विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
नवरात्र में कराएं कामाख्या बगलामुखी कवच का पाठ व हवन, पाएं कर्ज मुक्ति एवं शत्रुओं से छुटकारा
Astrology Services

नवरात्र में कराएं कामाख्या बगलामुखी कवच का पाठ व हवन, पाएं कर्ज मुक्ति एवं शत्रुओं से छुटकारा

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

Lockdown In Uttarakhand Live Updates : लॉकडाउन के दौरान एंबुलेंस में स्मैक की तस्करी करते चार युवक गिरफ्तार

कोरोना वायरस को लेकर उत्तराखंड में लॉकडाउन आज भी जारी है। सोशल डिस्टेंसिंग को लेकर पुलिस चप्पे-चप्पे पर तैनात है।

29 मार्च 2020

विज्ञापन
विज्ञापन

रुड़की

रविवार, 29 मार्च 2020

लिफ्ट लेकर और पैदल ही बिहार लौटने लगे मजदूर

लक्सर। लॉकआउट होने के बाद बद्रीनाथ में काम करने वाले बिहार के रहने वाले कई मजदूरों ने घर के तरफ रुख कर दिया है। वह लिफ्ट लेकर और पैदल चलकर तीन दिन में लक्सर पहुंचे। यहां प्रशासन ने उनकी जांच कराई और रैन बसेरे में रहने व खाने-पीने की व्यवस्था की।
लॉकडाउन के बाद सभी काम बंद होने पर दूसरे प्रदेशों के मजदूरों ने अपने घर की तरफ रुख कर दिया है। ऐसे में बिहार के बिशंभरपुर गांव निवासी आफताब आलम, झून्ना पटेल, अंसारी, राकेश पटेल, सेफुलाल नोशाद अंसारी ने भी अपने घर की तरफ रुख कर दिया है। लक्सर पहुंचे इन मजदूरों ने प्रशासन को बताया कि वह कई सालों से बद्रीनाथ में मजदूरी कर रहे हैं। 22 मार्च को लॉकडाउन होने के बाद काम बंद हुआ तो वह 23 मार्च को घर वापसी के लिए निकल पड़े। बताया कि उन्होंने वहां से एक तेल के टैंकर में भी लिफ्ट ली। इसके बाद वह ऋषिकेश पहुंचे। यहां कुछ लोगों ने उन्हें खाना उपलब्ध कराया। इसके बाद वह पैदल निकल पड़े और बृहस्पतिवार को लक्सर पहुंचे। यहां वह पैदल ही रेलवे ट्रैक से होते हुए घर लौट रहे थे। तभी जीआरपी ने उन्हें देखा। एसडीएम पूरण सिंह राणा ने बताया कि सभी मजदूरों के स्वास्थ्य की जांच कराई गई। जांच में सभी का स्वास्थ्य सही पाया गया है। सभी को रैन बसेरे में रोका गया है और खाने-पीने की व्यवस्था की गई है।
... और पढ़ें

