विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
कुंडली से जानिए अपना भूत एवं भविष्यकाल,आज ही बनाएं फ्री जन्मकुंडली
SAWAN Special

कुंडली से जानिए अपना भूत एवं भविष्यकाल,आज ही बनाएं फ्री जन्मकुंडली

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

Lockdown in UP: मेरठ के सभी पेट्रोल पंप बंद, सड़कों पर सन्नाटा, पुलिस की सख्ती जारी

दिखा बंद का असर दिखा बंद का असर

प्रदेश में रोज 50 हजार टेस्ट करें, घर-घर कराएं मेडिकल स्क्रीनिंग: मुख्यमंत्री योगी

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अपने आवास पर उच्च स्तरीय बैठक में अनलॉक व्यवस्था की समीक्षा के दौरान शनिवार को कोरोना की टेस्टिंग क्षमता में वृद्धि के निर्देश देते हुए कहा कि प्रतिदिन 50 हजार से अधिक टेस्ट किए जाएं। आरटीपीसीआर विधि से 30 हजार, रैपिड एंटीजन जांच के माध्यम से 15 से 20 हजार और ट्रू-नेट मशीनों से दो हजार टेस्ट रोजाना किए जाएं। 

मुख्यमंत्री ने कहा कि घर-घर में मेडिकल स्क्रीनिंग कराई जाए। संदिग्ध लक्षण वालों के सैंपल लेकर टेस्ट के लिए भेजे जाएं। जांच में अस्वस्थ मिले लोगों के समुचित उपचार की व्यवस्था की जाए। 

बिना लक्षण वाले संक्रमित मरीजों का उपचार लेवल-1 कोविड चिकित्सालय में किया जा सकता है। उन्होंने कोविड चिकित्सालयों में बेड की संख्या बढ़ाने के भी निर्देश दिए। योगी ने कहा कि कोविड-19 से बचाव ही इस रोग का उपचार है। इसलिए मास्क के उपयोग और सोशल डिस्टेंसिंग पर विशेष ध्यान दें। 

संक्रमण को नियंत्रित करने के लिए ट्रेन व हवाई जहाज से आने वालों की मेडिकल स्क्रीनिंग की बेहतर व्यवस्था की जाए। पुलिस व पीएसी कर्मियों को संक्रमण से बचाने के लिए सभी जरूरी उपाय किए जाएं। स्वास्थ्य विभाग के प्रोटोकॉल का पालन करते हुए औद्योगिक इकाइयों का संचालन किया जाए। इस बैठक में चिकित्सा शिक्षा मंत्री सुरेश खन्ना, स्वास्थ्य मंत्री जयप्रताप सिंह, मुख्य सचिव आरके तिवारी मौजूद थे।
 
कानपुर, झांसी, मथुरा में बरतें विशेष सतर्कता
सीएम ने कहा कि कानपुर नगर, झांसी व मथुरा जिलों में विशेष सतर्कता बरतने की आवश्यकता है। उन्होंने निर्देश दिए कि झांसी में विशेष सचिव स्तर के नोडल अधिकारी और स्वास्थ्य व चिकित्सा शिक्षा विभाग के वरिष्ठ अधिकारी संक्रमण को नियंत्रित करने की प्रभावी रणनीति तैयार करें।  
 
... और पढ़ें

कानपुर एनकाउंटर मामले की जांच के लिए एसआईटी गठित करने के आदेश

कानपुर एनकाउंटर मामले की जांच के लिए उत्तर प्रदेश सरकार ने विशेष जांच समिति (एसआईटी) गठित करने के आदेश दिए हैं। आदेश में कहा गया है कि यह टीम अतिरिक्त मुख्य सचिव संजय भूसरेड्डी की अध्यक्षता में काम करेगी। वहीं अपर पुलिस महानिदेशक हरिराम शर्मा और पुलिस उपमहानिरीक्षक जे रवींद्र गौड़ को एसआईटी का सदस्य नामित किया गया है।


आदेश में कहा गया है कि जांच समिति घटना से जुड़े सभी बिंदुओं की गहन जांच कर शासन को 31 जुलाई तक पूरी रिपोर्ट सौंपेगी। 

