विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
नवरात्रि पर कन्या पूजन से होंगी मां प्रसन्न, करेंगी सभी मनोकामनाएं पूरी
Astrology Services

नवरात्रि पर कन्या पूजन से होंगी मां प्रसन्न, करेंगी सभी मनोकामनाएं पूरी

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

Uttarakhand Lockdown Live : कोरोना के लक्षण मिलने पर यूपी से लौटे युवक को आईसोलेशन वार्ड में किया भर्ती

कोरोना पॉजिटिव मामलों में उत्तराखंड हिमालय राज्यों में तीसरे स्थान पर है। जम्मू और कश्मीर तथा लद्दाख में हालात ज्यादा गंभीर हैं।

1 अप्रैल 2020

विज्ञापन
विज्ञापन

चम्पावत

बुधवार, 1 अप्रैल 2020

कोरोना वायरस के खतरे के मद्देनजर रिहा होंगे सात कैदी

लोहाघाट (चंपावत)। कोरोना वायरस के खतरों को देखते हुए अदालत के आदेश के बाद विचाराधीन कैदियों को अंतरिम जमानत पर छोडऩे की प्रक्रिया शुरू हो गई है। इसके चलते लोहाघाट न्यायिक बंदीगृह के सात विचाराधीन कैदियों को अंतरिम जमानत पर छोड़ने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। न्यायिक बंदीगृह प्रभारी राजस्व उप निरीक्षक सलमान ने बताया कि विभिन्न मामलों में लोहाघाट बंदीगृह में रखे गए सात विचाराधीन कैदियों का सोमवार को स्वास्थ्य परीक्षण कराया गया है। इन कैदियों को छोड़ने से पूर्व निजी मुचलके भराने के साथ अन्य जरूरी प्रपत्र तैयार कराए जा रहे हैं। न्यायिक बंदीगृह प्रभारी ने बताया कि डीएम के आदेश के बाद इन कैदियों को जमानत पर छह माह के लिए रिहा कर दिया जाएगा। डॉ. एलएम रखोलिया, डॉ. पुष्कर पांगती, वार्डब्वॉय संदीप वर्मा ने सातों विचाराधीन कैदियों का स्वास्थ्य परीक्षण किया। परीक्षण में सभी सातों कैदी स्वस्थ पाए गए। बंदीगृह प्रभारी ने बताया कि ऐसी धाराएं, जिनमें सात साल से कम उम्र की सजा वाली धाराओं के आरोपियों को जमानत पर छोड़ा जा रहा है। इसमें वन्य जीव, बिजली चोरी, झगड़े आदि के मामले मुख्य रूप से शामिल हैं। फिलहाल न्यायिक बंदीगृह में 3 महिलाएं और 41 पुरुष कैदी हैं।  ... और पढ़ें

उत्तराखंड में है जरूरी स्वास्थ्य सुविधाओं की कमी

अमर उजाला ब्यूरो चंपावत। प्रदेश के खेल व शिक्षा मंत्री और जिले के प्रभारी मंत्री अरविंद पांडेय ने माना कि उत्तराखंड में वेंटिलेटर, पर्सनल प्रोटेक्शन किट, मास्क सहित जरूरी स्वास्थ्य सुविधाओं की भारी कमी है। बावजूद इसके सरकार कोरोना वायरस (कोविद-19) के खतरे से निपटने के लिए युद्धस्तर पर काम कर रही है। सरकार डॉक्टरों की संख्या बढ़ाने का लिए हालात के हिसाब से तैनाती कर रही है। पिथौरागढ़ जाते वक्त सोमवार को चंपावत के खेतीखान तिराहे में अमर उजाला से बात करते हुए उन्होंने कहा कि कोरोना के खतरों से निपटने के लिए सरकार सबसे कारगर बचाव की प्रणाली सोशल डेस्टेंसिंग का सहारा ले रही है। आवाजाही को पूरी तरह रोकने के लिए सभी जरूरी उपाय किए गए हैं। मंत्री ने कहा कि भूख और बेरोजगार हो चुके मजदूरों को जहां हैं-वहीं रोकने के लिए चंपावत के डीएम को सभी कदम उठाने के निर्देश दिए गए हैं। मजदूरों की भोजन और रहने की समुचित व्यवस्था सरकार कर रही है। इसलिए मजदूरों को कतई चिंतित होने की जरूरत नहीं है। भोजन बनाने के लिए चंपावत सहित पूरे प्रदेश में स्कूलों की भोजन माताओं को लगाया जा रहा है। डीएम सुरेंद्र नारायण पांडेय ने बताया कि जिले की स्थिति पूरी तरह नियंत्रण में है। ... और पढ़ें