लॉक डाउन का दिखा असर, घरों में रहे लोग

रुड़की। शहर और देहात में बृहस्पतिवार को लॉकडाउन का पूरा असर दिखाई दिया। कोरोना से बचाव के लिए पुलिस की ओर से की गई सख्ती के बाद लोग अपने घरों में ही रहे। सुबह सात से 10 बजे के बीच में भी लोग कम ही दुकानों पर दिखाई दिए। सब्जी मंडी में भी लोगों की संख्या कम थी। पुलिस ने 10 बजे के बाद पूरी तरह लोगों के घर से बाहर निकलने पर पाबंदी लगा दी। साथ ही कई जगहों पर लाठियां भांजकर लोगों को घरों के अंदर किया।
कोरोना से बचाव के लिए पुलिस प्रशासन ने लोगों को घर में ही रहने की हिदायत दी है। घरों से बाहर निकलने वालों को पुलिस कड़ी कार्रवाई की चेतावनी दे रही है। बुधवार की तुलना में बृहस्पतिवार को शहर और देहात क्षेत्र मंगलौर, लक्सर, खानपुर, सुल्तानपुर, भगवानपुर, कलियर, झबरेड़ा, नारसन और बुग्गावाला में लॉकडाउन का पूरा असर दिखाई दिया। जरूरी सामान लेने के लिए ही सुबह सात से 10 बजे के बीच लोग घरों से बाहर निकले। इस बीच दुकानों और मंडी में लोगों की संख्या कम रही। पुलिस ने दुकानों से सामान लेने के लिए पहुंचे लोगों को दूरी बनाने के लिए गोल घेरे में रहकर सामान खरीदवाया। 10 बजे के बाद पुलिस ने घरों से बाहर निकलने पर पूरी तरह पाबंदी लगा दी। बाहर निकलने वाले लोगों पर पुलिस ने सख्ती दिखाई दी और घरों में रहने की सलाह दी। कई जगहों पर पुलिस ने लाठियां भांजकर लोगों को घरों के अंदर किया। एसपी देहात एसके सिंह ने बताया कि अगर कोई घर से बाहर निकलता है तो कड़ी कार्रवाई की जा रही है। सुबह सात से 10 बजे तक ही जरूरी सामान खरीदने के लिए लोग घरों से बाहर निकल सकते हैं।
------------
खाकी पेश कर रही मानवता की मिसाल
लॉकडाउन के बीच शहर से लेकर देहात तक खाकी मानवता की बड़ी मिसाल पेश कर रही है। पुलिस की ओर से गरीब लोगों को खाना, राशन और जरूरी सामान उपलब्ध कराया जा रहा है। इस क्रम में सिविल लाइंस कोतवाली प्रभारी अमरजीत सिंह की ओर से पूरी और सब्जी बनवाकर पैकेट में खाना पैक कर गरीब लोगों को दिया जा रहा है। एसपी देहात एसके सिंह, सीओ रुड़की चंदन सिंह बिष्ट, कोतवाली प्रभारी अमरजीत सिंह, यातायात निरीक्षक मोहम्मद अकरम ने भी गरीब लोगों को खाने के पैकेट वितरित किए। पुलिस के इस कार्य की शहर से लेकर देहात तक के लोग जमकर प्रशंसा कर रहे हैं। वहीं, गंगनहर कोतवाली में तैनात एसआई विनय मोहन ने भी लोगों को अपनी तरफ से खाने-पीने का सामान वितरित किया। उन्होंने अपनी जेब खर्च से गरीब लोगों के घरों में जाकर राशन का सामान दिया। विनय मोहन के इस कार्य की पुलिस अधिकारी और आम जनता प्रशंसा कर रहे हैं।
---------------
30 वाहन सीज, 12 का चालान
शहर और देहात में बृहस्पतिवार को पुलिस ने 30 वाहनों को सीज किया और 12 लोगों का नियम तोड़ने पर चालान किया। एसपी देहात एसके सिंह ने बताया कि अगर लोग वाहन लेकर घर से बाहर निकलेंगे तो यह कार्रवाई की जाएगी। इसलिए लोग अपने घरों में ही रहें।
---------------
आईआईटी का छात्र अस्पताल में भर्ती
कोरोना की आशंका के चलते आईआईटी के एक छात्र को सिविल अस्प्ताल के आइसोलेशन वार्ड में भर्ती कराया गया है। साथ ही सैंपल लेकर जांच को भेजा गया है। छात्र 14 मार्च को जयपुर से रुड़की लौटा था। अब उसे खांसी, जुकाम और बुखार की शिकायत हुई थी। आईआईटी प्रशासन ने स्वास्थ्य विभाग को जानकारी दी तो टीम मौके पर पहुंची और उसे अपनी साथ अस्पताल ले आई। वहीं, बाहर से आए 17 लोगों की भी अस्पताल में जांच की गई। उनका स्वास्थ्य जांच में सही पाया गया। ये लोग उड़ीसा व महाराष्ट्र से गांव लौटे थे। इन लोगों को 14 दिन तक घर में ही रहने की सलाह दी गई है। उधर, एक युवती समेत तीन लोगों की रिपोर्ट बृहस्पतिवार को निगेटिव आई है। इसके बाद उन्हें घर भेज दिया गया और घर में ही रहने की सलाह दी गई।
... और पढ़ें

रुड़की: दहेज न देने पर की पत्नी को जिंदा जलाने की कोशिश, कामयाब न हुआ तो दे दिया तीन तलाक

उत्तराखंड के रुड़की में एक युवक ने दहेज में 50 हजार रुपये नहीं देने पर पति सहित ससुरालियों ने महिला को जिंदा जलाने की कोशिश की। परिवार के अन्य सदस्यों ने महिला के साथ मारपीट की। किसी तरह महिला ने खुद को बचाया तो पति ने तीन तलाक दे दिया।

