विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
हनुमान जयंती पर नौकरी प्राप्ति, आर्थिक उन्नत्ति, राजनीतिक सफलता एवं शत्रुनाशक हनुमंत अनुष्ठान - 8 अप्रैल 2020
Astrology Services

हनुमान जयंती पर नौकरी प्राप्ति, आर्थिक उन्नत्ति, राजनीतिक सफलता एवं शत्रुनाशक हनुमंत अनुष्ठान - 8 अप्रैल 2020

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

विज्ञापन
विज्ञापन

रुड़की

शुक्रवार, 3 अप्रैल 2020

निजामुद्दीन मरकज पहुंचे थे भगवानपुर के नौ लोग

निजामुद्दीन दिल्ली मरकज में आयोजित तबलीगी जमात में भगवानपुर क्षेत्र के डाडा जलालपुर से नौ लोग शामिल होने गए हुए हैं। फिलहाल उन्हें दिल्ली में ही क्वारंटीन किया गया है। वहीं, यूपी के सुल्तानपुर जिले से जमात कर लौटे मंगलौर क्षेत्र के आठ लोगों को पुलिस ने पकड़ने के बाद इनका चेकअप कराया है। जिन्हें उनके घरों में ही क्वारंटीन किया गया है। इसके अलावा झबरेड़ा क्षेत्र में भी यूपी से जमात कर लौटे छह में से चार लोगों का चेकअप करने के बाद उन्हें क्वारंटीन किया है। राहत की बात यह है कि अभी तक किसी में कोरोना के लक्षण नहीं दिखे हैं।
भगवानपुर के डाडा जलालपुर गांव से भी नौ लोग निजामुद्दीन दिल्ली मरकज में आयोजित तबलीगी जमात में पहुंचे थे। ग्राम प्रधान पवन कुमार ने बताया कि सभी नौ लोगों की गांव में उनके परिजनों से बात हुई है। इसमें उन्होंने बताया है कि दिल्ली पुलिस ने उनका चेकअप कराने के बाद वहीं पर उन्हें क्वारंटीन कर दिया गया है। वहीं, मंगलवार को मंगलौर क्षेत्र में यूपी से जमात कर आठ लोगों के लौटने की सूचना पर पुलिस-प्रशासन में हड़कंप मच गया। एसपी देहात एसके सिंह ने बताया कि सभी आठ लोग 17 से 19 फरवरी तक निजामुद्दीन मरकज में शामिल हुए थे। इसके बाद बीस फरवरी को ये यूपी के सुल्तानपुर जिले में जमात के रूप में पहुंचे थे। इसके बाद ये सभी सुल्तानपुर से बिजनौर होते हुए पैदल चलकर मंगलौर में मंगलवार की सुबह पहुंचे थे। जानकारी मिलते ही इन सभी को साथ लेकर सिविल अस्पताल रुड़की लाया गया। जहां चेकअप के दौरान फिलहाल किसी में कोई लक्षण नहीं मिले हैं। इसके बाद इन्हें घर में ही क्वारंटीन करा दिया गया है। इसके अलावा झबरेड़ा क्षेत्र निवासी छह लोग सोमवार की देर शाम कानपुर से जमात कर लौटे हैं। सूचना पर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र गुरुकुल नारसन के प्रभारी डॉ. विवेक तिवारी ने टीम भेजकर इनमें से चार लोगों का चेकअप किया। उन्होंने बताया कि सभी की हालात सामान्य है। इसलिए उनके घरों में ही क्वारंटीन कर दिया गया है। जबकि झबरेड़ा क्षेत्र के भगतोवाली गांव निवासी दो लोग अभी ट्रेस नहीं हो पाएं हैं। जल्द ही इनकी भी जांच कर आगे की कार्रवाई की जाएगी।
जमात से लौटे 31 लोगों की हो चुकी है जांच
रुड़की। भगवानपुर क्षेत्र के सिरचंदी गांव के 14 और मक्खनपुर गांव के 17 लोग 26 फरवरी व दस मार्च को दिल्ली मरकज से लौटे थे। सीएचसी भगवानपुर के चिकित्सक डॉ. विक्रांत सिरोही ने बताया कि इन सभी 31 लोगों की जांच कराई गई थी। जिसके बाद कोई लक्षण नहीं मिलने पर इन्हें निगरानी में रखा गया था। अभी तक किसी में कोरोना की पुष्टि नहीं हुई है।
... और पढ़ें