लॉकडाउन में जरूरतमंदों की मदद को बढ़े हाथ

टनकपुर (चंपावत)। कोरोना वायरस के खौफ के बीच कई समाजसेवी जरूरतमंदों की मदद के लिए आगे आए हैं। शारदा रेंज के वन क्षेत्राधिकारी महेश सिंह बिष्ट और वन कर्मियों ने खनन श्रमिकों को खाद्यान्न के पैकेट बांटे। इसके अलावा ककरालीगेट बैरियर पर पैदल आ रहे यात्रियों भोजन कराया।
यहां डिप्टी रेंजर कैलाश गुणवंत, दान सिंह भाकुनी, मोहन राम, मुनीष राणा, नंदू कांडपाल, गिरीश पांडेय, निर्मल खुल्वे आदि थे। बरियाम सिंह मानव सेवा मंडल की ओर से क्वारंटीन में रखे गए लोगों को खाना खिलाने के साथ जरूरतमंदों को भोजन कराया जा रहा है। इसमें कुलविंदर सिंह, मनीमीन सिंह, संजीव आर्य छुट्टू, रविंद्र सिंह महर, भूपेंद्र सिंह गांधी, ज्ञानी सुखविंदर सिंह आदि शामिल हैं। इधर तहसीलदार खुशबू पांडेय ने बताया कि प्रशासन की ओर से जीजीआईसी में चालू किए गए कम्यूनिटी किचन में हर दिन जरूरतमंदों को तीन वक्त का भोजन मुहैया कराया जा रहा है। संवाद
बेरोजगार श्रमिकों को कराया भोजन
बनबसा (चंपावत)। एनएचपीसी के टनकपुर पावर स्टेशन के अधिकारियों एवं कर्मियों ने लॉकडाउन के चलते बेरोजगार हो चुके श्रमिकों को भोजन कराया। श्रमिकों की सहायता को मदद की चेन बनाई गई है। रविवार को दस श्रमिकों के भोजन की व्यवस्था की गई है। यहां विनोद उप्रेती, अमित आनंद, भगवान सिंह, अमित कुमार, बंशीधर रुवाली, गोविंद सोनाल, विजय सिंह ने सहयोग दिया। नगर पंचायत अध्यक्ष रेनू अग्रवाल, संतोष गुप्ता, मनोज अग्रवाल आदि की ओर से बनबसा से गुजर रहे श्रमिकों को भोजन कराया जा रहा है। पूर्णागिरि इंटर कालेज में प्रधानाचार्य आईडी तिवारी के नेतृत्व में मजदूरों के भोजन की व्यवस्था की जा रही है। वंदेमातरम संगठन कार्यकर्ताओं ने बंगाली कालोनी स्थित निर्धन वर्ग के लोगों को राशन के किट बांटे। इस मौके पर कनिष्ठ प्रमुख मोहन चंद, उपप्रधान सौरभ चंद, प्रकाश गोस्वामी, योगेश पांडेय, सुनील नाथ, दीपक चंद, शिखर चंद, ने सहयोग दिया। संवाद
जरूरतमंदों को बांट रहे मॉस्क
टनकपुर। संयुक्त चिकित्सालय के चिकित्साधिकारी डॉ. आफताब अंसारी की ओर से जरूरतमंदों को कोरोना के संक्रमण से बचाने के लिए मॉस्क तैयार करा कर मुफ्त में बांटे जा रहे हैं। इस मुहिम में डॉ. अंसारी के साथ टेलर राकेश भी बगैर मेहनताना लिए मॉस्क तैयार कर जरूरतमंदों की मदद मेें हाथ बंटा रहा है। संवाद
... और पढ़ें

