विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
होली के दिन, किए-कराए बुरी नजर आदि से मुक्ति के लिए कराएं कोलकाता के दक्षिणेश्वर काली मंदिर में पूजा : 9- मार्च-2020
Astrology Services

होली के दिन, किए-कराए बुरी नजर आदि से मुक्ति के लिए कराएं कोलकाता के दक्षिणेश्वर काली मंदिर में पूजा : 9- मार्च-2020

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

उत्तर प्रदेश

शुक्रवार, 28 फरवरी 2020

नाबालिग से दुष्कर्म और नवजात की हत्या मामला, अब डीएनए सैंपल बदलकर बचना चाह रहा है विभाष्म

पीपीगंज में नाबालिग का दुष्कर्म कर मां बनाने, फिर नवजात की हत्या के मामले में आरोपित विभाष्म के परिवार वाले उसे बचाने की हर कोशिश कर रहे हैं। वे डीएनए जांच के लिए एकत्र किए गए विभाष्म के सैंपल को बदलना चाह रहे हैं।

इसके लिए विभाष्म के एक करीबी ने एक पुलिसकर्मी से संपर्क कर सैंपल का लॉट नंबर जानने की कोशिश भी की। इसके बाद पुलिस सतर्क हो गई है। सैंपल को अब गोपनीय तरीके से लैब में भेजा जाएगा। इसकी जानकारी महज एक पुलिसकर्मी और अफसर को होगी।

जानकारी के मुताबिक आरोपित विभाष्म सिंह और नाबालिग मां का बुधवार को डीऑक्सी राइबो न्यूक्लिक एसिड (डीएनए) जांच के लिए ब्लड सैंपल लिया गया है। विभाष्म का ब्लड सैंपल जेल के अस्पताल में लिया गया तो नाबालिग मां का ब्लड सैंपल जिला महिला अस्पताल में लिया गया।

अब इसी सैंपल में खेल कराने को लेकर आरोपित के जानने वाले थाने से लेकर लखनऊ तक पैरवी में लगे हैं। खबर है कि बुधवार की रात बारह बजे के बाद विभाष्म का एक करीबी थाने भी पहुंचा था और सिपाही की मदद से उन्होंने लाट नंबर जानने की कोशिश की। लेकिन उसे भनक तक नहीं लग पाई। अब क्योंकि यह जानकारी थानेदार और अफसरों तक पहुंच गई है, इस वजह से पुलिस और सतर्क हो गई है।

उधर, नाबालिग मां के वैजाइनल स्मियर के सैंपल को जांच के लिए भेजने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। बृहस्पतिवार को भी उसकी कुछ जांचें कराई गईं हैं। सभी सैंपल को आगे की जांच के लिए फोरेंसिक लैब लखनऊ भेजा जाएगा। एसओ निर्भय नारायण सिंह ने बताया कि पुलिस हर पहलू पर सतर्क है, आरोपित बचने ना पाए ऐसे साक्ष्य न्यायालय में प्रस्तुत किए जाएंगे।
... और पढ़ें

राहतः छह मार्च से चलेंगी 3500 होली स्पेशल बसें, यात्री इस पोर्टल पर बुक करवा सकते हैं सीट

महिला ने सीएम से लगाई गुहार, कहा- शादी के 20 साल बाद पति बोल रहा बच्चे उसके नहीं, चेक करा दें DNA

साहब! शादी के 20 साल बाद अब पति कह रहा है कि बच्चे उसके नहीं हैं। इसकी वजह से बच्चों का नाम किसी भी कागज पर दर्ज नहीं हो पा रहा है। वह सजायाफ्ता अपराधी है। बच्चों की डीएनए जांच करा दीजिए, ताकि उसका शक दूर हो जाए। यह गुहार खोराबार थाना क्षेत्र की एक महिला ने मुख्यमंत्री के पोर्टल पर लगाई है। अब मामला सीएमओ तक पहुंचा है, उन्होंने महिला को कानूनी सलाह लेने की बात कह जांच से मना कर दिया है।

