विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
नवरात्र में कराएं कामाख्या बगलामुखी कवच का पाठ व हवन, पाएं कर्ज मुक्ति एवं शत्रुओं से छुटकारा
Astrology Services

नवरात्र में कराएं कामाख्या बगलामुखी कवच का पाठ व हवन, पाएं कर्ज मुक्ति एवं शत्रुओं से छुटकारा

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

उत्तराखंड

रविवार, 29 मार्च 2020

Uttarakhand Lockdown: आपके घर जरूरत का सामान पहुंचाएंगे डिलीवरी ब्वाय, यहां देखें नाम और नंबर की लिस्ट...

प्रदेशभर में चल रहे कोरोना लॉकडाउन के बीच देहरादून के डीआईजी अरुण मोहन जोशी ने घर-घर सामान पहुंचाने के लिए नई व्यवस्था की है। उन्होंने क्षेत्रवार ऐसे डिलीवरी ब्वायज के नाम और उनके फोन नंबर जारी किए हैं। कोई भी जरूरतमंद व्यक्ति इन नंबरों पर फोन करके अपने घर का सामान मंगा सकता है। इसके बदले में उन्हें डिलीवरी ब्वायज को मामूली खर्च देना होगा।



डीआईजी अरुण मोहन जोशी ने बताया कि लॉकडाउन के चलते लोगों के कम से कम घर से बाहर निकलने की प्रक्रिया के तहत यह उपाय किया गया है। पुलिस की मदद से जिलेभर की ऐसी दुकानें और उनके डिलीवरी ब्वायज को चिन्हित किया गया है।

सभी क्षेत्रों में अलग-अलग पुलिस की ड्यूटी भी लगा दी गई है ताकि लोगों को आसानी से सामान मिलता रहे। किसी तरह की भी कोई परेशानी न हो। उन्होंने सभी लोगों से अपील की है कि वह लॉकडाउन के बीच बेवजह अपने घर से बाहर न निकलें। इसके बजाए अपने घर में ही रहकर डिलीवरी ब्वायज को फोन करके सामान मंगाएं।

डिलीवरी बॉय के नाम और नंबर देखने के लिए यहां करें क्लिक...

https://spiderimg.amarujala.com/assets/applications/2020/03/27/dm_5e7e21aa95539.pdf
... और पढ़ें

Coronavirus : देश-विदेश में शोध करने गए विभिन्न संस्थानों के वैज्ञानिक लौटे देहरादून, खुद को किया क्वारंटीन

देश दुनिया में कोरोना वायरस का खतरा जहां सिर चढ़कर बोल रहा है, वहीं देश के साथ ही विदेशों में हो रहे तमाम वैज्ञानिक शोध पूरी तरह ठप हो गए हैं।

देहरादून स्थित भारतीय वन्यजीव संस्थान, वाडिया इंस्टीट्यूट ऑफ हिमालयन जियोलॉजी, भारतीय वन अनुसंधान संस्थान, जूलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया, बोटैनिकल सर्वे ऑफ इंडिया, व भारतीय वन सर्वेक्षण समेत दर्जनभर संस्थानों के जो वैज्ञानिक देश के साथ ही विदेशों में वैज्ञानिक शोध करने गए थे। वह सभी देहरादून लौट आए हैं।

इतना ही नहीं कोरोना वायरस से खौफजदा इन तमाम वैज्ञानिकों ने फिलहाल वैज्ञानिक शोधों का काम पूरी तरह रोक दिया है। इन तमाम वैज्ञानिकों के निवेशकों की ओर से सख्त हिदायत दी गई है कि वे घरों में ही रहे और लॉक डाउन के कानूनों का पालन करें।
... और पढ़ें

Uttarakhand lockdown: आरएसएस ने चलाया अभियान, हेल्पलाइन नम्बर भी जारी

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की ओर से जरूरतमंद लोगों की मदद को व्यापक अभियान चलाया जा रहा है। भूखों को खाना परोसा जा रहा है तो जरूरतमंदों को राशन दिया जा रहा है। संघ ने जरूरतमंदों की मदद को हेल्पलाइन नंबर 9410770763 जारी किया है।