चंपावत के सबसे बडे़ अस्पताल में छोटे बच्चे के बुखार नापने को थर्मामीटर नहीं

अमर उजाला ब्यूरो चंपावत। जिले के सबसे बड़े अस्पताल (चंपावत जिला अस्पताल) में बच्चों के बुखार नापने को थर्मामीटर तक नहीं है। सरकारी अस्पताल से मायूस लौटने के बाद मंगलवार को 22 माह के शिशु का इलाज एक निजी अस्पताल में कराया गया। पिता के मुताबिक इलाज के बाद अब बच्चे की तबियत ठीक है। उन्होंने अमर उजाला को बुधवार को फोन कर आपबीती सुनाई। यहां से सात किमी दूर मौराड़ी गांव के प्रकाश जोशी बेटे अंश जोशी (22 माह) को बुखार होने पर सुबह करीब 11.20 बजे जिला अस्पताल आए। पिता का कहना है कि आपात सेवा में देखने के बाद खांसी-जुकाम व बुखार के इलाज के लिए बने काउंटर में भेज दिया गया, जहां उस वक्त कुछ लोगों की लाइन लगी हुई थी, उनमें से ज्यादातर लोग बाहर से आए थे। उन्होंने संक्रमण के डर से बाहर वाले काउंटर से इलाज करने से इंकार कर दिया। उन्होंने बच्चे का बुखार आपात कक्ष में नापने को कहा, जिस पर मना करने पर वे निजी अस्पताल में गए तो वहां के स्टाफ ने ओपीडी में इलाज नहीं होने की बात कही। इसके बाद वे सीधे एक छोटे निजी क्लीनिक गए जहां बुखार नापने के बाद जरूरी दवाएं दी गइं। पिता का कहना है कि इस इलाज के बाद बुधवार को बच्चे की तबियत में सुधार है। कोट इमरजेंसी में निशुल्क इलाज की व्यवस्था है। मगर जिस वक्त नन्हे बच्चे को बुखार के इलाज के लिए लाया गया था, उस समय ४-हैड (नॉन कांटेक्ट इंफ्रारेड) थर्मामीटर को किन्हीं अन्य लोगों के बुखार को नापने के लिए ले जाया गय था। मंगलवार दुपहर बाद 4-हैड के तीन और थर्मामीटर अस्पताल को मिल गए हैं। अब इमरजेंसी में बुखार नापने में कोई दिक्कत नहीं आएगी। डॉ. आरके जोशी, मुख्य चिकित्साधीक्षक, चंपावत। ... और पढ़ें
पिता की गोदी में मासूम बच्चा अंश। पिता की गोदी में मासूम बच्चा अंश।

पिता की मौत में मायके आई विवाहिता लोहाघाट में फंसी 

अमर उजाला ब्यूरो  चंपावत। पिता की मौत पर पिथौरागढ़ जिले से अपने मायके लोहाघाट के सुंई गांव आई एक विवाहिता लंबे समय से मायके में फंसी हुई है। महिला का एक बच्चा बीते कुछ दिनों से बीमार है। मगर कोरोना वायरस के चलते जारी लॉकडाउन से महिला अपने ससुराल नहीं जा पा रही है।  पिथौरागढ़ जिले के मदकोट गांव के रेखा उप्रेती के पिता प्रकाश चंद्र चौबे का 7 मार्च को निधन हो गया था। पिता की मौत की खबर पर रेखा लोहाघाट ब्लॉक के सुंई गांव में अपने मायके पहुंची। लॉकडाउन के चलते अब वह ससुराल नहीं जा पा रही है। मोबाइल पर भी बच्चे की मां से बात कराई, मगर कोई समाधान नहीं हुआ। लॉकडाउन की वजह से मां और बच्चे की बीच बने फासले से समस्या बढ़ रही है। तमाम हालातों को देखते हुए परिजनों ने महिला को मदकोट भेजे जाने की प्रशासन से गुहार लगाई है। इधर डीएम सुरेंद्र नारायण पांडेय का कहना है कि प्रार्थना पत्र आने पर हालात के हिसाब से जरूरी निर्णय लिया जाएगा।  ... और पढ़ें