सूचना पर पहुंचे मायकेवाले महिला को लेकर कोतवाली पहुंचे, जहां उन्होंने ससुरालवालों के खिलाफ तहरीर दी है। पुलिस मामले की पड़ताल शुरू कर दी है। कोतवाली के रायपुर गांव निवासी एक व्यक्ति ने पिछले साल जून में अपनी बेटी का निकाह एक गांव निवासी एक युवक के साथ किया था।

विवाहिता का आरोप है कि उसके ससुराल वाले शादी में मिले दान दहेज से खुश नहीं थे। उनके ससुराल वाले उस पर 50 हजार रुपये लाने का दबाव बनाने लगे। विवाहिता ने मायक में परिजनों को यह बात बताई।
... और पढ़ें

सफाई कर्मचारियों से मारपीट, गमला फेंका, हंगामा

सैनिटाइज करने पहुंचे तीन कर्मचारियों और सफाई नायक के साथ एक गली के कुछ लोगों ने मारपीट कर दी। विरोध करने पर छत से एक कर्मचारी के ऊपर महिला ने गमला फेंक दिया। उसने भागकर जान बचाई। सूचना मिलते ही सभी सफाईकर्मी मौके पर पहुंचे और हंगामा कर दिया। इसी बीच बड़ी संख्या में पुलिस भी पहुंच गई और मारपीट करने वालों को घर से बाहर खींचने का प्रयास कर रहे सफाई कर्मचारियों को किसी तरह रोका। एक व्यक्ति को पुलिस ने हिरासत में लिया तो कर्मचारियों ने उससे मारपीट कर दी। किसी तरह पुलिस उसे कोतवाली ले आई तो यहां भी बड़ी संख्या में कर्मचारी जमा हो गए और नारेबाजी की।
कोरोना का संक्रमण रोकने के लिए नगर निगम की ओर से गली, मोहल्ले को सैनिटाइज करवाया जा रहा है। शनिवार शाम करीब तीन बजे तीन सफाई कर्मचारी रोहित, अमन और शक्ति जादूगर रोड पर गुरुद्वारे के पीछे वाली गली में सैनिटाइज करने पहुंचे। इसी बीच गली के एक व्यक्ति ने नाली सफाई नहीं होने की बात कही। कर्मचारियों ने कहा कि नाली भी साफ कर देंगे, लेकिन अभी कोरोना के चलते शहर को सैनिटाइज किया जा रहा है। आरोप है कि इस पर व्यक्ति ने कर्मचारियों से अभद्रता और मारपीट कर दी। कर्मचारियों ने विरोध किया तो दो पड़ोसी और आ गए। तीनों ने कर्मचारियों के साथ मारपीट कर दी। कर्मचारियों ने सूचना सफाई नायक दिनेश पिंकी को दी। दिनेश मौके पर पहुंचे तो आरोप है कि तीनों ने सफाई नायक से भी मारपीट कर दी।
इसके बाद तीनों अपने घरों में घुस गए। मारपीट का विरोध करने पर सफाई कर्मचारियों ने हंगामा किया तो एक महिला ने छत से गमला फेंक दिया। कर्मचारी से भागकर अपनी जान बचाई। मारपीट की सूचना पर बड़ी संख्या में सफाई कर्मचारी गली में पहुंचे और हंगामा कर दिया। कुछ ही देर में भारी पुलिस बल मौके पर पहुंच गया। पुलिस ने कर्मचारियों को समझाने का प्रयास किया, लेकिन वे नहीं माने। पुलिस ने मारपीट करने वाले एक व्यक्ति को घर में घुसकर हिरासत में लिया और बाहर ले आई। बाहर आते ही कर्मचारियों ने उससे मारपीट कर दी। किसी तरह पुलिस ने उसे बचाकर कोतवाली पहुंचाया। तब तक सफाईकर्मी सफाई व्यवस्था बंद कर गली के बाहर जुट गए। सूचना मिलते ही मेयर गौरव गोयल, विधायक देशराज कर्णवाल भी मौके पर पहुंचे और विवाद शांत करवाने का प्रयास किया। कोतवाली प्रभारी अमरजीत सिंह ने बताया कि कर्मचारियों की तहरीर मिलते ही केस दर्ज किया जाएगा। इस दौरान एसएसआई प्रदीप कुमार, एसआई रविंद्र सिंह, एसआई अंकुर शर्मा समेत सिपाही प्रवीन कुमार, सचिन कुमार, विनोद चपराना और लईक अहमद समेत अन्य पुलिस कर्मियों ने मोर्चा संभाला और किसी तरह मामला शांत किया।
गली के बाहर कूड़ा डालने का प्रयास
मारपीट से नाराज सफाई कर्मचारी कूड़े के वाहन गली के बाहर लेकर पहुंच गए। पुलिस ने किसी तरह उन्हें समझाने का प्रयास किया, लेकिन वे हंगामा करते रहे। कर्मचारियों ने कूड़े से भरी गाड़ी को गली के बाहर पलटने का प्रयास किया। पुलिस ने सख्ती दिखाते हुए कूड़ा डालने पर कार्रवाई की चेतावनी दी। इसे लेकर कर्मचारियों की पुलिस से नोकझोंक हो गई। बाद में सफाई कर्मचारी कूड़े के वाहन लेकर लौट गए। इस दौरान करीब डेढ़ घंटे तक सफाई कर्मियों ने हंगामा किया।
सामाजिक दूरी की उड़ी धज्जियां
कोरोना के चलते सामाजिक दूरी बनाए रखने और घरों में रहने की सलाह दी जा रही है। शनिवार को कर्मचारियों से मारपीट के मामले में सामाजिक दूरी की जमकर धज्जियां उड़ी। बड़ी संख्या में लोग एक जगह जमा हो गए। किसी ने भी सामाजिक दूरी नहीं रखी। इसके बाद कोतवाली में भी यही आलम रहा। कोतवाली में भी सामाजिक दूरी बनाए रखने की बजाए बड़ी संख्या में लोग जमा हो गए।
गुस्साए कर्मचारियों ने पार्षद से की मारपीट
हंगामे के दौरान मौके पर पहुंचे पार्षद वीरेंद्र गुप्ता से कर्मचारियों ने मारपीट कर दी। कर्मचारियों का कहना था कि पार्षद कॉलोनी के लोगों का पक्ष ले रहे हैं। कर्मचारियों ने पार्षद पर डंडे से हमला कर दिया। मुश्किल से लोगों ने उन्हें बचाया।
रुड़की स्थित जादूगर रोड पर कर्मचारी के साथ हुई मारपीट के विरोध में आरोपी की गिरफ्तारी की मांग को ?
रुड़की स्थित जादूगर रोड पर कर्मचारी के साथ हुई मारपीट के विरोध में आरोपी की गिरफ्तारी की मांग को ?- फोटो : ROORKEE
... और पढ़ें
रुड़की स्थित जादूगर रोड पर कर्मचारी के साथ हुई मारपीट के दौरान स्थानीय पार्षद की पिटाई करते सफाई रुड़की स्थित जादूगर रोड पर कर्मचारी के साथ हुई मारपीट के दौरान स्थानीय पार्षद की पिटाई करते सफाई

