वास्थ्य विभाग की टीम ने सभी की जांच की और 14 दिन के लिए होम आइसोलेट कर दिया।
सकरन इलाके के एक गांव में पिछले दिनों मुंबई और केरल से 27 लोग लौटे थे। इसकी सूचना ग्रामीणों को हुई। यात्रियों में कोरोना वायरस की शंका हुई। इसकी सूचना स्वास्थ्य विभाग को दी गई। सूचना पार सांडा सीएचसी की टीम गुरुवार को गांव पहुंची और सभी की जांच की।
टीम ने बताया कि किसी में कोरोना के लक्षण नहीं मिले हैं। टीम में शामिल डॉ. अदिअंत कृष्ण वर्मा ने बताया कि जांच में सभी ठीक पाए गए हैं। किसी में महामारी का कोई लक्षण नहीं मिला है। हालांकि एहतियात के तौर पर सभी को 14 दिनों के लिए क्वारंटीन कर दिया गया है। परिवार के लोगों से दूरी बनाकर रहने के लिए बताया गया है ताकि आगे कोई समस्या न हो।
शहर कोतवाली इलाके के नारायणनगर हेमपुरवा में गुरुवार को पहुुंची स्वास्थ्य विभाग की टीम ने गैर जिले से लौटे दो युवकों में कोरोना वायरस के लक्षणों की जांच की लेकिन दोनों सही मिले। टीम ने बताया कि मोहल्ले के लोगों ने सूचना दी थी कि उन लोगों को बाहर से आए युवकों में कोरोना की आशंका है। उसी सूचना पर जांच कर लोगों को आश्वासत किया गया है।
... और पढ़ें

छह यात्री ट्रेस, 19 की अब भी जारी है तलाश

सीतापुर। विदेश से लौटने के बाद गुम चल रहे 25 यात्रियों में से गुरुवार को स्वास्थ्य विभाग की टीम ने छह को ट्रेस कर लिया है। टीमों ने यात्रियों के घर पहुुंचकर उनके स्वास्थ्य का परीक्षण किया। सभी ठीक बताए जा रहे हैं। हालांकि अन्य की तलाश जारी है।
कोरोना वायरस के बढ़ते कहर के बीच अब तक जिले में विदेश से 114 लोगों के आने की सूची एयरपोर्ट से स्वास्थ्य विभाग को मिल चुकी है। विभाग ने 89 यात्रियों का पता लगा लिया था लेकिन तमाम कोशिशों के बाद विदेश से लौटे 25 यात्रियों के बारे में कोई सुराग नहीं लग सका था।
इस मामले से डीएम को अवगत कराने के बाद उन्होंने स्वास्थ्य विभाग की मदद के लिए एसडीएम, सीओ, कोतवाल, सीएचसी अधीक्षक, थानेदारों को लगाया था। हालांकि इस काम में लगाए अन्य विभाग अभी किसी नतीजे पर नहीं पहुंच सके हैं लेकिन यात्रियों की तलाश में जुटी सेहत महकमे की टीमों ने गुरुवार को छह को ट्रेस कर लिया है।
सूत्रों ने बताया कि ट्रेस हुए यात्रियों में 2 बिसवां, 1 महमूदाबाद, 1 खैराबाद, 1 कसमंडा और 1 रामपुर मथुरा का पाया गया है। टीमों ने इनके घर पहुंचकर कोरोना वायरस के लक्षणों की जांच की है। किसी में कोई लक्षण नहीं मिला है। फिलहाल सभी को 14 दिन के लिए होम आइसोलेट किया गया है। टीम गुम 19 अन्य की तलाश में जुटी है।
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer


हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर और व्यक्तिगत अनुभव प्रदान कर सकें और लक्षित विज्ञापन पेश कर सकें। अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।
Agree
Election
  • Downloads

Follow Us