बंद मकान से 20 पेटी देशी शराब की बरामद

पुलिस ने एक बंद पड़े मकान में छापामारी कर बड़ी मात्रा में देशी शराब बरामद की है। जबकि वहां पर मौजूद लोग पुलिस आने की सूचना से मिलते ही फरार हो गए। पुलिस इन लोगों की तलाश कर रही है। साथ ही जानकारी जुटा रही है कि यह शराब कहां से लाई गई है।
लॉकडाउन के चलते शहर में कई लोग अवैध रूप से शराब की बिक्री कर रहे हैं। इसकी शिकायत लगातार पुलिस को मिल रही थी। मंगलवार को गंगनहर कोतवाली पुलिस को सूचना मिली थी कि चावमंडी में कुछ लोगों ने एक बंद पड़े मकान में शराब की बड़ी खेप जमा कर रखी है। साथ ही शराब को चोरी छिपे ऊंचे दामों पर लोगों को बेचा जा रहा है। सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंची और मकान में छापामारी की। इस दौरान पुलिस ने मकान का ताला तोड़कर देखा तो बड़ी मात्रा में देशी शराब रखी थी। कोतवाली प्रभारी राजेश साह ने बताया कि मकान से देशी शराब की बीस पेटी बरामद हुई है। इसकी कीमत करीब 60,000 रुपये है। शराब को जब्त कर लिया गया है। मकान में शराब रखने वालों की तलाश की जा रही है।
... और पढ़ें

राशन बांटने को लेकर हंगामा, भांजी लाठी

चौली शाहबुद्दीनपुर में ग्राम प्रधान पति के हाथों सरकारी राशन वितरित होते देख दूसरे पक्ष के लोगों ने जमकर हंगामा किया। सूचना पाकर पहुंची पुलिस ने लाठी भांजकर मामले को शांत कराया। एसडीएम के पहुंचने के बाद राशन का वितरण कराया गया।
मंगलवार को एसडीएम भगवानपुर की ओर से राशन की एक गाड़ी चौली शाहबुद्दीनपुर गांव में भेजी थी, जो गरीब लोगों को बांटी जानी थी। इस दौरान टीम गाड़ी को लेकर ग्राम प्रधान के घर पहुंची। इसके बाद ग्राम प्रधान पति शाजिद अली व टीम के सदस्य गांव में राशन वितरित करने लगे। इस पर गांव के ही दूसरे पक्ष के लोगों ने आपत्ति की। लोगों का कहना था कि सरकारी राशन को ग्राम प्रधान पति के हाथों नहीं बाटा जाना चाहिए। इसके बाद मामले को लेकर हंगामा खड़ा हो गया। मौके पर काफी संख्या में लोग एकत्र हो गए। टीम के सदस्यों ने मामले की सूचना पुलिस और एसडीएम को दी। सूचना पर एसआई मनोज ममगाईं ने मौके पर पहुंचकर लाठी फटकार लोगों को मौके से हटाया। सूचना पाकर एसडीएम संतोष कुमार और मंडावर पुलिस चौकी पुलिस भी पहुंच गई। वहीं राशन की गाड़ी को भी चौकी पर बुलवा लिया गया। इसके बाद एसडीएम संतोष कुमार ने गाड़ी पर कार्यरत कर्मचारियों को आदेश दिया कि अपने हाथों से गांव में पहुंचकर गरीब लोगों को राशन का वितरण करे। एसडीएम संतोष कुमार ने बताया कि मामले की जांच कर कार्रवाई की जाएगी।
... और पढ़ें

Coronavirus Lockdown: कोरोना से निपटने को आईआईटी रुड़की ने बनाया पोर्टेबल वेंटिलेटर, नहीं पड़ेगी क्रंप्रेस्ड हवा की जरूरत

कोरोना की लड़ाई में आईआईटी रुड़की के वैज्ञानिक भी आगे आएं हैं। इसी कड़ी में उन्होंने कम लागत वाला एक पोर्टेबल वेंटिलेटर विकसित किया है, जो कोविड-19 के गंभीर मरीजों की सुरक्षा सुनिश्चित करने में उपयोगी और किफायती साबित हो सकता है।

‘प्राण-वायु’ नाम के इस क्लोज्ड लूप वेंटिलेटर को एम्स ऋषिकेश के सहयोग से विकसित किया गया है। वेंटिलेटर मरीज को जरूरत की मात्रा में हवा पहुंचाने के लिए प्राइम मूवर के नियंत्रित ऑपरेशन पर आधारित है। लॉकडाउन से एक सप्ताह पहले कोविड-19 से निपटने के लिए आईआईटी रुड़की की टीम ने सस्ते वेंटिलेटर का काम शुरू कर दिया था। शोध टीम में आईआईटी रुड़की के प्रो. अक्षय द्विवेदी और प्रो. अरूप कुमार दास के साथ ऑनलाइल मदद के लिए एम्स ऋषिकेश से डॉ. देवेंद्र त्रिपाठी शामिल हैं।

