विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

Uttarakhand Lockdown: सरकार ने ली राहत की सांस, सभी जांच रिपोर्ट आई नेगेटिव, संक्रमितों की दर राष्ट्रीय औसत से कम

कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमित मामलों के बीच गुरुवार का दिन स्वास्थ्य विभाग के लिए राहत लेकर आया। मेडिकल कॉलेज हल्द्वानी और एम्स ऋषिकेश से आई सैंपल जांच रिपोर्ट में कोई कोरोना पॉजिटिव नहीं मिला। 

10 अप्रैल 2020

विज्ञापन
विज्ञापन

हरिद्वार

शुक्रवार, 10 अप्रैल 2020

लॉक डाउन में कूड़ा कचरा हुआ गायब

कोरोना वायरस के पॉजिटिव इफेक्ट भी दिखने लगे हैं। नगर निगम क्षेत्र में उठने वाला कूड़ा अब आधा से कम हो गया है। लॉकडाउन शुरू होने से पहले जहां हर रोज 300 मीट्रिक टन कूड़ा उठता था अब 110 से 140 मीट्रिक टन कचरा बचा है। अब शहर साफ-सुथरा नजर आ रहा है।
इस समय प्रधानमंत्री के स्वच्छ भारत मिशन का सर्वे हो जाए तो हरिद्वार स्वच्छता मिशन में अव्वल इंदौर के साथ बराबरी की स्थिति में खड़ा मिलेगा। नगर निगम से घर-घर से कूड़ा संग्रह करने के काम में सुधार किया है। इसलिए गली-मोहल्लों में गंदगी के ढेरों से लोगों को राहत मिली है। बाजार बंद होने से कूड़ा जनरेट नहीं हो रहा है।
लॉकडाउन के चलते प्रतिदिन हरिद्वार आने जाने वाली 2 से 3 लाख फ्लोटिंग पापुलेशन पर ब्रेक लगा है। खुले में कूड़ा नजर नहीं आ रहा है। आसपास के लोग कूड़ेदान में ही कूड़ा डाल रहे हैं।
कूड़ा नहीं होने से हांफने लगा केआरएल
एक तो ऑफ सीजन में पहले ही कम हो रहे कूड़े से परेशान केआरएल लॉकडाउन में हांफने लगी है। कंपनी की आर्थिक स्थिति गड़बड़ाने लगी है। उस पर सफाई कर्मचारियों के भुगतान का भार यथावत बना हुआ है। घर-घर से यूजर चार्ज की वसूली में भी गिरावट आई है। केआरएल ने नगर आयुक्त को कूड़ा कम होने पर टिपिंग शुल्क की क्षतिपूर्ति कराने के लिए पत्र दिया है। सहायक नगर आयुक्त उत्तम सिंह नेगी ने बताया कि केआरएल के अनुबंध को देखना पड़ेगा। इसके बाद ही नगर आयुक्त स्तर से ही कोई निर्णय लिया जाएगा, लेकिन किसी की भी आय कम होती है तो दिक्कत तो होगी ही। उन्होंने बताया केआरएल के निदेशक सुखवीर सिंह ढींढसा का क्षतिपूर्ति देने का पत्र मिल गया है।
बाजार के नालों की सफाई युद्धस्तर पर
हरिद्वार। सहायक नगर आयुक्त उत्तम सिंह नेगी ने बताया कि नमामि गंगे योजना के तहत घाटों की सफाई करने वाली आकांक्षा संस्था के 20 और नगर निगम के 10 सफाई कर्मचारियों की नाला गैंग बनाई गई है। उन्होंने बताया कि इस गैंग को
मुख्य बाजारों की नालियों और नालों की सफाई में लगाया गया है।
एक ही शिफ्ट में ले रहे काम
नगर निगम कोरोना वायरस के संक्रमण के मद्देनजर 55 से अधिक आयु के कर्मचारियों से काम नहीं ले रहा है। इसके साथ ही सफाई कार्य की एक शिफ्ट बंद है और एक सुबह 8 से 2 बजे तक की शिफ्ट में काम कराया जा रहा है। अखिल भारतीय सफाई मजदूर कांग्रेस के पदाधिकारियों ने मेयर व नगर आयुक्त से 50 से अधिक आयु वर्ग के सफाई कर्मचारियों को सवेतन अवकाश देने मांग भी की थी। कर्मचारी नेता सुरेंद्र तेश्वर, राजेंद्र श्रमिक व आत्माराम बेनीवाल ने इसको कर्मचारी हित में लिया गया अच्छा निर्णय बताया है।
... और पढ़ें