महिला ने मुख्यमंत्री पोर्टल पर शिकायत करते हुए बताया है कि उसकी शादी 20 साल पूर्व उसी थाना क्षेत्र के एक गांव में हुई थी। महिला का आरोप है कि उसके पति ने झूठ बोलकर उससे कोर्ट मैरिज की थी, जबकि वह पहले से ही तीन शादियां कर चुका था।

बताया कि शादी के बाद सब कुछ ठीक-ठाक चल रहा था। दो बेटियों का जन्म हुआ। इस बीच वह तीसरी बार गर्भवती हुई तो पति ने बुरी तरह से मारपीट कर भगा दिया। डर के कारण वह मायके आ गई और एक बेटे को जन्म दिया। इस बीच पति ने कोई खोज-खबर नहीं ली। अब वह बच्चों को स्वीकार नहीं कर रहा है। ऐसे में पति का शक दूर करने के लिए डीएनए जांच करा दी जाए।

पति और उसका एक बेटा है सजायाफ्ता
महिला ने शिकायती पत्र में यह भी जानकारी दी है कि पति और उसकी पहली पत्नी का पुत्र दोनों सजायाफ्ता हैं। दोनों के डर के कारण कोई भी कर्मचारी सरकारी कागजात में उसका या उसके बच्चों का नाम नहीं दर्ज कर रहा है। इसकी वजह से बच्चों का भविष्य खराब हो रहा हैं।

सीएमओ डॉ. श्रीकांत तिवारी ने कहा कि डीएनए जांच कराने के लिए महिला को कानूनी मदद लेनी होगी। बिना पुलिस केस हुए डीएनए जांच संभव नहीं है। जिला अस्पताल में डीएनए जांच की सुविधा भी नहीं है।
... और पढ़ें

यूपी में आज जुमे की नमाज को लेकर खुफिया एजेंसियों का अलर्ट, सुरक्षा व्यवस्था कड़ी

दिल्ली में पिछले दिनों हुई हिंसा को देखते हुए शुक्रवार की नमाज को लेकर प्रदेश की खुफिया एजेंसियों ने अलर्ट किया है। इसे देखते हुए सभी जिलों के अफसरों को चौकन्ना कर दिया गया है। संवेदनशील जिलों में विशेष सतर्कता बरती जा रही है। डीजीपी मुख्यालय ने पहले से ही शुक्रवार तक के लिए कई वरिष्ठ अधिकारियों को जिलों में कैंप करने को कहा है। 

इसमें बुलंदशहर में आईजी ज्योति नारायण, मुरादाबाद में एडीजी बरेली अविनाश चंद्रा, रामपुर में एडीजी पीएसी राम कुमार, बिजनौर में डीआईजी एसआईटी जे रविंदर गौड़, अलीगढ़ में एडीजी आगरा अजय आनंद, मुजफ्फरनगर में आईजी पीटीएस मेरठ लक्ष्मी सिंह और फिरोजाबाद में आईजी रेलवे विजय प्रकाश कैंप कर रहे हैं।

अलीगढ : जुमे की नमाज पर कड़ी सुरक्षा का खाका खींचा
अलीगढ़ में बीती 23 फरवरी को हुए उपद्रव के बाद जुमे की पहली नमाज शुक्रवार दोपहर में पढ़ी जाएगी। इस नमाज को अमन चैन से कायम कराने के लिए पुलिस प्रशासन ने पूरा जोर लगा दिया है। रेड अलर्ट स्कीम लागू कर 4000 पुलिस अधिकारियों व कर्मचारियों का भारीभरकम फोर्स लगाया गया है। 

एसएसपी मुनिराज जी ने बताया कि जुमे की नमाज को देखते हुए बाहर से पांच एडिशनल एसपी, 12 सीओ, 20 इंस्पेक्टर, 200 सब इंस्पेक्टर, 500 सिपाही, 400 महिला सिपाही, 15 क्यूआरटी (एक क्यूआरटी में लगभग 12 पुलिसकर्मी), 9 कंपनी पीएसी (एक कंपनी में 140 कर्मी), दो कंपनी आरएएफ (एक कंपनी में 140 कर्मी), एक कंपनी आरएएफ रिजर्व में रखी है।
... और पढ़ें
alert in up alert in up