संघ महानगर इकाई की ओर से कई टोलियां बनाई गई हैं। जो हर जरुरतमंद तक मदद पहुंचाने में जुटी हुई हैं। राशन के पैकेट तैयार किए गए, जिनमें दाल, आटा-चावल व अन्य आवश्यक सामग्री दी जा रही है। निराश्रित लोगों को पकाया खाना दिया जा रहा है।

लोगों को कोरोना बीमारी को लेकर भी जागरूक किया जा रहा। सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने को कहा जा रहा है। 1000 परिवारों को लाभ दिया जा चुका है। कहा गया कि जरूरतमंदों की मदद को एक कंट्रोल रूम बनाया गया है। उनके हेल्पलाइन नंबर पर जरूरतमंद लोग आवश्यक मदद मांग सकते है।
... और पढ़ें

Uttarakhand Lockdown: 31 मार्च को दूसरे जिलों में आवाजाही की छूट, चलेंगी रोडवेज बस और प्राइवेट वाहन

राज्य सरकार लॉकडाउन में 31 मार्च को जनता को बड़ी राहत देने जा रही है। सुबह सात बजे से रात आठ बजे तक एक जिले से दूसरे जिले में जाने की सुविधा दी जाएगी। इस दौरान रोडवेज की बसों के अलावा अन्य निजी दुपहिया और चौपहिया वाहन भी चल सकेंगे।

यह व्यवस्था केवल राज्य के भीतर यातायात के लिए रहेगी। लॉकडाउन के शेष दिनों में सुबह सात से दोपहर एक बजे तक के दौरान ही आवश्यक वस्तुओं की खरीद के लिए लोग घरों से निकल पाएंगे।  मुख्यमंत्री की उच्च अधिकारियों के साथ हुई बैठक में लॉकडाउन को लेकर विस्तार से चर्चा हुई।

दिन में आवश्यक वस्तुओं की खरीद के लिए तय समय अवधि से मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत सहित अन्य उच्च अधिकारी संतुष्ट हैं। जिलों से आई रिपोर्टों में राहत अवधि को सोशल डिस्टेंसिंग के मुफीद माना गया है।
... और पढ़ें
त्रिवेंद्र सिंह रावत, मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत, मुख्यमंत्री

Coronavirus : उत्तराखंड में सामने आया कोरोना का छठवां केस, 18 मार्च को दुबई से लौटा था युवक

उत्तराखंड में कोरोना वायरस का एक और पॉजिटिव मामला सामने आया है। दुबई से लौटा दून का एक युवक कोरोना वायरस से ग्रसित पाया गया है। मेडिकल कॉलेज हल्द्वानी की जांच रिपोर्ट में युवक का सैंपल पॉजिटिव मिला है। संक्रमित युवक को दून अस्पताल के आईसोलेशन में भर्ती करने के साथ ही उसके परिवार के चार सदस्यों को भी निगरानी में रखा गया है।



दून निवासी एक युवक दुबई से लौटा था। तेज बुखार आने पर 18 मार्च को उसे श्री महंत इन्दिरेश अस्पताल की ओपीडी में जांच के लिए लाया गया था। कोरोना वायरस संक्रमण के लक्षणों के आधार पर युवक का सैंपल 26 मार्च को जांच के लिए मेडिकल कॉलेज हल्द्वानी भेजा गया था। सैंपल जांच में युवक में कोरोना वायरस होने की पुष्टि हुई है। संक्रमित युवक के परिवार के चार सदस्यों को भी निगरानी के लिए क्वारंटीन किया गया है। हालांकि किसी
भी सदस्य में कोरोना वायरस के संदिग्ध लक्षण नहीं मिले हैं।

इधर प्रदेश में अब तक कोरोना के छह मामले सामने आ चुके हैं। इनमें से एक संक्रमित ट्रेनी आईएफएस के स्वास्थ्य में सुधार होने के बाद उसे घर भेज दिया गया है। जबकि चार संक्रमित मरीजों का दून अस्पताल और एक का कोटद्वार में इलाज चल रहा है।
... और पढ़ें