नियमित हो रही है भारत नेपाल सीमा पर पेट्रोलिंग

बनबसा (चंपावत)। भारत नेपाल में कोरोना वायरस के खतरों को देखते हुए दोनों देशों की सरकारों ने सीमा को सील किया है। लेकिन एसएसबी सीमा पर नियमित पेट्रोलिंग को अंजाम दे रही है। इन दिनों सीमा पर और अधिक सख्त पेट्रोलिंग के अलावा पैनी नजर रखी जा रही है।
भारत नेपाल सीमा पर एसएसबी 57 वीं वाहिनी की बनबसा स्थित ई कंपनी और गढ़ीगोठ स्थित ए कंपनी के जवान भारत नेपाल सीमा पर नियमित पेट्रोलिंग कर रहे हैं। ई कंपनी के कमांडर राजवीर सिंह मीणा (इंस्पेक्टर) ने बताया कि एसएसबी के उच्चाधिकारियों ने सीमा पर पेट्रोलिंग के साथ पैनी नजर रखने के निर्देश दिए हैं।
बताया कि बनबसा बीओपी के बलावा सैलानीगोठ बीओपी के जवान सीमा पर सतर्क हैं। उधर 57 वीं वाहनी की धनुषपुल स्थित ए कंपनी की बंगाली कालोनी, गढ़ीगोठ और मझगांव बीओपी के जवान सीमा पर नियमित पेट्रोलिंग कर सीमा पर पैनी नजर रखे हुए हैं। बताया गया है कि दोनो ओर से सीमा सील होने के कारण इन दिनो सीमा पर सुनसानी छाई हुई है।
... और पढ़ें

गुजरात में रहकर भी अपने क्षेत्र की सुध ले रहे हैं नवीन

बनबसा में भारत नेपाल सीमा पर पैट्रोलिंग करते एसएसबी जवान।
चंपावत। देशभर में लागू लॉकडाउन में जहां लोग अपने अपने घरों में कैद होकर रह गए हैं, वहीं ऐसे हालात में प्रभावितों और गरीबों की मदद के लिए लोग आगे भी आ रहे हैं। उन्हीं में शामिल हैं जिले के लधियाघाटी निवासी सामाजिक कार्यकर्ता नवीन सिंह भंडारी जो सैकड़ों किमी दूर गुजरात में होम क्वारंटीन में रहकर भी अपने क्षेत्र के लोगों की मदद करवा रहे हैं।
नवीन ने अपनी खुद की कमाई से लधियाघाटी क्षेत्र के गरीबों को पहले मास्क बांटे। अब स्थानीय युवाओं के माध्यम से निशुल्क आटा, चावल, तेल, नमक बांटे जा रहे हैं। उनका कहना है कि ग्रामीण क्षेत्र के लोगों तक पर्याप्त मात्रा में मास्क और सैनिटाइजर नहीं पहुंच पा रहे हैं। इसलिए उन्होंने यह बीड़ा उठाया है।
लॉकडाउन का पालन करने की कर रहे हैं अपील
चंपावत। लधियाघाटी संगठन के अध्यक्ष नवीन सिंह भंडारी की ओर से मास्क और राशन बांट रहे ग्राम प्रधान लक्ष्मण सिंह भंडारी और अन्य युवाओं की ओर से ग्रामीणों को लॉकडाउन का पालन करने की अपील भी की जा रही है। मास्क बांटने वालों ने सभी लोगों से अपील की है कि सभी लोग मास्क लगाकर रहे। बाहरी लोगों से दूरी बनाकर रहे। हाथों को साबुन या फिर सैनिटाइजर से धोएं।
... और पढ़ें