आजम खां की जान को सीतापुर की जेल में खतरा, कोर्ट में वकील बोले- अब तक तीन लोगों की संदिग्ध मौत

सांसद आजम खां, उनकी पत्नी विधायक तजीन फात्मा और बेटे अब्दुल्ला आजम को रामपुर की जेल से अचानक सीतापुर की जेल ले जाए जाने पर उनके वकीलों ने आपत्ति जताई है।

 सांसद के वकीलों ने कोर्ट में प्रार्थना पत्र देकर कहा है कि अदालत की जानकारी में लाए बिना आजम खां, उनकी पत्नी और बेटे को रामपुर से स्थानांतरित क्यों किया गया है। सांसद ने अधिवक्ताओं ने आशंका जताई है कि सीतापुर की जेल में आजम खां की जान को खतरा है। कोर्ट ने इसका संज्ञान लेते हुए राज्य सरकार और जेलर से जवाब तलब किया है। 

सांसद आजम खां पर लगभग 85 मुकदमे दर्ज हैं। कई मुकदमों में उनकी पत्नी विधायक डॉ. तजीन फात्मा और बेटे अब्दुल्ला आजम को भी आरोपी बनाया गया है। 

मुकदमों की सुनवाई के दौरान गैरहाजिर रहने पर कोर्ट से गैर जमानतीय वारंट और कुर्की का आदेश जारी होने के बाद सांसद आजम खां ने बुधवार को अपनी पत्नी और बेटे को साथ बुधवार को अदालत में समर्पण कर दिया गया था। कई मामलों में जमानत नहीं मिलने बाद उनको पत्नी और बेटे साथ न्यायिक अभिरक्षा में जिला कारागार भेज दिया गया था। गुरुवार की सुबह अचानक आजम खां, उनकी पत्नी और बेटे को सीतापुर की जेल भेज दिया गया। 
... और पढ़ें

मेरठः दिल्ली की हिंसा के बाद जनप्रतिनिधियों को नोटिस, आज शहर नहीं छोड़ेंगे

सीएए के विरोध में दिल्ली में हुई हिंसा को देखते हुए मेरठ का पुलिस-प्रशासन सुरक्षा तैयारियों से कोई समझौता करने के मूड में नही है। आज जुमे की नमाज की देखते हुए जहां जिला अलर्ट पर रहेगा तो वहीं सभी जनप्रतिनिधियों को भी नोटिस जारी किए हैं। 

इन सभी से कहा है कि वे शुक्रवार को शहर नहीं छोड़ेंगे। शहर में शांति व्यवस्था बनाए रखना उनकी भी जिम्मेदारी है। किसी अप्रिय स्थिति में वे सड़क पर उतरकर सहयोग करेंगे।

20 दिसंबर 2019 को सुनियोजित तरीके से मेरठ में हिंसा हुई थी। पुलिस जांच में सामने आया कि लोगों को भड़काकर कुछ जनप्रतिनिधि शहर से बाहर चले गए थे। ताकि उन पर आरोप न लगें कि हिंसा में उनकी भूमिका है। 

पुलिस अधिकारियों का दावा है कि हिंसा होने के दौरान अक्सर जनप्रतिनिधि शहर से बाहर होने की बात कहकर पल्ला झाड़ लेते हैं। अधिकारियों ने कानून और शांति व्यवस्था के मद्देनजर बृहस्पतिवार को सांसदों, विधायकों, एमएलसी, मेयर, पार्षद समेत सभी जनप्रतिनिधियों को नोटिस भेजा है।

न जाएं शहर से बाहर
हिंसा के दौरान अक्सर जनप्रतिनिधि शहर से बाहर जाकर अपनी जिम्मेदारी से पल्ला झाड़ लेते थे। इस बार जनप्रतिनिधियों से कहा गया है कि आज (शुक्रवार) वह शहर से बाहर न जाएं। शहर में शांति व्यवस्था कायम करने के लिए पुलिस का सहयोग करे। लोगों को अफवाहों से बचाएं। -अजय साहनी, एसएसपी
... और पढ़ें