Lockdown: राजाजी टाइगर रिजर्व की चीला रेंज में हाथियों के लिए बनवाया वाटर हॉल, मिलेगा भरपूर पानी

हरिद्वार में राजाजी टाइगर रिजर्व पार्क की चीलावाली रेंज में पानी मिलते ही हाथियों के झुंड ने यूपी से लगी जंगल की सीमा में जाना बंद कर दिया है। अब पार्क प्रशासन की ओर से चीलावाली रेंज की मोहंड बीट में बने वाटर हॉल में हाथियों को भरपूर मात्रा में नेचुरल वाटर उपलब्ध कराया जा रहा है।

राजाजी टाइगर रिजर्व पार्क की चीलावाली रेंज की कुछ सीमा यूपी के जंगलों से लगी है। इस रेंज में गर्मियों के दिनों में पानी की कमी होने पर हाथी और अन्य जंगली जानवर यूपी की सीमा में पहुंचकर किसी तरह अपनी प्यास बुझाते थे, लेकिन अब पार्क प्रशासन की ओर से चीलावाली रेंज की मोहंड बीट में बने वाटर हॉल में हाथियों सहित अन्य जानवरों के लिए भरपूर मात्रा में नेचुरल वाटर उपलब्ध कराया जा रहा है, जिसके बाद से इस रेंज के जंगली जानवरों ने यूपी की ओर जाना ही बंद कर दिया है।

राजाजी टाइगर रिजर्व पार्क के वन्य जीव प्रतिपालक कोमल सिंह ने बताया कि 12 लाख रुपये की लागत से इस वाटर हॉल में दो इंच के पाइप के माध्यम से 24 घंटे नेचुरल वाटर की सप्लाई की जा रही है। एक माह की कड़ी मशक्कत के मिली सफलता पार्क की चीलावाली रेंज में गर्मियों के दिनों में जंगली जानवरों को पानी की तलाश में इधर-उधर भटकना पड़ता था।

ऐसे में इस रेंज के सभी जंगली जानवरों को पानी उपलब्ध कराना पार्क प्रशासन के लिए एक बड़ी चुनौती बना हुआ था। पार्क के वन्य जीव प्रतिपालक कोमल सिंह ने बताया कि एक महीने की कड़ी मशक्कत के बाद वाटर हॉल में कईं किलोमीटर से दो इंच के पाइप के माध्यम से नेचुरल वाटर की सप्लाई करने में सफलता मिली।
... और पढ़ें

Coronavirus: राजाजी टाइगर रिजर्व में रेड अलर्ट जारी, आबादी क्षेत्र से लगी 30 किलोमीटर की सीमा अतिसंवेदनशील घोषित

अमेरिका के न्यूयार्क शहर में एक बाघिन के कोरोना पॉजिटिव पाए जाने के बाद राजाजी टाइगर रिजर्व ने रेड अलर्ट जारी कर दिया है। इसके साथ ही पार्क प्रशासन ने आबादी क्षेत्र से लगी 30 किलोमीटर की सीमा को अति संवेदनशील घोषित किया है। सीमा पर सतर्कता बढ़ाते हुए फ्लैग मार्च भी किया जा रहा है।

कोरोना विश्व में तेजी के साथ फैल कर लोगों को अपनी चपेट में ले रहा है। मनुष्य जाति के साथ ही कोरोना ने अब जानवरों को भी अपनी चपेट में लेना शुरू कर दिया है। अमेरिका के न्यूयार्क शहर में एक बाघिन के कोरोना पॉजिटिव पाए जाने के बाद दुनिया भर में हड़कंप मच गया है। अब राजाजी टाइगर रिजर्व पार्क प्रशासन भी सतर्क हो गया है।