लॉकडाउन में फंसे यात्रियों के लिए प्रशासन ने लगाया लंगर

जिला मुख्यालय में कोरोना के कहर के चलते लागू लॉकडाउन में फंसे यात्रियों की भोजन व्यवस्था के लिए प्रशासन की ओर से लंगर लगाया गया है। दो दिन पूर्व पिथौरागढ़ आदि स्थानों से पैदल यात्रा कर चंपावत पहुंचे बहराइच, बहेड़ी, बरेली, शाहजहांपुर, लखीमपुर खीरी आदि स्थानों के 17 यात्रियों को पुलिस ने जिला मुख्यालय में ही रोक लिया। इन यात्रियों को नगरपालिका के रैन बसेरे में ठहराया गया है।
इन यात्रियों में अधिकतर दिहाड़ी मजदूर हैं। परेशान और थके हारे यात्रियों के लिए प्रशासन भोजन की व्यवस्था कर रहा है। बीते छह दिनों में चंपावत में 500 से अधिक यात्रियों को भोजन कराया गया है।
चंपावत जीजीआईसी, जीआईसी टनकपुर और बनबसा के भजनपुर जीआईसी में भूखे यात्रियों के लिए लंगर की व्यवस्था की है। लंगर व्यवस्थापक बंशीधर थ्वाल ने बताया कि जीजीआईसी चंपावत में बीते 26 मार्च से भोजन व्यवस्था शुरू की गई है। व्यवस्थाओं को देख रहे शिक्षक डा.एमपी जोशी ने बताया कि इस बीच भोजन करने के लिए जीजीआईसी मैदान में पहुंचने वाले दिहाड़ी मजदूरों को सोशल और फिजिकल डिस्टेंश के बारे में भी जागरूक किया जा रहा है।
... और पढ़ें

Uttarakhand Lockdown: अलीगढ़ से पैदल लोहाघाट आ रहे 11 युवकों को प्रशासन ने किया क्वारंटीन 

अलीगढ़ से पैदल लोहाघाट आ रहे 11 युवकों को प्रशासन ने मेडिकल जांच के बाद क्वारंटीन के लिए भेज दिया है। आज अलीगढ़ के एक होटल में काम करने वाले चोमेल क्षेत्र के 11 युवा पैदल ही अपने घरों की ओर आ रहे थे।

इसी दौरान पुलिस को सूचना मिली कि कुछ युवक पैदल मानेश्वर से लोहाघाट की ओर आ रहे हैं। सूचना पर एसओ मनीष खत्री ने मानेश्वर जाकर उन युवकों को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र लोहाघाट भेजा। जहां पर एसडीएम आरसी गौतम भी पहुंच गए।

सभी युवकों का मेडिकल परीक्षण किया

एसडीएम ने बताया कि सभी युवकों का मेडिकल परीक्षण किया गया है। अब इनको 14 दिन के लिए क्वारंटीन कर दिया गया है। एसडीएम ने कहा कि अगर निर्देशों का पालन नहीं किया गया तो कानूनी कार्रवाई होगी।

एसडीएम ने बताया कि इसके लिए आशा और आंगनबाड़ी वर्कर्स को ड्यूटी दे दी गई है। इधर, अलीगढ़ से आये युवक हरीश सिंह, बलवंत सिंह, आनंद सिंह, भरत सिंह, दीपक सिंह ने बताया कि वह 29 फरवरी से कभी वाहन से आये और कभी पैदल। टनकपुर से पूरा पैदल ही चले। 
... और पढ़ें

Uttarakhand Lockdown: लॉकडाउन का उल्लंघन, चंपावत में दो के खिलाफ मुकदमा दर्ज 

कोरोना वायरस को लेकर जारी लॉकडाउन में हीलहवाली पर चंपावत की पुलिस ने दो मामले दर्ज किए हैं। खेतीखान में एक कपड़ा कारोबारी और चंपावत में एक ट्रक द्वारा सवारी ढोने के आरोप पर कार्रवाई की गई है। 

लोहाघाट थाना क्षेत्र के तहत खेतीखान बाजार में लॉकडाउन के नियमों का उल्लंघन करते हुए जगदीश वर्मा पर मंगलवार को कपड़े की दुकान खोलने का आरोप है। पुलिस ने दुकानदार के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 188, 268, 269 के तहत मुकदमा दर्ज किया है।

इधर चंपावत क्षेत्र में एक ट्रक संख्या यूके 05 सीए/ 1251 पर गैर कानूनी रूप से सवारी ढोई जा रही है। कोतवाल धर्मवीर सोलंकी ने बताया कि ट्रक चालक तारानाथ निवासी बगीयाघाट खटीमा (ऊधमसिंह नगर) के खिलाफ आईपीसी की धारा 188 के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है। ट्रक को सीज कर दिया गया है। एसपी लोकेश्वर सिंह ने कोरोना वायरस से बचाव के मद्देनजर लॉकडाउन का पालन करने की अपील की है। 