परेशान न हो, अब घर में पहुंचे हर जरूरत का सामान

नगर निगम रुड़की ने कोरोना के चलते लोगों को सामान की होम डिलीवरी कराने की कवायद शुरू की है। इसके लिए पूरे शहर को छह जोन में बांटा है। मुख्य नगर आयुक्त नूपुर वर्मा ने बताया कि शासन की ओर से दिए जा रहे निर्देशों के अनुसार लोगों को हर संभव सहायता देने का प्रयास किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि अलग-अलग क्षेत्रों में दुकानदारों से बात कर उनके फोन नंबर की डिटेल सार्वजनिक की जा रही है। जिन पर लोग संपर्क कर सामान को सीधे अपने घर मंगा सकते है।
--------------------
होम डिलीवरी के लिए दुकानदारों की सूची-
आदर्शनगर- विशाल मेघा मार्ट-9758988926, 8218274196
सोलानीपुरम- महादेव प्रोविजन स्टोर- 9997540526
खंजरपुर- किंग्स स्टोर सिविल लाइन-7351324715
सीबीआरआई- मिल्क बार सिविल लाइन-9997472220
आईआईटी- फेयरडील प्र्रोविजन स्टोर सिविल लाइन-9997040881
सिविल लाइन मध्य- जनता स्टोर सिविल लाइन-9897888837,9897001266
जादूगर रोड- ईजी-डे सिविल लाइन-9136980599
मोहनपुरा उत्तरी- गो फेश-9837046229
मोहनपुरा दक्षिणी- ईजी-डे मोहनपुरा-8826235637
डिफेंस कॉलोनी- तोमर डेयरी आकाशदीप एन्क्लेव-7017369599
साउथ सिविल लाइन- अनुभव डिपार्टमेंट स्टोर-8171378081
प्रीत विहार- सोनू प्रोविजन स्टोर-9720412805
गणेशपुर उत्तरी व दक्षिणी, शेखपुरी- ईजी-डे बीएएम तिराहा-9208107816
शिवपुरम- गगन प्रोविजन स्टोर पनियाला रोड-9837484015
सुभाषनगर- संदीप प्रोविजन स्टोर-9837673813,7818019055
कृष्णानगर- किसान प्रोविजन स्टोर-9045127147
सलेमपुर- अंजता प्रोविजन स्टोर-7883812968
सलेमपुर औद्योगिक- उपयोग वस्तु भंडार-9760005537
रामनगर- कोहली प्रोविजन स्टोर-9837314003
काशीपुरी- मनोज प्रोविजन स्टोर-7456987705
सुनहरा- रोहित प्रोविजन स्टोर-8218377745
मतलबपुर- आरव प्रोविजन स्टोर, अरोड़ा प्रोविजन स्टोर-9897069797, 9027325343
मकतूलपुरी, पूर्वी दीनदयाल, साकेत, चावमंडी- आर्य डेयरी चावमंडी-6399939661
पश्चिमी अंबर तालाब- आहूजा प्रोविजन स्टोर-9639213885
पूर्वी अंबर तालाब- श्री विनायक प्रोविजन स्टोर-9719078832
पुरानी तहसील- जीवनदास प्रोविजन स्टोर-9897944558
सोत व सत्ती मोहल्ला- संजय छावड़ा प्रोविजन स्टोर-9027201456
... और पढ़ें