पार्क प्रशासन की ओर से रेड अलर्ट जारी कर दिया गया है। हरिद्वार और देहरादून में आबादी क्षेत्र से लगी करीब 30 किलोमीटर की सीमा को चिह्नित कर अति संवेदनशील घोषित किया गया है, ताकि यहां से होने वाले लोगों की अवैध आवाजाही को पूर्ण रूप से रोका जा सके। इसके साथ ही पार्क की संपूर्ण सीमा को पूर्ण रूप से सील करते हुए कर्मचारियों द्वारा फ्लैग मार्च किया जा रहा है।

पार्क के अधिकारी भी नियमित रूप से पार्क की सीमा पर गश्त कर रहे हैं। ताकि आबादी क्षेत्र से लगे किसी भी गांव का कोई भी व्यक्ति, वन गुुर्जर, तस्कर, लकड़ी बीनने वाली महिलाएं आदि कोई भी पार्क में न घुस सके। 
... और पढ़ें

Lockdown Uttarakhand: पुलिस का दावा, दिल्ली से तीन प्रदेशों के बॉर्डर पार कर पैदल हरिद्वार नहीं पहुंचे थे 20 नेपाली

लॉकडाउन के बाद भीदिल्ली से नेपाली मूल के 20 नागरिकों के हरिद्वार पहुंचने की कहानी चंद घंटों में बदल गई। हरिद्वार पुलिस ने दावा किया कि वे दिल्ली से नहीं आए थे। एक माह से रावली महदूद में ही किराये पर रह रहे थे। यह बात सामने आने पर उन्हें फिर से रावल महदूद भेज दिया। पुलिस ने उन्हें भरोसा दिलाया कि खाने पीने की दिक्कत बिलकुल भी नहीं होनी दी जाएगी।

बृहस्पतिवार की देर रात क्षेत्र के ब्रम्हपुरी में 20 युवकों को पुलिस ने रोका था। युवकों ने जो कहानी बताई थी, उसे सुनकर हरिद्वार पुलिस दंग रह गई थी। नेपाली मूल के युवकों ने बताया था कि वे दिल्ली में काम करते थे और नेपाल जाने के लिए निकले थे। वे जैसे तैसे यहां तक पहुंच गए है। एसएसपी सेंथिल अबूदई कृष्णराज एस, एसपी सिटी कमलेश उपाध्याय भी मौके पर पहुंच गए थे।
... और पढ़ें

चीलावाली रेंज में है हाथियों का सबसे बड़ा झुंड

डॉ. प्रविंद्र कुमार
हरिद्वार। राजाजी टाइगर रिजर्व पार्क की चीलावाली रेंज में हाथियों का सबसे बड़ा झुंड वास करता है। इस झूठ में हाथियों की संख्या करीब 28 से 30 के बीच बताई गई है। बीते बृहस्पतिवार की शाम हाथियों का यह झुंड पार्क के अधिकारियों को मोहंड बीट में बने वाटर हॉल के पास दिखाई दिया।
राजाजी टाइगर रिजर्व की चीला वाली रेंज करीब 11000 हेक्टेयर भूमि में फैली हुई है। इस रेंज में घने जंगलों के साथ ही जंगली जानवर काफी संख्या में हैं। गुलदार, भालू, हिरण, सांभर, नीलगाय आदि जंगली जानवर इस रेंज में आसानी से दिखाई देते हैं। इसके साथ ही इस रेंज का बड़ा आकर्षण यहां का हाथियों का सबसे बड़ा झुंड है। हाथियों के इस झुंड में तीन नर हाथी और बाकी मादाएं व बच्चे हैं। झुंड में सबसे बड़ी अनुभवी मादा इसकी मुखिया होती है और झुंड का नेतृत्व करती है। जबकि सबसे बड़ा नर हाथी झुंड के पीछे चलकर अन्य नर हाथी को झुंड के पास आने से रोकता हैं।
राजाजी टाइगर रिजर्व पार्क के वन्य जीव प्रतिपालक कोमल सिंह ने बताया कि पार्क की सभी रेंजों की अपेक्षा चीलावाली रेंज में 28 से 30 हाथियों का यह झुंड सबसे बड़ा है। सबसे बड़ी मादा हाथी झुंड का नेतृत्व करती है। जबकि नर हाथी झुंड के करीब 100 मीटर पीछे चल कर अन्य टस्कर हाथी को झुंड की ओर आने से रोकता है।
--------
यूपी के जंगलों में भी आवागमन करता है झुंड
वार्डन कोमल सिंह ने बताया कि बताया कि प्रमुख रूप से पानी की तलाश में हाथियों का झुंड चीलावाली रेंज से लगी यूपी के जंगल क्षेत्र की सीमा में भी आता जाता रहता है। यह झुंड चीलावाली रेंज के साथ-साथा बनिया वाली, मोरनी वाला, गंजर वन और धौलखंड रेंज की सीमा में भी आता जाता रहता है।
... और पढ़ें