Uttarakhand Lockdown: अब होम क्वारंटीन लोगों के घर के आगे लगेगा बोर्ड

स्पेन से दुगड्डा लौटे युवक के कोरोना पॉजिटिव मिलने के बाद उसके और उसके परिजनों के संपर्क में आए लोगों की सूची प्रशासन ने तैयार कर ली है। इसके तहत दुगड्डा और कोटद्वार के तीन अन्य लोगों को होम क्वारंटीन कर दिया गया है।

अब कोटद्वार में क्वारंटीन लोगों की संख्या बढ़कर 17 हो गई है, जिसमें छह लोग क्वारंटीन सेंटर जबकि 11 लोग होम क्वारंटीन किए गए हैं। इन सभी लोगों की नियमित निगरानी के लिए प्रशासन की ओर से वरिष्ठ अधिकारियों की टीम गठित की गई है। साथ ही होम क्वारंटीन लोगों के घर के आगे सूचना बोर्ड भी लगाया जाएगा।

स्पेन से गत 17 मार्च को दुगड्डा अपने घर लौटे 26 वर्षीय युवक को पीएचसी दुगड्डा में प्रारंभिक जांच करने के बाद गत 19 मार्च को बेस अस्पताल कोटद्वार में भर्ती कराया गया था। 25 मार्च को हल्द्वानी से आई रिपोर्ट में युवक कोरोना पॉजिटिव पाया गया था। इसके बाद उसे आइसोलेशन वार्ड में भर्ती करते हुए उसके माता, पिता, बहन, काम वाली बाई, चाचा, ताऊ को कण्वाश्रम स्थित क्वारंटीन सेंटर भेज दिया गया।

युवक के उपचार करने वाले तीन डॉक्टर, चार नर्स और दो सफाई कर्मियों को भी स्वास्थ्य विभाग ने होम क्वारंटीन कर दिया था। इसके बाद प्रशासन ने युवक के संपर्क में आए दुगड्डा और कोटद्वार के 2 अन्य लोगों को चिह्नित करते हुए उन्हें भी होम क्वारंटीन करने के निर्देश दिए। बेस अस्पताल के मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डा. वीसी काला ने बताया कि क्वारंटीन लोगों की निगरानी के लिए बनी टीम को अलर्ट कर दिया गया है।

चमोली में विदेशों से पहुंचे 29 लोग होम क्वारंटीन

चमोली जिले में विदेश से पहुंचे 56 लोगों में से 29 को होम क्वारंटीन किया गया है, जबकि 27 लोगों के होम क्वारंटीन की अवधि 28 दिन होने के कारण उन्हें निगरानी से बाहर कर दिया गया है। जिले में देश के विभिन्न जिलों से लगभग 1800 लोग पहुंचे। सीएमओ डा. केके सिंह ने बताया कि आठ लोगों को स्वास्थ्य विभाग की ओर से कर्णप्रयाग और कालेश्वर में क्वारंटीन किया गया है। जिले में स्थिति पूरी तरह काबू में है।
... और पढ़ें

Uttarakhand Lockdown:  चंडीगढ़ से पैदल भूखे प्यासे लौट रहे मजदूरों पर बदमाशों का कहर

कोरोना वायरस के चलते रोजी रोटी छिनने के बाद चंडीगढ़ से भूखे-प्यासे पैदल गोरखपुर जा रहे चार मजदूरों के साथ सहारनपुर जिले में बदमाशों ने लूटपाट कर दी। हथियार दिखाकर बदमाशों ने उनके पास रखी दो हजार की नकदी लूट ली और फरार हो गए। किसी तरह पीड़ित मजदूर भगवानपुर की काली नदी चौक पर पहुंचे।

यहां उत्तराखंड की ‘मित्र पुलिस’ ने अपने स्लोगन को चरितार्थ करते न केवल मजदूरों को खाना खिलाया बल्कि तेल के टैंकर से निशुल्क गोरखपुर जाने की व्यवस्था भी कर दी। गोरखपुर निवासी रामधन, सुरेश कुमार, जनार्दन लाल और धर्मदास चंडीगढ़ स्थित एक फैक्टरी में मजदूरी करते थे। लॉकडाउन होने के कारण फैक्टरी मालिक ने उनको बाहर निकाल दिया।