कोरोना के चलते चंडीगढ़ से लौट रहे चार मजदूरों से लूट

कोरोना वायरस के चलते रोजी रोटी छिनने के बाद चंडीगढ़ से भूखे-प्यासे पैदल गोरखपुर जा रहे चार मजदूरों के साथ सहारनपुर जिले में बदमाशों ने लूटपाट कर दी। हथियार दिखाकर बदमाशों ने उनके पास रखी दो हजार की नकदी लूट ली और फरार हो गए। किसी तरह पीड़ित मजदूर भगवानपुर की काली नदी चौक पर पहुंचे। यहां उत्तराखंड की ‘मित्र पुलिस’ ने अपने स्लोगन को चरितार्थ करते न केवल मजदूरों को खाना खिलाया बल्कि तेल के टैंकर से निशुल्क गोरखपुर जाने की व्यवस्था भी कर दी।
गोरखपुर निवासी रामधन, सुरेश कुमार, जनार्दन लाल और धर्मदास चंडीगढ़ स्थित एक फैक्टरी में मजदूरी करते थे। लॉकडाउन होने के कारण फैक्टरी मालिक ने उनको बाहर निकाल दिया। रोजी रोटी का संकट खड़ा होने के बाद उन्हें केवल घर दिखाई दे रहा था। उन्होंने बताया कि घर आने के लिए कोई साधन नहीं मिला तो पैदल ही गोरखपुर के लिए निकल पड़े। शनिवार रात जैसे ही उन्होंने सहारनपुर जिले में प्रवेश किया तो रास्ते में दो बदमाशों ने हथियारों के बल पर रोक लिया। बदमाशों ने उनसे दो हजार की नगदी लूट ली और विरोध करने पर मारपीट कर फरार हो गए। तड़के करीब चार बजे वे भगवानपुर क्षेत्र की काली नदी पुलिस चौकी पर पहुंचे। यहां पुलिस को अपनी आपबीती बताते समय पीड़ित मजदूर रोने लगे और कहा कि भूखे पेट पैदल चला नहीं जा रहा है। चौकी प्रभारी प्रदीप रावत ने पुलिस कर्मचारियों से खाना तैयार कराया और चारों मजदूरों को खाना खिलाया। इसके बाद एक तेल के टैंकर पर बैठाकर उनको गोरखपुर भेजा दिया। एसआई प्रदीप रावत ने बताया कि रात में चारों मजदूरों को सहारनपुर जिले में लूट लिया गया था। उन्हें पुलिस चौकी पर खाना खिलाकर भेजा गया है।
... और पढ़ें