पार्क की अति संवेदनशील सीमाओं पर होगा मेगा फ्लैग मार्च

अमेरिका के न्यूयॉर्क शहर में एक बाघिन के कोरोना पॉजिटिव पाए जाने के बाद पार्क रेड अलर्ट पर है। जानवरों को किसी भी प्रकार के संक्रमण से बचाने के लिए अब पार्क प्रशासन ने पार्क से लगी अति संवेदनशील सीमाओं पर मेगा फ्लैग मार्च निकालने का निर्णय लिया है। मेगा फ्लैग मार्च में पार्क के कईं बड़े अधिकारी और रेंजर शामिल होंगे। बीते बुधवार को पार्क के अधिकारियों और कर्मचारियों ने कई अति संवेदनशील सीमाओं पर फ्लैग मार्च किया।
राजाजी टाइगर रिजर्व पार्क प्रशासन ने हरिद्वार और देहरादून में आबादी क्षेत्र से लगी करीब 30 किलोमीटर सीमा को अति संवेदनशील घोषित किया है। इस सीमा पर मंगलवार की रात पार्क के अधिकारियों के नेतृत्व में फ्लैग मार्च किया गया था। वहीं अब कोरोला संक्रमण की गंभीरता को देखते हुए पार्क प्रशासन ने इन संवेदनशील क्षेत्रों में दोबारा मेगा फ्लैग मार्च करने का निर्णय लिया है। वन्य जीव प्रतिपालक कोमल सिंह ने बताया कि मेगा फ्लैग मार्च की तैयारी शुरू कर दी गई है। इस मेगा फ्लैग मार्च का मुख्य उद्देश्य जंगली जानवरों को आबादी क्षेत्र में आने से रोकना और किसी भी व्यक्ति को राजाजी टाइगर रिजर्व पार्क की सीमा में अंदर आने से रोकना है। उन्होंने बताया कि बुधवार को हरिद्वार, धोलखंड, बेरीवाड़ा, चीलावाली आदि कहीं रेंजों में सतर्कता बरतते हुए गश्त की गई। इसके साथ ही कईं अति संवेदनशील सीमाओं पर फ्लैग मार्च भी किया गया।
वन विभाग सतर्क, सर्च ऑपरेशन चलाया
जंगली जानवरों में कोरोना महामारी के लक्षण पाए जाने पर अब वन विभाग भी सतर्क हो गया है। हरिद्वार वन प्रभाग के रेंजर दिनेश नौटियाल ने बताया कि मंगलवार की रात और बुधवार की सुबह कई संवेदनशील क्षेत्रों में सर्च ऑपरेशन चलाया गया ताकि कोई भी व्यक्ति जंगली जानवरों के संपर्क में न आ सके। उन्होंने बताया कि पथरी, बिशनपुर और रोशनाबाद में करीब 25 से 30 किलोमीटर की सीमा में वन विभाग की टीमें सर्च ऑपरेशन चलाकर गश्त कर रही है। किसी भी स्थिति से निपटने के लिए कर्मचारियों को सख्त दिशा निर्देश जारी किए गए हैं।
... और पढ़ें