रोजी रोटी का संकट खड़ा होने के बाद उन्हें केवल घर दिखाई दे रहा था। उन्होंने बताया कि घर आने के लिए कोई साधन नहीं मिला तो पैदल ही गोरखपुर के लिए निकल पड़े। शनिवार रात जैसे ही उन्होंने सहारनपुर जिले में प्रवेश किया तो रास्ते में दो बदमाशों ने हथियारों के बल पर रोक लिया।

बदमाशों ने उनसे दो हजार की नगदी लूट ली और विरोध करने पर मारपीट कर फरार हो गए। तड़के करीब चार बजे वे भगवानपुर क्षेत्र की काली नदी पुलिस चौकी पर पहुंचे। यहां पुलिस को अपनी आपबीती बताते समय पीड़ित मजदूर रोने लगे और कहा कि भूखे पेट पैदल चला नहीं जा रहा है।

चौकी प्रभारी प्रदीप रावत ने पुलिस कर्मचारियों से खाना तैयार कराया और चारों मजदूरों को खाना खिलाया। इसके बाद एक तेल के टैंकर पर बैठाकर उनको गोरखपुर भेजा दिया। एसआई प्रदीप रावत ने बताया कि रात में चारों मजदूरों को सहारनपुर जिले में लूट लिया गया था। उन्हें पुलिस चौकी पर खाना खिलाकर भेजा गया है।
... और पढ़ें

उत्तराखंड : हिमखंड से चांगथांग में गंगोत्री हाईवे अवरुद्ध, बीआरओ की टीम काटने में जुटी

प्रतीकात्मक तस्वीर

Uttarakhand Lockdown: घर में पिता की मौत, दोनों लड़के दिल्ली में फंसे, सांसद की मदद से पहुंचे घर

घर में पिता की मौत हो गई। लॉकडाउन के कारण दोनों लड़के दिल्ली से घर वापस नहीं लौट पा रहे थे। ऐसे में सांसद अजय टम्टा मददगार बनकर सामने आए। सांसद ने मृतक के दोनों लड़कों और बहू को घर भेजने में मदद की। शनिवार को घर पहुंचकर पुत्रों ने पिता का अंतिम संस्कार किया।

मिली जानकारी के अनुसार जिले के गांसी गांव निवासी मानी राम (70) की शुक्रवार शाम करीब 4 बजे मृत्यु हो गई थी। मृतक के दोनों लड़के प्रताप कुमार और गणेश राम दिल्ली में निजी कंपनी में नौकरी थे। परिजनों ने लड़कों को मानी राम का निधन होने की सूचना दी, लेकिन दोनों पुत्रों और उनके साथ रह रही मृतक की बहू कलावती देवी के सामने घर लौटने की समस्या पैदा हो गई।
... और पढ़ें

Uttarakhand Lockdown: 24 घंटे में पकड़े गए 183 लोग, लॉकडाउन के उल्लंघन पर पुलिस की कार्रवाई जारी

उत्तराखंड में अब तक कोरोना के छह पॉजिटिव केस सामने आए हैं। जिसमें से एक ट्रेनी आईएफएस सही हो गया है। उसे शुक्रवार को अस्पताल से डिस्चार्ज कर दिया गया। अब पांच संक्रमित मरीज दून मेडिकल कॉलेज अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में भर्ती हैं।

आज दिनभर की अपडेट:

- लॉकडाउन के उल्लंघन को लेकर पुलिस की कार्रवाई जारी है। 24 घन्टे में 183 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। कोरोना वायरस संक्रमण से बचाव को लागू लॉकडाउन के उल्लघंन के आरोप में 183 लोगों की गिरफ्तारी की गई। प्रदेश में 308 अभियोगों में 1711 लोग पकड़े गए हैं। एमवी एक्ट के तहत अब तक  27,85,520 रूपये का संयोजन शुल्क वसूला गया है। डीजी अपराध अशोक कुमार ने कहा कि लोग लॉकडाउन का पालन करें, पुलिस  को कार्रवाई के लिए मजबूर ना करें।