लॉक डाउन: शहर में दिखा असर, देहात में बेअसर

लॉकडाउन का असर शहर में पूरी तरह दिख रहा है। जबकि देहात क्षेत्र में लोग लॉकडाउन का पालन नहीं कर रहे हैं। लोग दोपहर एक बजे के बाद भी सड़कों पर घूमते नजर आ रहे हैं। देहात क्षेत्र में पुलिस की सख्ती के बाद भी लोग गली, मोहल्ले में घूमते नजर आ रहे हैं। शहर के लोग अस्पताल जाने के लिए निकल रहे हैं। वहीं, एसपी देहात ने देहात क्षेत्र में पुलिस को सख्ती से लॉकडान का पालन करने के निर्देश दिए हैं।
लॉकडाउन का पालन कराने के लिए पुलिस और प्रशासनिक अधिकारी शहर और देहात के लोगों से लगातार अपील कर रहे हैं। साथ ही घर से बाहर निकलने वालों पर सख्ती करने के निर्देश दे रहे हैं। बृहस्पतिवार सुबह सात से दोपहर एक बजे तक ही शहर में दुकानों पर चंद लोग सामान खरीदने घर से बाहर निकले। दुकानों के बाहर पुलिस का पहरा था ताकि लोग सामान खरीदते समय दूरी बनाए रखे। शहर में एक बजते ही लोग अपने घरों को वापस लौट गए और लॉकडाउन का पालन किया। वहीं, देहात क्षेत्र में लोग कम ही लॉकडाउन का पालन कर रहे हैं। देहात क्षेत्र में लोग घरों से बाहर निकलकर गली, मोहल्ले और सड़कों पर घूम रहे हैं। हालांकि, देहात क्षेत्र में लगातार पुलिस गश्त कर लोगों से घरों में रहने की अपील कर रही है। साथ ही इन लोगों पर सख्ती कर रही है। पुलिस के गश्त के दौरान यह लोग डर से घरों में छिप जाते हैं, लेकिन पुलिस के जाते ही घर से बाहर निकल आते हैं। एसपी देहात एसके सिंह ने बताया कि शहर और देहात में लॉकडाउन का पालन कराने के लिए सख्ती करने के निर्देश दिए हैं। अगर कोई नियम का उल्लंघन करता है तो कड़ी कार्रवाई करने के निर्देश दिए गए हैं।
सेवाभाव से जुट रही पुलिस और लोग
शहर में पुलिस लगातार सेवा भाव से काम कर रही है। पुलिस अपनी ड्यूटी के साथ ही भूखे गरीब लोगों को खाना उपलब्ध करा रही है। वहीं, शहर के कई लोग और सामाजिक संगठन भी लोगों को राशन उपलब्ध करा रहे हैं। वहीं, पुलिस ने एसपीओ को भी ड्यूटी में लगाया है। उनकों ड्रेस, सैनिटाइजर, मॉस्क उपलब्ध कराए गए हैं। एसपीओ को शहर के जगह-जगह चौराहों पर तैनाती की गई है।
रुड़की में लॉकडाउन के दौरान सड़क पर घूम रहे युवकों से पूछताछ करती सीपीयू।
रुड़की में लॉकडाउन के दौरान सड़क पर घूम रहे युवकों से पूछताछ करती सीपीयू।- फोटो : ROORKEE
... और पढ़ें

Uttarakhand Lockdown: सैनिटाइज करने पहुंचे सफाईकर्मियों से मारपीट, भागकर बचाई जान

Uttarakhand Lockdown:  चंडीगढ़ से पैदल भूखे प्यासे लौट रहे मजदूरों पर बदमाशों का कहर

कोरोना वायरस के चलते रोजी रोटी छिनने के बाद चंडीगढ़ से भूखे-प्यासे पैदल गोरखपुर जा रहे चार मजदूरों के साथ सहारनपुर जिले में बदमाशों ने लूटपाट कर दी। हथियार दिखाकर बदमाशों ने उनके पास रखी दो हजार की नकदी लूट ली और फरार हो गए। किसी तरह पीड़ित मजदूर भगवानपुर की काली नदी चौक पर पहुंचे।

यहां उत्तराखंड की ‘मित्र पुलिस’ ने अपने स्लोगन को चरितार्थ करते न केवल मजदूरों को खाना खिलाया बल्कि तेल के टैंकर से निशुल्क गोरखपुर जाने की व्यवस्था भी कर दी। गोरखपुर निवासी रामधन, सुरेश कुमार, जनार्दन लाल और धर्मदास चंडीगढ़ स्थित एक फैक्टरी में मजदूरी करते थे। लॉकडाउन होने के कारण फैक्टरी मालिक ने उनको बाहर निकाल दिया।