सील हुए तीन वार्डों में पहले दिन केवल दूध और सब्जी भिजवाई

जंगल में फ्लैग मार्च निकालते वन कर्मी ।
हरिद्वार ज्वालापुर के तीन वार्ड पूर्णतया सील कर दिए हैं। इनमें पांवधोई, नीलखुदाना और लकड़हारान शामिल है। इसके अलावा सात वार्ड बफर जोन में शामिल करते हुए उनकी आवाजाही भी बंद कर दी गई। तीन वार्डों में दूध की सप्लाई सरकारी डेयरी से कराई। शुक्रवार से सब्जी के लिए 20 ठेले जारी होंगे। इसके अलावा अधिकांश सुविधाएं सरकार की ओर से जारी रहेंगी। जबकि बफर जोन में आवश्यक सेवाएं सुचारू रही। इन क्षेत्रों में लोगों की समस्याओं को जानने के लिए 15 वॉलियंटर्स लगाए दिए गए हैं।
कोरोना संक्रमण के दो जमातियों के पॉजिटिव आने पर वार्ड 43-पांवधोई, वार्ड 46-नीलखुदना, वार्ड 49-लकड़ाहरान क्षेत्र पूरी तरह से सील कर दिए हैं। बृहस्पतिवार को केवल सरकारी डेयरी के माध्यम से दूध की सप्लाई कराई गई। सब्जी का ट्रक क्षेत्र में भेज दिया गया। इससे कुछ नियत स्थानों पर सप्लाई दी गई। इसके अलावा अन्य सुविधाएं पहले दिन बंद रही, लेकिन अब शुक्रवार से इन क्षेत्रों में सब्जी, गैस, राशन की सप्लाई जारी हो जाएगी। सब्जियों के लिए नगर निगम ने 20 लघु व्यापारी चयनित किए हैं, जो घर-घर जाएंगे। गैस सिलिंडर की डिलीवरी करने से पहले उसे सैनिटाइज किया जाएगा वहीं खाली सिलिंडर भी सैनिटाइज करने के बाद ही लिया जाएगा। इसके लिए हाइड्रोक्लोराइड के साथ अन्य सुरक्षा कवच सप्लायर कर्मी के पास मौजूद रहेगा। आटा, चावल के साथ अन्य जरूरतमंद सामान की डिलीवरी नगर निगम के माध्यम से घर-घर होगी। एसडीएम कुश्म चौहान ने बताया कि क्षेत्र में सेवा के लिए 15 वॉलियंटर्स तैनात किए गए हैं, जोकि शुक्रवार से क्षेत्रों में जाएंगे।
सात बफर जोन वार्ड की सुविधाएं रहेगी जारी
वार्ड 38 मेहतान, वार्ड 41 कस्सावान, वार्ड 42 वाल्मीकि बस्ती, वार्ड 44 त्रिमूर्ति नगर आंशिक तौर पर, वार्ड 45 तपोवन नगर, वार्ड 47 पांडेयवाला, वार्ड 48 चाकलान को बनाया गया है। एसडीएम कुश्म चौहान ने बताया कि इन क्षेत्रों में सुबह सात से दोपहर एक बजे तक सुविधाएं पूर्व की भांति जारी रहेगी। केवल बाहरी लोगों की आवाजाही बंद रहेगी। अनावश्यक लोग घूमते मिले तो उनके खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया जाएगा।
... और पढ़ें

वन गूर्जरों के परिवारों का किया मेडिकल परीक्षण

स्वास्थ्य विभाग की टीम ने क्षेत्र में कई स्थानों पर पहुंचकर वन गुर्जरों के परिवार के लोगों के स्वास्थ्य की जांच की। पदार्था में वन गुर्जर बस्ती व बिशनपुर कुंडी और पुरानी कुंडी में गंगा किनारे बसे वन गुर्जरों के डेरों पर स्वास्थ्य विभाग की टीम पहुंची। बताया जाता है कि इन स्थानों से कई वन गुर्जर जमात में गये थे। जमात से वापस लौटकर आये वन गुर्जरों को कलियर में क्वारंटीन के लिए रखा गया है। स्वास्थ्य विभाग की टीम ने वन गुर्जरों के परिवारों के लोगों की जांच की। स्वास्थ्य विभाग की टीम में डॉ. संदीप कुमार, अंशिका, दीपिका आदि शामिल रहे। इस मौके पर बिशनपुर कुंडी के ग्राम प्रधान सुखदेव पाल, पदार्था के ग्राम प्रधान नजाकत अली आदि भी मौजूद रहे। ... और पढ़ें