- शनिवार को देहरादून जिला प्रशासन ने शहर के विभिन्न दुकानों पर छापा मारा और ओवर रेटिंग पकड़ी इस दौरान पांच दुकानों का चालान किया गया। पिछले 22 मार्च से चल रहे लॉकडाउन के चलते जिले में राशन और अन्य खाद्य सामाग्री ज्यादा कीमतों पर बेची जा रही है। दुकानदार बाजार में आवश्यक चीजों की कमी बताकर लोगों से मनमाने दाम वसूल रहे थे। इस प्रकार की शिकायतें लगातार सामने आने लगी थी।

शनिवार को जिलाधिकारी के निर्देश के बाद जिलापूर्ति अधिकारी ने टीमों का गठन कर शहर के विभिन्न क्षेत्रों में दुकानों पर छापा मारा। तपोवन, नालापानी चौक, डीएवी चौक,आढ़त बाजार में छापेमारी के दौरान टीम ने कई खामियां पकड़ी। जिसके बाद जिलापूर्ति विभाग की टीम ने इन दुकानों का ओवर रेंटिग में चालान कर दिया और दुकानदारों को सख्त निर्देश दिए कि अगर ओवररेटिंग की तो उनके खिलाफ मुकदमा दर्ज कर सख्त कार्रवाई की जाएगी। जिलापूर्ति अधिकारी जसवंत सिंह कंडारी ने कहा कि शहर में ओवररेटिंग के खिलाफ लगातार कार्रवाई की जाएगी। जो भी  दुकानदार ओवररेटिंग करते हुए पाया गया उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। 

- ट्रेनी आईएएस अधिकारी जरूरतमंदों की मदद के लिए सड़कों पर उतरे। कोरोना वायरस से निपटने के लिए पूरे देश को लॉकडाउन किया गया है। जिसके बाद दिहाड़ी मजदूरी करने वाले लोगों को खाने-पीने का संकट उत्पन्न हो गया है। जिसे देखते हुए शनिवार को एसडीएम वरुण चौधरी के नेतृत्व में भाजपा और व्यापार मंडल के साथ कई ट्रेनी आईएएस अफसरों ने भी गरीब मजदूरों को राशन बांटा।

ट्रेनी आईएएस नंदिनी, राज, राहुल, मयंक, ललित गोयल, डा. नेहा यादव व आईएसएस ट्रेनिंग की शिक्षक भावना पोरवाल ने कहा कि इस समय देश संकट में है और ऐसे में सभी लोगों की जिम्मेदारी है कि वह सरकार और प्रशासन का सहयोग करें।

- देहरादून के होटल और सेलाकुई में कुछ दिन रहे विदेशी युवक की नोएडा में कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। जिसके बाद स्वास्थ्य विभाग में हड़कंप मच गया है। पुलिस और स्वास्थ्य विभाग की टीम उक्त होटल में रहे लोगों और सेलाकुई में उक्त युवक से मिले लोगों की सूची बना रही है। जिसके बाद इन सभी की जांच होगी और इन्हें क्वारंटीन किया जाएगा।

- उत्तराखंड में कोरोना वायरस से ग्रसित एक और मरीज मिला है। जिसके बाद अब राज्य में कोरोना के छह पॉजिटिव मामले हो गए हैं। जिनमें से एक मरीज सही हो चुका है। जानकारी के मुताबिक उक्त युवक देहरादून का रहने वाला है और 18 मार्च को दुबई से लौटा था। 

- लॉकडाउन के कारण मुर्गी का दाना उपलब्ध ना होने से पोल्ट्री फार्मिंग करने वालों के सामने भारी परेशानी आन पड़ी है। ऊधम सिंह नगर  के शक्तिफार्म के एक किसान ने करीब 8000 मुर्गियों को दाने के अभाव में बाहर खुले में छोड़ दिया।

