विज्ञापन
विज्ञापन
मौनी अमावस्या पर गया में कराएं तर्पण, हर तरह के ऋण से मिलेगी मुक्ति : 24 जनवरी 2020
Astrology Services

मौनी अमावस्या पर गया में कराएं तर्पण, हर तरह के ऋण से मिलेगी मुक्ति : 24 जनवरी 2020

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

उत्तर प्रदेश

मंगलवार, 21 जनवरी 2020

राम मंदिर ट्रस्ट में किसी राजनीतिज्ञ को न शामिल करें, मंदिर निर्माण का श्रेय संतों को: प्रवीण तोगड़िया

अंतरराष्ट्रीय हिंदू परिषद के अध्यक्ष प्रवीण तोगड़िया ने कहा कि 450 वर्षों के संघर्ष के बाद अयोध्या में राम मंदिर बनने जा रहा है। इसका श्रेय 100 करोड़ हिंदुओ के त्याग और बलिदान को जाता है। मंदिर निर्माण के लिए संतों ने संघर्ष किया और आंदोलन का नेतृत्व किया। अब जब मंदिर निर्माण होने वाला है तो जरूरी है कि इसके लिए बनने वाले ट्रस्ट से राजनीतिज्ञों को दूर रखा जाए।

प्रवीण तोगड़िया अयोध्या में प्रेस कांफ्रेंस कर रहे थे। तोगड़िया ने कहा कि जिस प्रकार सोमनाथ मंदिर के सामने सरदार बल्लभ भाई पटेल व हमीर सिंह गोहिल की स्मृति है। उसी तरह अयोध्या में बनने वाले राम मंदिर में परमहंस, अवैद्यनाथ अशोक सिंघल, व बलिदानी कार सेवकों की स्मृति दिखाई देनी चाहिए जिससे यहां आने वाले श्रद्धालु उनका आशीर्वाद ले सके।

उन्होंने कहा कि मंदिर निर्माण का काम साधु संत खासकर वैष्णो संत व शंकराचार्य अखाड़े को करना चाहिए। इसे राजनीति का अखाड़ा नहीं बनाया जाना चाहिए। मंदिर का मॉडल कैसा होगा...? इस पर उन्होंने कहा कि इसे सरकार पर छोड़ देना चाहिए।

मुस्लिमों को पांच एकड़ जमीन दिए जाने के सवाल पर तोगड़िया ने कहा कि हमारी पहले से ही मांग रही है कि अयोध्या की सीमा में मस्जिद स्वीकार नहीं होगी। बाबर के नाम पर तो पूरे भारत में नहीं होगी। उन्होंने कहा कि ट्रस्ट  में शामिल होने को लेकर उनकी कोई रुचि नहीं है।
... और पढ़ें

जीरो बजट खेती देखने कानपुर पहुंचे गुजरात के राज्यपाल, स्वयं चलाकर देखे कृषि उपकरण

धूप निकलने से गलन भरी ठंड से मिली राहत, धूप सेंकते नजर आए लोग, आगे के लिए ये है मौसम का अपडेट

लखनऊ में बोले शाह- जिसको विरोध करना है करे, सीएए वापस नहीं होने वाला है

गृहमंत्री अमित शाह ने लखनऊ में नागरिकता संशोधन कानून के समर्थन में जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि इस कानून को लेकर देश को गुमराह किया जा रहा है। आज विपक्ष नागरिकता कानून का विरोध कर रहा है। यह सिर्फ एक दुष्प्रचार है। इससे किसी की नागरिकता नहीं जाएगी। 



अमित शाह ने कहा कि सीएए पर विरोधी पार्टियां दुष्प्रचार करके भ्रम फैला रही हैं, इसीलिए भाजपा जन जागरण अभियान चला रही है। यह देश को तोड़ने वालों के खिलाफ जन जागृति का अभियान है।

नरेन्द्र मोदी सीएए लेकर आए हैं। कांग्रेस, ममता बनर्जी, अखिलेश, मायावती, केजरीवाल सभी इस बिल के खिलाफ भ्रम फैला रहे हैं। इस बिल को लोकसभा में मैंने पेश किया है। मैं विपक्षियों से कहना चाहता हूं कि आप इस बिल पर सार्वजनिक रूप से चर्चा कर लो। ये अगर किसी भी व्यक्ति की नागरिकता ले सकता है तो उसे साबित करके दिखाओ।