विकास दुबे के विरुद्ध अब तक जितने भी अभियोग प्रचलित हैं उनपर क्या प्रभावी कार्रवाई की गई, विकास और उसके साथियों को सजा दिलाने के लिए की गई कार्रवाई क्या पर्याप्त थी, इतने विस्तृत आपराधिक इतिहास वाले अपराधी की जमानत निरस्तीकरण की दिशा में क्या कार्रवाई की गई, इन सभी समेत अन्य कई बिंदुओं पर एसआईटी की टीम जांच करेगी।

मालूम हो कि बीते दो जून को कानपुर के चौबेपुर थाना क्षेत्र के बिकरू गांव में कुख्यात विकास दुबे को पकड़ने गई पुलिस टीम पर उसके साथियों ने हमला कर दिया था। घटना में विकास के गुर्गों ने सीओ समेत आठ पुलिसकर्मियों की निर्मम हत्या कर दी थी।

मुठभेड़ में बिल्हौर के सर्किल ऑफिसर देवेंद्र मिश्रा (54), शिवराजपुर थानाध्यक्ष महेश कुमार यादव (42), सब इंस्पेक्टर अनूप कुमार सिंह (32), सब इंस्पेक्टर नेबू लाल (48), कांस्टेबल जितेंद्र पाल (26), सुल्तान सिंह (34), बबलू कुमार (23) और राहुल कुमार (24) शहीद हो गए थे।

हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे पर करीब 60 आपराधिक मामले दर्ज हैं। उत्तर प्रदेश पुलिस ने उस पर ढाई लाख रुपये का इनाम रखा था, जिसे बुधवार को बढ़ाकर पांच लाख रुपये कर दिया गया था।

 

गुरुवार को उज्जैन के महाकाल मंदिर से उसे गिरफ्तार किया गया था, जिसके बाद पुलिस रिमांड पर विकास को कानपुर लाया जा रहा था। रास्ते में एसटीएफ की गाड़ी (जिसमें विकास को लाया जा रहा था) पलट गई थी, जिसके बाद विकास ने पुलिस की पिस्तौल छीनकर भागने का प्रयास किया था। इस दौरान मुठभेड़ में पुलिस की गोली से वह मारा गया था।
... और पढ़ें

यूपी में कोरोना वायरस: 24 घंटे में मिले 1403 नए संक्रमित, प्रदेश में कुल 11,490 सक्रिय मरीज

vikas dubey news
उत्तर प्रदेश में कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों की संख्या में लगातार इजाफा होता जा रहा है। शनिवार को मुख्य स्वास्थ्य सचिव अमित मोहन प्रसाद ने बताया कि पिछले 24 घंटे में प्रदेश में 1403 नए संक्रमित सामने आए। 

वहीं अब तक कुल 22,689 मरीज ठीक होकर घर जा चुके हैं, जबकि 913 मरीजों की मौत हो चुकी है। प्रदेश में फिलहाल 11,490 सक्रिय कोरोना मरीज हैं, जिनका अगल-अलग अस्पतालों में इलाज चल रहा है।
 
मालूम हो कि कोरोना संक्रमण के बढ़ते प्रसार को रोकने के लिए उत्तर प्रदेश में दो दिन के लिए एक बार फिर लॉकडाउन लागू किया गया है। शुक्रवार की रात 10 बजे से लागू हुई पाबंदियां सोमवार सुबह पांच बजे तक रहेंगी। दो दिन के लॉकडाउन में पुलिस को सख्ती से नियमों का पालन कराने के निर्देश दिए गए हैं।

वहीं शनिवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कोरोना की टेस्टिंग क्षमता में वृद्धि के निर्देश देते हुए कहा कि प्रतिदिन 50 हजार से अधिक टेस्ट किए जाएं। आरटीपीसीआर विधि से 30 हजार, रैपिड एंटीजन जांच के माध्यम से 15 से 20 हजार और ट्रू-नेट मशीनों से दो हजार टेस्ट रोजाना किए जाएं। 