- दिल्ली से चंपावत आ रही रोडवेज बस में सवार एक नेपाली यात्री की कोरोना वायरस की रिपोर्ट निगेटिव आई है। ये यात्री 23 मार्च को जिले की सीमा जगबुड़ा में दो बसों में 63 अन्य मुसाफिरों के साथ पहुंचा था। तब जगबुड़ा में हुई स्क्रीनिंग में दोनों बसों के एक-एक यात्री को हल्का बुखार पाया गया था। शुरुआती लक्षण के बाद एसीएओ डॉ. एचएस हयांकी ने इस नेपाली की स्लाइड जांच तीन दिन पूर्व हल्द्वानी सुशीला तिवारी अस्पताल भेजी थी। डीएम सुरेंद्र नारायण पांडेय ने बताया कि जांच रिपोर्ट निगेटिव आई है। मगर नेपाली व्यक्ति को अभी भी 14 दिन के क्वारंटीन में टनकपुर में रखा जाएगा। जबकि बकाया 63 यात्रियों को उनके घरों को भेज दिया गया है। जहां उन्हें भी होम क्वारंटीन में रहने की हिदायत दी गई है और इसकी जानकारी उनके क्षेत्रों की आशा व आंगनबाड़ी वर्कर्स को दे दी गई है।

- आज बाजारों में पूरी तहर सन्नाटा दिखाई दिया। लोग घरों से नहीं निकले। दोपहर एक बजे दुकानें बंद करने के आदेश थे, लेकिन उससे पहले ही सड़कें वीरान हो गई।

- पास बनवाने के लिए देहरादून कलेक्ट्रेट में काफी भीड़ पहुंची है। यहां मारामारी का आलम है। यहां लोग सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं कर रहे हैं। मसूरी झील क्षेत्र में मजदूरी करने वाले पैदल ही बनारस के लिए चल दिए।
 
... और पढ़ें

रुड़की : हाईवोल्टेज के चलते बीएसएनल एक्सचेंज जलकर राख, 50 हजार मोबाइल बने शोपीस

कोरोना के खिलाफ जारी लड़ाई के बीच शुक्रवार देर रात आग लगने से बीएसएनएल का मलकपुर चुंगी स्थित टेलीफोन एक्सचेंज जलकर राख हो गया। इससे शहर से देहात तक बीएसएनएल के 50 हजार मोबाइल, 2500 लैंडलाइन व ब्राडबैंड कनेक्शन ठप हो गए हैं। आग से एक करोड़ रुपये की मशीनें और अन्य सामान जलने की आशंका जताई जा रही है।

उम्मीद है कि मोबाइल सेवा तो जल्द बहाल कर ली जाएगी जबकि लैंडलाइन और ब्राडबैंड सेवा सुचारु होने में 15 से 20 दिन लग सकते हैं। जानकारी के मुताबिक, बीएसएनएल के टेलीफोन एक्सचेंज के अंडरग्राउंड केबल में
तेज वोल्टेज आने से रात करीब आठ बजे भीषण आग लग गई। सूचना मिलते ही बीएसएनएल अधिकारी मौके की ओर दौड़ पड़े।

कुछ देर बाद फायर ब्रिगेड की गाड़ी भी मौके पर पहुंची, लेकिन तब तक पूरा एक्सचेंज जलकर राख चुका था। सारी मशीनें जलने से रात में बीएसएनएल के 50 हजार मोबाइल ठप हो गए। इसके अलावा 1500 लैंडलाइन कनेक्शन और ब्राडबैंड भी ठप हो गए।

आग लगने से शहर के साथ-साथ देहात क्षेत्र के लक्सर, भगवानपुर, झबरेड़ा, नारसन, मंगलौर में भी बीएसएनएल के लैंडलाइन और मोबाइल फोन ठप पड़ गए। बीएसएनएल के मंडल इंजीनियर विवेक कुमार ने बताया कि पूरा एक्सचेंज जलकर राख हो गया है।
... और पढ़ें

Uttarakhand lockdown: देहरादून में महंत इंद्रेश अस्पताल के दस कर्मचारी किए गए क्वारंटीन

देहरादून में कोरोना संक्रमित युवक के संपर्क में आए श्री महंत इंद्रेश अस्पताल के 10 कर्मचारियों को होम क्वारंटीन किया गया है। दरअसल, सेलाकुई निवासी जिस युवक में शनिवार को कोरोना की पुष्टि हुई है, वह 18 मार्च को दुबई से देहरादून लौटा था। दिक्कत लगने पर उसने 19 मार्च को श्री महंत इंद्रेश अस्पताल की फ्लू ओपीडी में डॉक्टर से चेकअप कराया था, 25 तारीख को स्वास्थ्य विभाग की ओर से उसका सैंपल जांच के लिए भेजा गया था।