गृहमंत्री शाह ने कहा कि देश में सीएए के खिलाफ भ्रम फैलाया जा रहा है, दंगे कराए जा रहे हैं। सीएए में कहीं पर भी किसी की नागरिकता लेने का कोई प्रावधान नहीं है, इसमें नागरिकता देने का प्रावधान है।
 
... और पढ़ें
गृहमंत्री अमित शाह। गृहमंत्री अमित शाह।

गृहमंत्री अमित शाह की रैली पर अखिलेश का तंज, बाबा इस बार जाना... तो लौट कर कभी न आना

गृहमंत्री अमित शाह की नागरिकता कानून को लेकर लखनऊ में की गई रैली पर सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने तंज किया है। उन्होंने ट्वीट कर कहा कि प्रदेश में एक बाबा कम थे क्या जो दूसरे बाबा अपना प्रवचन देने आ गये। इन ढोंगी बाबाओं ने जिस तरह जनता के विश्वास के साथ छल किया है उसकी वजह से सीए पर समर्थन के लिए इनकी झोली में जनता कुछ भी नहीं डालेगी। जनता झूठे बाबा से यही कहेगी...  बाबा इस बार जाना... तो लौट कर कभी न आना।
 


बता दें कि अमित शाह ने रैली में कांग्रेस नेता राहुल गांधी, सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव व बसपा सुप्रीमो मायावती पर निशाना साधा और कहा कि राहुल गांधी व सपा-बसपा के नेताओं की भाषा पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान की तरह है। ये लोग वोटबैंक के लिए देश विरोधियों का समर्थन कर रहे हैं।

रैली में प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी सपा व कांग्रेस पर नागरिकता कानून को लेकर बवाल करवाने का आरोप लगाया। उन्होंने भाजपा कार्यकर्ताओं से अपील की कि गांव-गांव जाएं और नागरिकता कानून पर फैले दुष्प्रचार को दूर करें।
... और पढ़ें

वाह ताज! खूबसूरती पर फिदा हुए अमेजन के सीईओ, महिला मित्र के साथ खिंचाए फोटो

ताजमहल दुनिया में प्रसिद्घ है और यहां हर कोई एक बार आने की ख्वाहिश रखता है। अमेजन के सीईओ जेफ बेजोस ने मंगलवार को अपनी महिला मित्र लॉरेन सांचेज के साथ ताजमहल का दीदार किया।

दुनिया के सबसे अमीर लोगों में शुमार बेजोस संगमरमरी स्मारक की खूबसूरती पर फिदा हो गए। काफी देर तक वह न सिर्फ स्मारक को निहारते रहे बल्कि अपनी महिला मित्र के साथ खूब फोटो भी खिंचवाए।

जेफ बेजोस दोपहर लगभग 12 बजे अपने प्रतिनिधिमंडल के साथ ताजमहल पर पहुंचे। उनके साथ उनकी महिला मित्र भी थीं। लगभग दो घंटे तक ताज के साये में दोनों ने वक्त गुजारा।

मुख्य स्मारक की खूबसूरती देख वह मंत्रमुग्ध हो गए। साथ चल रहे गाइड से उन्होंने स्मारक की पच्चीकारी और इसके इतिहास के बारे में जानकारी हासिल की। उन्होंने शाहजहां और मुमताज की मोहब्बत के बारे में भी जाना। गाइड उनके साथ ही आया था। सेंट्रल टैंक और स्मारक के अन्य हिस्सों में उन्होंने फोटो भी खिंचवाए।
... और पढ़ें

कतर इंटरनेशनल आर्ट फेस्टिवल में छाई लखनऊ की बेटी, किया देश का नाम रोशन

ताजमहल पर अमेजन कंपनी के संस्थापक और सीईओ जेफ बेजोस
कला और संस्कृति के क्षेत्र में खास पहचान रखने वाले लखनऊ के हिस्से में एक और उपलब्धि जुड़ गई है। यहां की कलाकार खंसा उम्मे, कतर आर्ट फेस्टिवल जीतने वाली पहली भारतीय महिला बन गई हैं। चौक के ठाकुरगंज की रहने वाली खंसा सोमवार को शहर पहुंचीं।