Lockdown: हरिद्वार से जमाती फरार, मदद में सामने आई मां की भूमिका, दोनों पर हत्या के प्रयास का मुकदमा दर्ज

हरिद्वार के ज्वालापुर क्षेत्र होम क्वारंटीन एक जमाती फेसिलिटी क्वारंटीन कराने पहुंची स्वास्थ्य विभाग की टीम को गच्चा देकर फरार होने में कामयाब रहा। जमाती को फरार कराने में उसकी मां की मुख्य भूमिका समाने आई है। पुलिस ने मां-बेटे दोनों के खिलाफ हत्या के प्रयास का मुकदमा दर्ज किया है। क्षेत्र के मोहल्ला मछियारों वाली गली तेलियान का रहने वाला सावेज पुत्र गुलजार 20 मार्च को जमात में शामिल होने देहरादून गया था। वह 26 मार्च को लौटा था।

जानकारी मिलने पर डॉ. विनय सिंह ने सावेज को सीएचसी बहादराबाद में मेडिकल परीक्षण के बाद छह अप्रैल तक होम क्वारंटीन किया था। बाकायदा स्वास्थ्य विभाग ने घर के बाहर नोटिस भी चस्पा कर दिया था। बुधवार को स्वास्थ्य विभाग की टीम सावेज को होम क्वारंटीन से पिरान कलियर में फेसिलिटी क्वारंटीन कराने के लिए उसके घर पहुंची। आरोप है कि सावेज की मां गुलशाना ने बेटे को घर से भगा दिया। टीम ने पूरे घर को खंगाला पर वह नहीं मिला।

जमाती के गायब होने की खबर मिलते ही हड़कंप मच गया। इस संबंध में रेल चौकी प्रभारी सुनील रावत की तरफ से मां और बेटे के खिलाफ हत्या के प्रयास समेत प्रभावी धाराओं में मुकदमा दर्ज कराया गया है। आरोप है कि मां बेटे की वजह से कई आमजन की जिंदगी खतरे में पड़ गई है। कोतवाली प्रभारी योगेश सिंह देव ने बताया कि युवक की तलाश कर रहे हैं। उसका मोबाइल फोन भी स्विच ऑफ है।
... और पढ़ें

मेरठ नहीं दिल्ली की तब्लीगी जमात से लौटा था युवक

कोरोना पॉजीटिव युवक मेरठ की नहीं बल्कि दिल्ली के निजामुद्दीन की तब्लीगी जमात से लौटा था। यह जानकारी सामने आने पर बाजार चौकी प्रभारी देवेंद्र चौहान की तरफ से इस संबंध में युवक के खिलाफ हत्या की कोशिश समेत प्रभावी धाराओं में मुकदमा दर्ज कराया गया है। युवक का इलाज मेला अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में चल रहा है।
ज्वालापुर क्षेत्र का एक युवक 27 मार्च को जमात से लौटकर आया था। यह बात सामने आने पर उसे एक अप्रैल को पिरान कलियर में क्वारंटीन कराया गया था। बुधवार को उसकी सैंपल रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आई। युवक ने पुलिस की प्रारंभिक पूछताछ में बताया था कि वह मेरठ की जमात से लौटकर आया है। इधर, ज्वालापुर पुलिस की पड़ताल में सामने आया कि वह मेरठ की नहीं बल्कि दिल्ली की निजामुद्दीन तब्लीगी जमात में शामिल होकर लौटा था। कोतवाली प्रभारी योगेश सिंह देव ने बताया कि युवक ने सही जानकारी छिपाकर कई जिंदगियों को खतरे में डाला है। इस संबंध में युवक के खिलाफ हत्या की कोशिश समेत प्रभावी धाराओं में मुकदमा दर्ज कर लिया गया है।
... और पढ़ें