शोध के लिए संस्थान की टिंकरिंग लैब की सुविधाओं का उपयोग किया गया। प्रो. द्विवेदी ने बताया कि प्राण-वायु को विशेष रूप से कोविड-19 महामारी के लिए डिजाइन किया गया है। यह कम लागत वाला, सुरक्षित और विश्वसनीय मॉडल है, जिसका निर्माण तेजी से किया जा सकता है। यह स्वचालित प्रक्रिया दबाव और प्रवाह की दर को सांस लेने छोड़ने के अनुरूप नियंत्रित करता है। इस वेंटिलेटर में ऐसी व्यवस्था है जो टाइडल वॉल्यूम और प्रति मिनट सांस को नियंत्रित भी कर सकती है।
... और पढ़ें
पोर्टेबल वेंटिलेटर ‘प्राण-वायु’ पोर्टेबल वेंटिलेटर ‘प्राण-वायु’

कोविड-19 से निपटने को आईआईटी ने विकसित किया पोर्टेबल वेंटिलेटर

कोरोना की लड़ाई में आईआईटी रुड़की के वैज्ञानिक भी आगे आएं हैं। इसी कड़ी में उन्होेंने कम लागत वाला एक पोर्टेबल वेंटिलेटर विकसित किया है, जो कोविड-19 के गंभीर मरीजों की सुरक्षा सुनिश्चित करने में उपयोगी और किफायती साबित हो सकता है। ‘प्राण-वायु’ नाम के इस क्लोज्ड लूप वेंटिलेटर को एम्स ऋषिकेश के सहयोग से विकसित किया गया है। वेंटिलेटर मरीज को जरूरत की मात्रा में हवा पहुंचाने के लिए प्राइम मूवर के नियंत्रित ऑपरेशन पर आधारित है।
लॉकडाउन से एक सप्ताह पहले कोविड-19 से निपटने के लिए आईआईटी रुड़की की टीम ने सस्ते वेंटिलेटर का काम शुरू कर दिया था। शोध टीम में आईआईटी रुड़की के प्रो. अक्षय द्विवेदी और प्रो. अरूप कुमार दास के साथ ऑनलाइल मदद के लिए एम्स ऋषिकेश से डॉ. देवेंद्र त्रिपाठी शामिल हैं। शोध के लिए संस्थान की टिंकरिंग लैब की सुविधाओं का उपयोग किया गया। प्रो. द्विवेदी ने बताया कि प्राण-वायु को विशेष रूप से कोविड-19 महामारी के लिए डिजाइन किया गया है। यह कम लागत वाला, सुरक्षित और विश्वसनीय मॉडल है, जिसका निर्माण तेजी से किया जा सकता है। यह स्वचालित प्रक्रिया दबाव और प्रवाह की दर को सांस लेने-छोड़ने के अनुरूप नियंत्रित करता है। इस वेंटिलेटर में ऐसी व्यवस्था है जो टाइडल वॉल्यूम और प्रति मिनट सांस को नियंत्रित भी कर सकती है। वेंटिलेटर सांस नली के विस्तृत प्रकार के अवरोधों में उपयोगी होगा और सभी आयु वर्ग के रोगियों, विशेष रूप से बुजुर्गों के लिए खास लाभदायक है।
प्रोटोटाइप का परीक्षण सामान्य और सांस के विशिष्ट रोगियों पर सफलतापूर्वक किया गया है। इसे काम करने के लिए कंप्रेस्ड हवा की जरूरत नहीं पड़ती है। ऐसे में यह अस्पताल के किसी वार्ड या खुले क्षेत्र में परिवर्तित आईसीयू में मददगार होगा। यह रीयल-टाइम स्पायरोमेट्री और अलार्म से उच्च दबाव को सीमित कर सकता है। इसमें रिमोट मॉनिटरिंग, ऑपरेटिंग मीटर, टच स्क्रीन से नियंत्रण, सांस लेने के लिए नमी और तापमान नियंत्रण की भी खूबियां हैं। इसकी लागत 25 हजार रुपये आंकी गई है जबकि बाजार में वेंटिलेटर की कीमत कई लाख में है। आईआईटी के निदेशक प्रो. अजीत चतुर्वेदी ने आईआईटी वैज्ञानिकों के इस प्रयास की सराहना की है।
सर्टिफिकेशन के बाद निर्माण को मिल सकती है हरी झंडी
वेंटिलेटर को आईआईटी ने अपने स्तर पर सफलतापूर्वक टेस्ट कर लिया है। साथ ही बृहस्पतिवार को कंफेडरेशन ऑफ इंडियन इंडस्ट्रीज वेबिनार पर ऑनलाइन वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये आईआईटी दिल्ली, आईआईटी चेन्नई समेत 400 से अधिक औद्योगिक कंपनियों के अधिकारियों ने प्रजेंटेशन देखा। साथ ही इसके निर्माण की इच्छा जताई है। प्रो. अक्षय द्विवेदी ने बताया कि सर्टिफिकेशन प्रक्रिया के बाद इसका निर्माण शुरू हो सकता है। प्रक्रिया में तेजी आती है तो महामारी के संकट में इसका उपयोग शुरू हो जाएगा।
... और पढ़ें