उन्होंने बताया कि नवंबर में आयोजित इस फेस्टिवल के कई चरण होते हैं। आखिरी दौर में निर्णायकों के बताए विषय पर लाइव पेंटिंग करनी होती है। केंद्रीय विद्यालय, लालबाग गर्ल्स कॉलेज, अवध गर्ल्स कॉलेज और लखनऊ विश्वविद्यालय से शिक्षा ग्रहण करने वाली खंसा बताती हैं कि फेस्टिवल के प्रारंभिक दौर में 70 देशों के कलाकारों ने हिस्सा लिया था।
... और पढ़ें

अयोध्या फैसले से पहले डॉ. बम करना चाहता था बड़ी वारदात, सात आतंकी पहुंचे थे अयोध्या

90 के दशक में देशभर में बम धमाके करके दहशत फैलाने वाला डॉक्टर जलीस अंसारी उर्फ डॉ. बम अजमेर जेल में बैठकर आईएसआई का नेटवर्क हैंडल कर रहा था। अयोध्या मसले पर फैसला आने से कुछ दिन पहले बड़ी वारदात को अंजाम देने के लिए उसने नेपाल के रास्ते आतंकियों की घुसपैठ करवाई थी। हालांकि सुरक्षा एजेंसियों की सतर्कता की वजह से वह अपने मंसूबों में कामयाब नहीं हो पाया।

इन सबका खुलासा होने के बाद एटीएस की एक टीम अजमेर जेल में जलीस की हाई सिक्योरिटी बैरक में पड़ताल करने पहुंची है। आशंका है कि कानपुर के फेथफुलगंज में रहने वाला डॉ. बम का पुराना साथी कयूम पूर्वी यूपी की कमान संभाल रहा था।
... और पढ़ें

अमेठी में ट्रक व बोलेरों की भीषण टक्कर में प्रधान पति सहित छह की मौत, मृतकों में तीन एक ही परिवार के

जिला अस्पताल में भर्ती मरीज को देखकर घर लौट रहे बोलेरो सवार लोगों को तेज रफ्तार ट्रक ने बारामासी बाजार के पास टक्कर मार दी। ट्रक की टक्कर से बोलेरो के परखच्चे उड़ गए। चीख-पुकार के बाद पहुंचे स्थानीय लोगों की मदद से पुलिस कर्मियों ने क्षतिग्रस्त बोलेरो में फंसे सभी लोगों को गेट व शीशा तोड़कर बाहर निकाला और अस्पताल पहुंचाया, जहां चिकित्सकों ने पूर्व प्रधान समेत पांच लोगों को मृत घोषित कर दिया।

हादसे में घायल एक युवक को चिकित्सकों ने ट्रॉमा सेंटर लखनऊ रेफर कर दिया, जहां उपचार के दौरान उसकी भी मौत हो गई। एक साथ छह लोगों की मौत की सूचना के बाद पुलिस अधिकारी मौके पर पहुंचे और घटना स्थल का निरीक्षण किया। पुलिस ने पूर्व प्रधान के भाई की तहरीर पर ट्रक चालक के खिलाफ केस दर्ज कर वाहन को कब्जे में ले लिया है।

अमेठी कोतवाली क्षेत्र के गांव पूरे गणेशलाल मजरे भरेथा निवासी कल्पनाथ (45) पूर्व में ग्राम प्रधान रह चुके हैं। वर्तमान समय में उनकी पत्नी मिथिलेश देवी ग्राम प्रधान हैं। पूर्व प्रधान कल्पनाथ कश्यप सोमवार की रात संयुक्त जिला अस्पताल में भर्ती दूधनाथ पाल को देखकर बोलेरो से अपने बड़े भाई धीरज कश्यप (49), चचेरे भाई बैजनाथ कश्यप (45), गांव के ही श्रीचंद कश्यप (48) और क्षेत्र के टोला मजरे हथकिला निवासी सुरेंद्र कश्यप (42) के साथ घर लौट रहे थे।