असली-नकली राजभर में हवा हो गया दिव्यांगों की पेंशन का मुद्दा

खनन घोटाले में सीबीआई के रडार पर अखिलेश यादव
दिव्यांगजन की पेंशन में बढ़ोतरी का मुद्दा बृहस्पतिवार को विधानसभा में असली-नकली राजभर की लड़ाई में हवा हो गया। सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी (सुभासपा) के नेता ओमप्रकाश राजभर ने पिछड़ा वर्ग कल्याण एवं दिव्यांगजन सशक्तिकरण मंत्री अनिल राजभर को नकली राजभर बताते हुए नक्कालों से सावधान रहने का नारा दे दिया। वहीं अनिल राजभर ने भी ओमप्रकाश पर राजनीति का व्यापार कर गरीबों को धोखा देने का आरोप लगाया।

सपा के हाजी इरफान सोलंकी ने विधानसभा में दिव्यांगजनों की पेंशन वृद्धि का मामला उठाया। सोलंकी ने कहा कि दिल्ली में दिव्यांगजनों को 2500 रुपये महीने पेंशन दी जाती है। प्रदेश के दिव्यांगजनों को भी 2500 रुपये महीने पेंशन दी जाए। ओमप्रकाश राजभर ने कहा कि दो दिन से सदन में सभी विधायक अपना वेतन, पेंशन, भत्ता और विधायक निधि बढ़ाने की बात कर रहे हैं। लेकिन दिव्यांगजन की बात कोई नहीं करता है। 

उन्होंने कहा कि दिव्यांगजन मंत्री अनिल राजभर नकली राजभर हैं, इनकी हिम्मत नहीं है कि ये मुख्यमंत्री के सामने पेंशन बढ़ाने की बात भी रख सकें। ओम प्रकाश ने कहा कि मुख्यमंत्री ने देवरिया और गोरखपुर में आयोजित दिव्यांगजनों के कार्यक्रम में हर लोकसभा क्षेत्र में 100-100 मोटराइज्ड ट्राईसाइकिल देने का वादा किया था। लेकिन एक भी लोकसभा क्षेत्र में वितरण नहीं हुआ है। एक दो विधानसभा क्षेत्रों में केंद्र सरकार से मिले 25 हजार रुपये और 12-12 हजार रुपये विधायक एवं सांसद निधि से लेकर मोटराइज्ड ट्राईसाइकिल वितरित की गई है।

मंत्री अनिल राजभर ने कहा कि ओमप्रकाश राजभर की स्थिति भी उस चिड़िया की तरह है जो रात को पैर ऊपर करके सोती है। वह सोचती है कि यदि आकाश गिरेगा तो वह उसे अपने पैरों से रोक लेगी। उन्होंने कहा कि जनता सब समझ गई कि ओमप्रकाश पैसों की राजनीति करते हैं।  
... और पढ़ें

CAA: दिल्ली में हिंसा को देखते हुए जारी हुआ निर्देश, जुमे की नमाज को लेकर पुलिस अलर्ट

नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) को लेकर दिल्ली में भड़की हिस्सा को देखते हुए गोरखपुर पुलिस भी अलर्ट है। शुक्रवार को एसपी, सीओ सड़कों पर मौजूद रहेंगे तो साइबर सेल सोशल मीडिया की निगरानी करेगा। इसे लेकर सभी अफसरों की ड्यूटी लगा दी गई है।

20 दिसंबर को जुमे की नमाज के बाद गोरखपुर में भी बवाल भड़का था, जिसको देखते हुए अतिरिक्त सतर्कता बरती जा रही है। डीआईजी राजेश डी मोदक ने रेंज के चारों जिलों के एसपी को पत्र भेजकर संवेदनशील जगहों पर सतर्क रहने का आदेश दिया है ताकि कोई भी उत्पाती कहीं पर भी माहौल को खराब ना कर पाए। साइबर सेल को एक्टिव किया गया है। ताकि सोशल मीडिया पर भड़काऊ पोस्ट आते ही आरोपित की गिरफ्तारी कर ली जाए।