रोजी रोटी का संकट खड़ा होने के बाद उन्हें केवल घर दिखाई दे रहा था। उन्होंने बताया कि घर आने के लिए कोई साधन नहीं मिला तो पैदल ही गोरखपुर के लिए निकल पड़े। शनिवार रात जैसे ही उन्होंने सहारनपुर जिले में प्रवेश किया तो रास्ते में दो बदमाशों ने हथियारों के बल पर रोक लिया।

बदमाशों ने उनसे दो हजार की नगदी लूट ली और विरोध करने पर मारपीट कर फरार हो गए। तड़के करीब चार बजे वे भगवानपुर क्षेत्र की काली नदी पुलिस चौकी पर पहुंचे। यहां पुलिस को अपनी आपबीती बताते समय पीड़ित मजदूर रोने लगे और कहा कि भूखे पेट पैदल चला नहीं जा रहा है।

चौकी प्रभारी प्रदीप रावत ने पुलिस कर्मचारियों से खाना तैयार कराया और चारों मजदूरों को खाना खिलाया। इसके बाद एक तेल के टैंकर पर बैठाकर उनको गोरखपुर भेजा दिया। एसआई प्रदीप रावत ने बताया कि रात में चारों मजदूरों को सहारनपुर जिले में लूट लिया गया था। उन्हें पुलिस चौकी पर खाना खिलाकर भेजा गया है।
... और पढ़ें

रुड़की : हाईवोल्टेज के चलते बीएसएनल एक्सचेंज जलकर राख, 50 हजार मोबाइल बने शोपीस

कोरोना के खिलाफ जारी लड़ाई के बीच शुक्रवार देर रात आग लगने से बीएसएनएल का मलकपुर चुंगी स्थित टेलीफोन एक्सचेंज जलकर राख हो गया। इससे शहर से देहात तक बीएसएनएल के 50 हजार मोबाइल, 2500 लैंडलाइन व ब्राडबैंड कनेक्शन ठप हो गए हैं। आग से एक करोड़ रुपये की मशीनें और अन्य सामान जलने की आशंका जताई जा रही है।

उम्मीद है कि मोबाइल सेवा तो जल्द बहाल कर ली जाएगी जबकि लैंडलाइन और ब्राडबैंड सेवा सुचारु होने में 15 से 20 दिन लग सकते हैं। जानकारी के मुताबिक, बीएसएनएल के टेलीफोन एक्सचेंज के अंडरग्राउंड केबल में
तेज वोल्टेज आने से रात करीब आठ बजे भीषण आग लग गई। सूचना मिलते ही बीएसएनएल अधिकारी मौके की ओर दौड़ पड़े।

कुछ देर बाद फायर ब्रिगेड की गाड़ी भी मौके पर पहुंची, लेकिन तब तक पूरा एक्सचेंज जलकर राख चुका था। सारी मशीनें जलने से रात में बीएसएनएल के 50 हजार मोबाइल ठप हो गए। इसके अलावा 1500 लैंडलाइन कनेक्शन और ब्राडबैंड भी ठप हो गए।

आग लगने से शहर के साथ-साथ देहात क्षेत्र के लक्सर, भगवानपुर, झबरेड़ा, नारसन, मंगलौर में भी बीएसएनएल के लैंडलाइन और मोबाइल फोन ठप पड़ गए। बीएसएनएल के मंडल इंजीनियर विवेक कुमार ने बताया कि पूरा एक्सचेंज जलकर राख हो गया है।
... और पढ़ें