मुख्यमंत्री ने अपने आवास पर उच्च स्तरीय बैठक में अनलॉक व्यवस्था की समीक्षा के दौरान कहा कि घर-घर में मेडिकल स्क्रीनिंग कराई जाए। संदिग्ध लक्षण वालों के सैंपल लेकर टेस्ट के लिए भेजे जाएं। जांच में अस्वस्थ मिले लोगों के समुचित उपचार की व्यवस्था की जाए। 

बिना लक्षण वाले संक्रमित मरीजों का उपचार लेवल-1 कोविड चिकित्सालय में किया जा सकता है। उन्होंने कोविड चिकित्सालयों में बेड की संख्या बढ़ाने के भी निर्देश दिए। योगी ने कहा कि कोविड-19 से बचाव ही इस रोग का उपचार है। इसलिए मास्क के उपयोग और सोशल डिस्टेंसिंग पर विशेष ध्यान दें। ... और पढ़ें

विकास दुबे ने अमर की शादी में जमकर लगाए थे ठुमके, वायरल हो रहा वीडियो

ऑनलाइन पढ़ाई सिर्फ संपन्न परिवारों के लिए हो रही है, गरीब परिवारों के पास स्मार्टफोन नहीं: अखिलेश यादव

यूपी में लॉकडाउन: प्रदेश में फिर पसरा सन्नाटा, सख्ती बढ़ी, जानें कैसा रहा आपके जिले का हाल

पश्चिमी यूपी में दिखा लॉकडाउन का असर
लॉकडाउन के पहले दिन मेरठ के सभी पेट्रोल पंप बंद करा दिए गए। स्थिति यह रही कि शहर में नगर निगम, प्रशासन और पुलिस की गाड़ियों के लिए भी पेट्रोल पंप नहीं खुले। इससे कर्मचारियों को काफी परेशानी हुई। उधर, हापुड़ अड्डे और बच्चा पार्क में शनिवार सुबह से ही सन्नाटा पसरा रहा। वहीं मवाना रोड पर पुलिसकर्मियों ने चेकिंग अभियान चलाया।
और पढ़ें...

बिजनौर में रोजाना की तरह हुई सुबह
बिजनौर में बंद के बावजूद शनिवार की सुबह रोजाना की तरह रही। आवाजाही पर कोई असर नहीं दिखाई दिया। दूध लेने वाले और घूमने वाले पहले की तरह ही सड़कों पर नजर आए। शहर में 9 बजे के बाद लॉकडाउन का असर दिखाई दिया। बाजार नहीं खुले और सड़कें सुनी रहीं। और पढ़े...

वाराणसी में पसरा सन्नाटा
लॉकडाउन को लेकर जिलाधिकारी वाराणसी ने भी गाइडलाइन जारी की। शनिवार को शहर में दुकानें बंद रहीं, साथ ही सड़कों पर फिर से सन्नाटा पसर गया। बाहर घूमने वालों पर पुलिस कार्रवाई करती नजर आई। शहर में पुलिस बल तैनात किया गया है। पुलिस अधिकारी भीड़भाड़ वाली जगहों पर निरीक्षण कर रहे हैं। हॉटस्पॉट इलाकों को सैनिटाइज किया गया। साथ ही बिना काम के बाहर घूमने वालों को पुलिस लगातार वापस घर भेजती रही। और पढ़ें...

कानपुर में सख्त दिखी पुलिस
कानपुर में शुक्रवार रात से बाजार, व्यावसायिक प्रतिष्ठान, सरकारी दफ्तरों की बंदी व आवजाही पर सख्ती से अमल शुरू हो गया। कानपुर सहित आसपास के जिलों में सुबह से ही पुलिस ने लोगों को रोक-रोककर उनसे घरों से निकलने का कारण पूछा। फर्रुखाबाद के लालगेट पर  गुजरने वाले लोगों को रोककर पूछताछ करने के बाद ही पुलिसकर्मियों ने किसी को आगे जाने दिया। वहीं औरैया, इटावा, महोबा, चित्रकूट, हरदोई, कन्नौज, फतेहपुर, उरई, जालौन, उन्नाव कानपुर देहात आदि जिलों में कहीं पर सख्ती नजर आई तो कहीं पर लोग आवागमन करते दिखे। और पढ़ें...
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us

विज्ञापन