जुमे की नमाज को लेकर पुलिस को सतर्क किया गया है। अफसर संवेदनशील जगहों पर एक्टिव रहेंगे। यदि किसी ने भी भड़काऊ पोस्ट डाली या माहौल बिगाड़ने की कोशिश की तो कड़ी कार्रवाई की जाएगी। : राजेश डी मोदक, डीआईजी

बीस दिसंबर को पुलिस से भिड़ गए थे उपद्रवी
बीस दिसंबर को गोरखपुर बड़ी मस्जिद से निकले नमाजी सीएए को लेकर उग्र हो गए थे और फिर रेती के पास पुलिस से उनकी भिड़ंत हो गई थी। पुलिस को उपद्रवियों को काबू करने के लिए आंसू गैस के गोले भी छोड़ने पड़े थे। इस मामले में 26 लोगों पर नामजद एफआईआर दर्ज की गई थी, जांच में 13 नाम बढ़े थे, जिसमें चार की गिरफ्तारी भी की गई थी। अन्य आरोपित आज भी पुलिस की पकड़ से दूर हैं।
... और पढ़ें

बदायूं के उप कोषागार घपले में पांच पीसीएस अफसर निलंबित, स्टांप बिक्री में पांच करोड़ का हुआ था घोटाला

बदायूं के दातागंज उप कोषागार में पांच करोड़ रुपये के स्टांप घोटाले में पांच पीसीएस अधिकारियों को निलंबित कर दिया गया है। सीएम योगी आदित्यनाथ ने पिछले दिनों स्टांप मैनुअल का पालन न करने व कार्य में शिथिलता के आरोप में इनके खिलाफ कार्रवाई के आदेश दिए थे।

शासन ने पिछले दिनों 27 जिलों के 46 उप कोषागारों को बंद करने का फैसला किया था। इसके बाद उप कोषागारों के रिकॉर्ड का  मिलान हुआ। दातागंज के रिकॉर्ड और स्टांप के मिलान में 5 करोड़ का गबन सामने आया। इसमें बदायूं के तीन वरिष्ठ कोषाधिकारी व 10 तहसीलदारों की भूमिका सामने आई थी। मुख्यमंत्री ने 24 जनवरी को इन्हें निलंबित करने का आदेश दिया था। शासन के नियुक्ति विभाग ने बृहस्पतिवार को घपले के दौरान तहसीलदार रहे मौजूदा चार उपजिलाधिकारियों व एक सहायक नगर आयुक्त को निलंबित कर राजस्व परिषद से संबंद्ध कर दिया है।

तीन तहसीलदार पहले की हो चुके हैं निलंबित
बदायूं के दातागंज उप कोषागार में पांच करोड़ रुपये के स्टांप घोटाले में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने जिन 10 तहसीलदारों को निलंबित करने का आदेश दिया था उनमें वर्तमान में पांच उपजिलाधिकारी थे। इन्हें नियुक्ति विभाग ने निलंबित किया। वहीं तीन तहसीलदार रणवीर सिंह, जितेश वर्मा व रवींद्र प्रताप सिंह को राजस्व परिषद पहले ही निलंबित कर चुका है। जबकि सोहनलाल कार्रवाई के पहले ही रिटायर हो चुके हैं। सोहनलाल के खिलाफ कार्रवाई के लिए शासन से अनुमति मांगी गई है। नितिन तनेजा तहसीलदार की सेवा में रहते हुए प्रांतीय पुलिस सेवा (पीपीएस) में चयनित हुए थे। नितिन वर्तमान में डिप्टी एसपी हैं। राजस्व परिषद ने अपर मुख्य सचिव गृह को नितिन के खिलाफ कार्रवाई के लिए पत्र लिखा है।
... और पढ़ें

अमर उजाला के काव्य कैफे में सजी ऐसी महफिल, शाम हो गई रंगीन, कवियों ने जीता हर किसी का दिल

कवियों के संग होली के रंग ऐसे बहे कि हर कोई डूबता चला गया। काव्य कैफे में गीत और गजलों की ऐसी महफिल सजी की शाम रंगीन हो गई। कवियों ने शृंगार रस में डूबी कविताओं से समां बांध दिया। वहीं श्रोताओं ने कवियों की प्रशंसा में तालियों का शोर कम नहीं होने दिया। मौका था बृहस्पतिवार शाम को अमर उजाला और सुभारती प्रजेंट्स काव्य कैफे पावर्ड बाई द अध्ययन स्कूल की ओर से आयोजित आओ मनाएं होली कवियों के संग कार्यक्रम का। 