आम आदमी के लिए मंडी बंद, गली-गली पहुंची सब्जी

सब्जी मंडी में भीड़ कम करने के लिए शुक्रवार से आम आदमी की एंट्री बंद कर दी गई। केवल ई रिक्शा, रेहड़ी और ठेली वालों को ही मंडी में प्रवेश दिया गया। मंडी से सब्जी लेकर इन लोगों ने ठेलियों और दुकानों के जरिये गली मोहल्लों में सब्जी बेची। लॉकडाउन के दौरान समयसीमा बढ़ने से लोगों ने आराम से मोहल्लों में ही सब्जी और फल खरीदा।
कोरोना वायरस का संक्रमण रोकने के लिए लागू लॉकडाउन के दौरान प्रदेश में सुबह सात से एक बजे तक सब्जी, राशन और मेडिकल की दुकानों को खुलने की अनुमति दी गई है। ऐसे में सुबह रुड़की मंडी में सब्जी और फल आदि खरीदने के लिए लोगों की भारी भीड़ उमड़ रही थी। लिहाजा सोशल डिस्टेंसिंग बेअसर नजर आ रहा था। इसमें चलते मंडी मुख्यालय की ओर से रुड़की मंडी समिति को आदेश जारी किए गए कि मंडी आम आदमी के लिए बंद कर दी जाए। सिर्फ ई-रिक्शा, रेहड़ी और ठेली पर सब्जी बेचने वाले लोगों को एंट्री दी जाए। ताकि ये लोग सब्जी और फल खरीदकर गली-मोहल्लों में बेच सकें और लोग आवश्यकता वहीं सब्जी खरीद सकें। मंडी समिति के सचिव अशोक जोशी ने बताया कि शुक्रवार से सब्जी मंडी को आम आदमी के लिए बंद कर दिया गया।
--
मंडी पहुंचने वालों को लौटाया
आम दिनों की तरह शुक्रवार को भी बहुत से लोग मंडी पर पहुंचे और अंदर जाने लगे। इस पर मंडी समिति के अधिकारियों और कर्मचारियों ने उन्हें रोका। साथ ही आश्वासन दिया कि रेहड़ी, ठेली और ई-रिक्शा से सब्जी गली-मोहल्ले में पहुंचाई जाएगी। इसके बाद लोग लौट गए।
--
थोक रेट पर अधिकारियों की निगाहें
मंडी समिति के सचिव अशोक जोशी ने बताया कि मंडी के थोक रेट पर लगातार नजर रखी जा रही है। मंडी में थोक रेट से अधिक पर यदि कोई सब्जी और फल बेचता पाया गया तो उसके खिलाफ आवश्यक कार्रवाई की जाएगी।
--
स्टॉम खत्म होने से वार्डों में नहीं पहुंच सके टेंपो
प्रशासन की ओर से निगम के सभी वार्डों में टेंपो के जरिये सब्जी पहुंचाने की कवायद शुरू की गई है, लेकिन शुक्रवार को दूसरे दिन खराब मौसम और रेहड़ी ठेली वालों को ज्यादा मात्रा में सब्जी सप्लाई होने से स्टॉक खत्म हो गया। इसके चलते टेंपो वार्डों में नहीं पहुंच सके। ज्वाइंट मजिस्ट्रेट नमामि बंसल ने बताया कि मंडी बंद होने के समय टेंपो में सब्जी लोड कराई जाती है, लेकिन तब तक स्टॉक खत्म हो गया था। मंडी के अधिकारियों को निर्देश दिए गए हैं कि टेंपो के लिए स्टॉक बचाकर रखे। शनिवार को वार्डों में टेंपो से सब्जी पहुंचाई जाएगी।
... और पढ़ें

लॉक डाउन: सिपाही ने टाली शादी तो छुट्टी की कैंसिल

संकट की इस घड़ी में मित्र पुलिस के स्लोगन को रुड़की की पुलिस पूरी तरह चरितार्थ कर रही है। कोरोना के कहर से बचाने के लिए मित्र पुलिस दिनरात ड्यूटी पर जुटी है तो भूखों का सहारा भी बन रही है। इस कड़ी में एक सिपाही लोगों को जागरूक करने और सुरक्षा के प्रति सजग रहने के लिए मिसाल पेश करते हुए पांच अप्रैल को होने वाली अपनी शादी टालकर काम पर लौट आया।
कोरोना जैसी महामारी के दौरान पुलिस लोगों की सुरक्षा में दिनरात सड़कों पर ड्यूटी कर रही है। साथ ही भूखों और गरीबों का सहारा बनकर उन्हें खाना-पीना उपलब्ध करा रही है। इस बीच सिविल लाइंस कोतवाली में तैनात सिपाही लईक अहमद ने लॉकडान का पालन करने के लिए पांच अप्रैल को होने वाली अपनी शादी टाल दी है। इतना ही नहीं अपनी छुट्टी भी कैंसिल कर लोगों की सुरक्षा के लिए ड्यूटी पर लौट आए हैं। बकौल लईक अहमद लोगों की सुरक्षा पहले है। शादी जैसे कार्यक्रम बाद में भी हो सकते हैं। इस वक्त हम सबको मिलकर कोरोना से बचना है। सिपाही के शादी टालने और छुट्टी कैंसिल कराने के बाद दिनरात ड्यूटी पर जुटे रहने की पुलिस अधिकारियों ने भी तारीफ की है।
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer


हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर और व्यक्तिगत अनुभव प्रदान कर सकें और लक्षित विज्ञापन पेश कर सकें। अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।
Agree
Election
  • Downloads

Follow Us