शनिवार को जबकि उसकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई तो श्री महंत इंद्रेश अस्पताल में भी हड़कंप मच गया। स्वास्थ्य विभाग की ओर से अस्पताल प्रशासन को बताया गया कि जो भी डॉक्टर या कर्मचारी युवक के संपर्क में आए होंगे उनको 14 दिन के लिए होम क्वारंटीन कर दिया जाए।

पता लगा कि जिन डॉक्टर ने युवक की जांच की थी उन्होंने उस वक्त पर्सनल प्रोटेक्शन एग्जामिनेशन किट पहनी हुई थी। जबकि रजिस्ट्रेशन काउंटर पर युवक का ओपीडी कार्ड बनाने वाले एक कर्मचारी, तीन एक्स-रे टेक्नीशियन व 06 केमिस्ट को होम क्वारंटीन कर दिया गया है। अस्पताल के वरिष्ठ जनसंपर्क अधिकारी भूपेंद्र रतूड़ी ने इसकी पुष्टि करते हुए बताया कि स्वास्थ्य विभाग के निर्देशों का पालन किया जा रहा है। साथ ही युवक के संपर्क में आए अन्य कर्मचारियों को भी चिन्हित किया जा रहा है।
... और पढ़ें

Uttarakhand lockdown: मंत्रालय ने उठाया कदम, आईजीएनएफआए के 71 ट्रेनी आईएफ़एस को लंबे अवकाश पर भेजा

इंदिरा गांधी नेशनल फॉरेस्ट अकेडमी में प्रशिक्षण ले रहे 2019-21 मैच के 71 ट्रेनी आईएफ़एस अफसरों को लंबे अवकाश पर बने रहने के आदेश जारी किए गए हैं। केंद्रीय वन, पर्यावरण एवं जलवायु परिवर्तन मंत्रालय ने कोरोनावायरस के मद्देनजर आदेश जारी किया है कि जब तक कोरोना वायरस का संक्रमण खत्म ना हो जाए अफसरों को प्रशिक्षण के लिए ना बुलाया जाए।

2018 -20 बैच के 73 अधिकारियों के प्रशिक्षण पर भी ग्रहण लग गया है, एकेडमी के एडिशनल डायरेक्टर एसके अवस्थी ने बताया कि कोरोना वायरस का संक्रमण फैलने से पहले एकेडमी मैं प्रशिक्षण ले रहे 2019-21 बैच के 73 अधिकारियों को होली के मद्देनजर अवकाश पर भेजा गया था । लेकिन इस बीच जब कोरोना वायरस का संक्रमण फैल गया तो अधिकारियों को उनके घरों में ही बने रहने के लिए कहा गया है ।

सभी अधिकारियों को हिदायत दी गई है कि जब तक कोरोना वायरस का संक्रमण समाप्त नहीं जाता है वह अपने घरों में ही बने रहें। प्रशिक्षण शुरू होने की बाबत उन्हें बाद में जानकारी दी जाएगी ।

बता दें कि इंदिरा गांधी नेशनल फॉरेस्ट एकेडमी के तीन ट्रेनी आईएफ़एस अफसरों के कोरोना वायरस फिर संक्रमित होने के बाद न सिर्फ अफसरों के प्रशिक्षण पर रोक लगा दी गई है, वरन मंत्रालय की ओर से आए दिन नई नई एडवाइजरी जारी की जा रही है । सुकून देने वाली बात यह है कि जिन तीन अफसरों को कोरोना वायरस का संक्रमण हुआ था उसमें से एक पूरी तरह स्वस्थ होकर लौट आया है, जबकि दो अफसरों की हालत में तेजी से सुधार हो रहा है।
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer


हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर और व्यक्तिगत अनुभव प्रदान कर सकें और लक्षित विज्ञापन पेश कर सकें। अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।
Agree
Election
  • Downloads

Follow Us

विज्ञापन