मेरठ में दिल्ली रोड स्थित सांगरिया होटल एंड बैंक्वेट हॉल में आयोजित काव्य कैफे में प्रख्यात कवि विष्णु सक्सेना ने अपने प्रेमगीतों से सभी का दिल जीत लिया। ‘तू जो ख्वाबों में भी आ जाए तो मेला कर दे, गम के मरूथल में भी बरसात का रेला कर दे’ से डॉ. विष्णु ने शुरूआत की। ‘याद वो है ही नहीं आए जो तन्हाई में, तेरी याद आए तो मेले में अकेला कर दे’। इन पंक्तियों पर हॉल में तालियां गूंज उठीं। मोहब्बत पर उन्होंने पढ़ा कि मेरा मुक्तक मेरे लहजे में गा लिया होगा, दर्द उसने मेरी तरह दबा लिया होगा। डॉ. विष्णु ने श्रोताओं की फरमाइश पर अपनी सबसे उम्दा कविता ‘रेत पर नाम लिखने से क्या फायदा, एक आई लहर कुछ बचेगा नहीं’ भी सुनाई। 

वहीं सर्वेश अस्थाना ने दहेज पर व्यंग्य किया कि भाई-बहनों ये जो मैं आपको हंसता-मुस्कराता इस्माईलमैन दिख रहा हूं, असलियत ये है कि मैं एक दहेज लोभी बाप का बेटा हूं, और हर साल किराए पर बिक रहा हूं... सुनाकर वाहवाही बटोरी। उन्होंने भ्रष्टाचार और नेता के किरदार पर व्यंग्य किया। पढ़ा कि किसी गिरगिट की नेता से तुलना करना पाप है, क्योंकि रंग बदलने के मामले में नेता गिरगिट का बाप है।
... और पढ़ें

भर्ती के नाम पर ठगने वाले सेना के दो जवान गिरफ्तार, बरामद हुआ ये सब सामान

यूपी एसटीएफ ने भर्ती कराने के नाम बेरोजगारों से ठगी करने वाले सेना के दो जवानों को कैंट क्षेत्र से गिरफ्तार किया है। पकड़ा गया रोहित पांडेय अंतू प्रतापगढ़ का और रंजीत सिंह गोंडा का रहने वाला है। आईजी एसटीएफ अमिताभ यश ने बताया कि पिछले दिनों संतकबीरनगर निवासी दिनेश चौहान ने कैंट थाने पर एफआईआर दर्ज कराई थी।

इसमें उसने बताया था कि वह पिछले वर्ष अक्तूबर-नवंबर में सेना के अमेठी स्थित प्रशिक्षण केंद्र पर हो रही भर्ती प्रक्रिया में शामिल हुआ था। मेडिकल में अनफिट होने पर रिमेडिकल के लिए बेस हॉस्पिटल, लखनऊ आया था। यहां उसकी मुलाकात आर्मी के दो जवानों रोहित कुमार पाण्डेय व उसके दोस्त से हुई।

दोनों से मेडिकल में पास कराने व भर्ती कराने के लिए चार लाख रुपये में बात तय हो गई। इसके बाद दिनेश ने अपने मूल दस्तावेज व एक लाख 69 हजार रुपये दोनों को दे दिए। मेरिट में नाम आने के बाद दोनों और पैसे मांगने लगे। रकम न देने पर मूल प्रमाणपत्र न देने की धमकी भी देने लगे।

इस पर कैंट थाने में मुकदमा दर्ज कर इसमें कार्रवाई के लिए एसटीएफ से सहयोग मांगा गया था। इसके बाद एसटीएफ ने बुधवार शाम कैंट के तोपखाना इलाके से दोनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया।
पूछताछ में अभियुक्तों ने बताया कि वे सेना में सिपाही हैं और दोस्त हैं।
 
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election
  • Downloads

Follow Us

विज्ञापन