Coronavirus in Uttarakhand : हरिद्वार में निजामुद्दीन मरकज से लौटे कोरोना संक्रमित जमाती समेत तीन के खिलाफ मुकदमा दर्ज

दो जमातियों के आने पर पांवधोई क्षेत्र पूरी तरह से सील

ज्वालापुर कोतवाली क्षेत्र के दो जमातियों की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद प्रशासन ने पांवधोई क्षेत्र को पूरी तरह से सील कर दिया है। एहतियातन जटवाड़ा पुल से दुर्गा चौक तक भी आवाजाही बंद कर दी है। इस क्षेत्र में कोई कोई दुकान नहीं खुलेगी और दूधिया व सब्जी विक्रेता भी प्रवेश नहीं कर सकेंगे। जरूरत पड़ने पर प्रशासन ही मदद करेेगा। क्षेत्र में बैरिकेडिंग लगाने के साथ पीएसी तैनात कर दी गई है।
मंगलवार देर रात को सिविल अस्पताल में भर्ती पांवधोई निवासी एक मरीज के पॉजिटिव होने की रिपोर्ट आई। उसे रात में मेला अस्पताल में भर्ती कर दिया। इसी के साथ दोपहर को पांवधोई निवासी एक अन्य युवक की भी पॉजिटिव रिपोर्ट आ गई। एक क्षेत्र से दो जमातियों के संक्रमण की पुष्टि होने पर जिला प्रशासन के साथ स्वास्थ्य विभाग में हड़कंप मच गया। इससे सुबह तड़के सीओ अभय प्रताप सिंह के नेतृत्व में पुलिस भारी संख्या में पांवधोई पहुंची और पूरे क्षेत्र के रास्तों पर बैरिकेडिंग लगा दी गई। पूरे क्षेत्र में मुनादी कराई गई कि कोई भी व्यक्ति घर से बाहर नहीं निकलेगा।
इस दौरान एसएसपी सेंथिल अबुदई कृष्णराज एस, एसपी सिटी कमलेश उपाध्याय और सीओ सिटी अभय प्रताप सिंह आदि अधिकारियों के साथ मौके पर पहुंचे और पूरे इंतजाम का जायजा लिया। उन्होंने पांवधोई के साथ कस्साबान को भी सील कर दिया है। निगरानी के लिए पीएसी लगा दी गई।
ड्रोन से होगी निगरानी
पांवधोई क्षेत्र के साथ आसपास की कालोनियों के छोटी-छोटी गलियों में निगरानी के लिए ड्रोन कैमरा लगा दिया है। पूरी क्षेत्र की मॉनिटरिंग के लिए कोतवाली में कंट्रोल रूम बना दिया है। एसएसपी ने बताया कि यदि कोई नियम तोड़ता हुआ पाया गया तो उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई होगी।
पूरी रात चला था अभियान, लेकिन सामने आया कोई जमाती
हरिद्वार। ज्वालापुर क्षेत्र में 44 जमातियों की सूचना मिलने पर स्वास्थ्य विभाग की टीम 6 एंबुलेंस लेकर क्षेत्र में पहुंची। क्षेत्रों में पहुंचने पर जमातियों की शिनाख्त के लिए भारी संख्या में पुलिस तैनात रही। लेकिन रात में गलियों में पहचान न होने पर टीम खाली हाथ लौटी। एक व्यक्ति मिला भी, लेकिन वह भागने में कामयाब रहा।
जिला प्रशासन करेगा सहायता
सील किए ज्वालापुर क्षेत्र में किसी जिला प्रशासन जरूरत का उपलब्ध कराएगा। खासकर बीमार लोगों की मदद की जाएगी। एसडीएम कुश्म चौहान ने बताया कि इस काम के लिए संबंधित क्षेत्र के लेखपाल और राजस्व कर्मी को नियुक्त किया गया है।
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer


हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर और व्यक्तिगत अनुभव प्रदान कर सकें और लक्षित विज्ञापन पेश कर सकें। अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।
Agree
Election
  • Downloads

Follow Us