बोलेरो को मनोज कुमार उर्फ मोनू यादव (25) निवासी पूरे विंध्यालाल मजरे गुंगवाछ चला रहा था। रात करीब 10 बजे सभी लोग प्रतापगढ़-जगदीशपुर मार्ग स्थित बारामासी बाजार के पास पहुंचे थे तभी यूरिया खाद से लदे एक तेज रफ्तार ट्रक ने सामने से टक्कर मार दी। ट्रक की टक्कर से बोलेरो के परखच्चे उड़ गए। टक्कर के बाद आस-पास मौजूद लोगों की सूचना के बाद पहुंचे पुलिस कर्मियों ने क्षतिग्रस्त बोलेरो में फंसे सभी लोगों को गेट व शीशा तोड़कर बाहर निकाला।
... और पढ़ें

गणतंत्र दिवस: सोशल मीडिया पर पुलिस की पैनी नजर, आपत्तिजनक पोस्ट करने पर होगी कड़ी कार्रवाई

जनवरी 2018 में गणतंत्र दिवस पर तिरंगा यात्रा के दौरान हुई हिंसा को लेकर पुलिस कड़ी सतर्कता बरत रही है। आने वाले गणतंत्र दिवस पर पुलिस सोशल मीडिया और आंतरिक रूप से टिप्पणी करने वालों पर कड़ी निगरानी कर रही है। पुलिस ने टीमें गठित कर दी हैं। यह टीमें सभी सोशल साइट्स पर प्रतिदिन नजर रखेंगी। यदि किसी ने आपत्तिजनक पोस्ट की तो पुलिस उसके खिलाफ अराजकता का माहौल पैदा करने के मामले में कार्रवाई करेगी।

विगत 26 जनवरी 2018 को जब कासगंज में गणतंत्र दिवस का जश्र मनाया जा रहा था उस समय तिरंगा यात्रा के दौरान दो समुदायों में विवाद हो गया था। इस दौरान गोली लगने से एक युवक की मौत हुई थी और एक युवक घायल हुआ था। इसके बाद शहर में हिंसा भड़क गई।

पुलिस प्रशासन ने कड़ी मशक्कत के बाद बवाल पर काबू पाया। तब से पुलिस गणतंत्र दिवस और स्वतंत्रता दिवस पर विशेष सतर्कता बरत रही है। पारंपरिक आयोजनों को छोड़कर किसी भी नए आयोजन की अनुमति नहीं दी जा रही।
... और पढ़ें

बंदरों से 'बेबस' जनता को वन विभाग से भी नहीं सहारा, निजी खर्च पर पकड़वाने की दी सलाह

बंदरों के उत्पात से फिलहाल राहत मिलती नजर नहीं आ रही। नगर पालिका पहले ही वन विभाग के ऊपर जिम्मा डालकर अपना पल्ला झाड़ चुकी है। अब वन विभाग ने भी हाथ खड़े कर दिए हैं। वन विभाग ने लिखित में कहा कि उनके पास बंदर पकड़ने के लिए कोई व्यवस्था नहीं है। जनता को निजी खर्च पर पेशेवर लोगों से बंदर पकड़वाने की सलाह दी है।
 
शहर के छह से अधिक मोहल्ले के लोग बंदरों के उत्पात से परेशान हैं। एक व्यक्ति ने ऑनालइन आईजीआरएस पर बंदरों को पकड़वाने के लिए शिकायत की थी। ये शिकायत वन विभाग को भेज दी गई लेकिन इसमें लगाई गई रिपोर्ट ने सभी को हैरान कर दिया।

वन विभाग के अधिकारियों ने अपनी रिपोर्ट में साफ लिखा है कि वे बंदरों को पकड़वाने में असमर्थ हैं। क्योंकि उनके पास कोई प्रशिक्षित टीम नहीं है। ऐसे में उन्होंने कुछ निजी लोगों के नाम भी सुझाएं हैं। ये वे लोग हैं जो निजी खर्च पर बंदर पकड़ने का काम करते हैं। उनसे संपर्क कर बंदर पकड़वाने की बात कही गई है। ऐसे में फिर आगरा रोड स्थित राजीव गांधी नगर, कृष्णा नगर, बाईपास रोड, नगला दौलत, सिंधिया तिराहा आदि कॉलोनियों के लोगों को झटका लगा है। 
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election
  • Downloads

Follow Us

विज्ञापन