होम क्वारंटीन को धता बताया, 31 लोगों पर हुई कार्रवाई

चंपावत में होम क्वारंटीन का कायदे से अनुपालन नहीं करने वाले ३१ लोगों के खिलाफ कार्रवाई की गई है। चंपावत पुलिस ने 21 और लोहाघाट पुलिस ने 10 लोगों के विरुद्ध आईपीसी की धारा 188, 268, 269 के तहत मुकदमा दर्ज किया है।

दूसरे राज्यों और दूसरे जिलों से आए इन लोगों पर होम क्वारंटीन के निर्धारित नियमों का पालन नहीं करने का आरोप है। नियमों के तहत होम क्वारंटीन वाले लोगों को कमरों से बाहर न निकलने, बेवजह किसी से बातचीत न करने सहित कई नियमों का पालन करना था।

ये तमाम लोग चंपावत, लोहाघाट, पंचेश्वर, खेतीखान, पिथौरागढ़, यूएसनगर आदि जिलों के रहने वाले हैं। इनमें से चार लोग दूसरे देशों से भी आए हैं। बता दें कि चंपावत जिले में इस वक्त 1541 लोग होम क्वारंटीन और 19 लोग संस्थागत क्वारंटीन किए गए हैं।
... और पढ़ें

16 लोगों को क्वारंटीन किया गया

अमर उजाला ब्यूरो चंपावत। धर्मनगरी हरिद्वार से आए 16 लोगों को क्वारंटीन किया गया है। इन लोगों को रीठा साहिब गुरुद्वारे में रखा गया है। डीएम सुरेंद्र नारायण पांडेय ने बताया कि हरिद्वार से आए 26 लोगों की बनबसा में कोरोना वायरस के खतरे के मद्देनजर स्क्रीनिंग की गई थी। स्क्रीनिंग में ये लोग सामान्य पाए गए, मगर एहतियातन इन लोगों को सोमवार रात को क्वारंटीन किया गया है। अब ये सभी लोग 14 दिन तक रीठा साहिब के गुरुद्वारे में रहेंगे। गुरुद्वारे में इन लोगों की नियमित रूप से जांच की जाएगी। अब चंपावत जिले में कुल 35 लोग संस्थागत क्वारंटीन किए जा चुके हैं। इनमें 17 लोग चंपावत, एक नेपाली व्यक्ति को टनकपुर व आईटीबीपी के एक कर्मी को आईटीबीपी क्वारंटीन किया गया है। इसके अलावा 1541 लोगों को होम क्वारंटीन किया गया है। ... और पढ़ें

कोरोना वायरस के खतरे के मद्देनजर रिहा होंगे सात कैदी

लोहाघाट (चंपावत)। कोरोना के खतरों को देखते हुए अदालत के आदेश पर विचाराधीन कैदियों को अंतरिम जमानत पर छोड़ा जाना है। इसके चलते लोहाघाट न्यायिक बंदीगृह के सात विचाराधीन कैदियों को अंतरिम जमानत पर छोड़ने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है।
न्यायिक बंदीगृह प्रभारी राजस्व उपनिरीक्षक सलमान ने बताया कि विभिन्न मामलों में लोहाघाट बंदीगृह में रखे गए सात विचाराधीन कैदियों का सोमवार को स्वास्थ्य परीक्षण कराया गया है। इन कैदियों को छोड़ने से पूर्व निजी मुचलके भराने के साथ अन्य जरूरी प्रपत्र तैयार कराए जा रहे हैं। न्यायिक बंदीगृह प्रभारी ने बताया कि डीएम के आदेश के बाद इन कैदियों को जमानत पर छह माह के लिए रिहा कर दिया जाएगा।
डॉक्टरों ने सातों विचाराधीन कैदियों का स्वास्थ्य परीक्षण किया। परीक्षण में सभी स्वस्थ पाए गए। बंदीगृह प्रभारी ने बताया कि सात साल से कम उम्र की सजा वाली धाराओं के आरोपियों को जमानत पर छोड़ा जा रहा है। इसमें वन्यजीव अंग तस्करी, बिजली चोरी, झगड़े आदि के मामले मुख्य रूप से शामिल हैं। फिलहाल न्यायिक बंदीगृह में तीन महिलाएं और 41 पुरुष हैं।
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer


हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर और व्यक्तिगत अनुभव प्रदान कर सकें और लक्षित विज्ञापन पेश कर सकें। अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।
Agree
Election
  • Downloads

Follow Us