दिल्ली से लौटी जमात, धर्मनगरी में दहशत

शहर और देहात में सोशल डिस्टेंसिंग के प्रति अब भी लोग जागरूक नहीं दिख रहे हैं। सुबह दुकानों पर भीड़ उमड़ रही है तो फल और सब्जी की ठेलियों पर बड़ी संख्या में लोग बिना सोशल डिस्टेंसिंग के खरीदारी कर रहे हैं। ऐसे में पुलिस समय से पहले ही ठेली वालों को घर भेज रही है तो दुकानें भी जल्द ही बंद करवा रही है।
पुलिस-प्रशासन लगातार लोगों से सामान खरीदते समय सोशल डिस्टेंसिंग की अपील कर रहा है, लेकिन बृहस्पतिवार सुबह मेन बाजार, नगर निगम पुल समेत कई जगहों पर सोशल डिस्टेंस की जमकर धज्जियां उड़ाई र्गइं। बाजार में दुकानों पर भीड़ जुटी रही तो नगर निगम पुल पर फलों की ठेलियों पर भी भारी भीड़ दिखी। सोशल डिस्टेंस का न ही दुकानदार पालन कर रहे हैं और न ही लोग। वहीं, दोपहर करीब एक बजे एसएसपी सेंथिल अबूदई कृष्णराज एस ने रुड़की पहुंचकर लॉकडाउन की स्थिति का जायजा लिया। साथ ही अधीनस्थों को लॉकडाउन का सख्ती से पालन कराने के निर्देश दिए। सीमाओं पर भी सख्ती दिखाने को कहा।
किन्नर पेश कर रहे हैं नजीर
शहर में गरीब लोगों की मदद कर किन्नर एक नजीर पेश कर रहे हैं। शहर में घूमकर वे जरूरतमंदों को राशन-पानी उपलब्ध करा रहे हैं। गरीबों के घर पहुंचकर उन्हें राशन के साथ ही पैसों से मदद कर रहे हैं। साथ ही अपील कर रहे हैं कि घर पर ही रहकर कोरोना से लड़ने के लिए लॉकडाउन का पालन करें। अगर किसी को राशन की जरूरत है तो वह उनसे संपर्क कर सकते हैं।
11 का चालान, 13 वाहन सीज
शहर में लॉकडाउन का पालन न करने और मारपीट के मामले में पुलिस ने 11 लोगों का चालान किया है तो 13 वाहन सीज किए हैं। सिविल लाइंस कोतवाली पुलिस को बुधवार रात सूचना मिली थी कि जादगूर रोड पर कुछ लोग लॉकडाउन का पालन नहीं कर रहे हैं। इस पर पुलिस ने मौके पर पहुंचकर सात लोगों को पकड़ लिया और चालान कर दिया। वहीं, गंगनहर कोतवाली पुलिस ने भी चार लोगों का चालान कर दिया। साथ ही पुलिस ने 11 कार व बाइकों को सीज कर दिया।
... और पढ़ें

क्वारंटीन की अवधि पूरा होने से पहले दिल्ली लौटे छह लोग

क्वारंटीन के लिए तय 14 दिन का समय पूरा होने से पहले ही हसनपुर मदनपुर निवासी छह युवा स्वास्थ्य विभाग की टीम को चकमा देकर दिल्ली लौट गए। विभाग ने सभी के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया है। दिल्ली से आने के बाद इन लोगों को 14 दिन के लिए होम क्वारंटीन किया गया था।
भगवानपुर क्षेत्र के हसनपुर मदनपुर निवासी छह लोग 10 दिन पूर्व दिल्ली से लौटे थे। सूचना मिलने पर विभागीय टीम ने थर्मल स्क्रीनिंग के बाद सभी को 14 दिन के लिए होम क्वारंटीन कर दिया था। विभागीय टीम लगातार उनकी निगरानी कर रही थी, लेकिन इसी बीच चकमा देकर सभी लोग क्वारंटीन का समय पूरा होने के चार दिन पहले ही दिल्ली रवाना हो गए। बृहस्पतिवार को विभागीय अधिकारी गांव में निगरानी करने पहुंचे तो सभी के फरार होने की जानकारी मिली। थानाध्यक्ष संजीव थपलियाल ने बताया कि स्वास्थ्य विभाग के नोडल अधिकारी डॉक्टर पंकज कुमार ने तहरीर देकर बताया कि छह लोगों ने महामारी एक्ट का उल्लंघन किया है। तहरीर के आधार पर आरोपी हिमांशु, स्वाति, आयशा, रूबी, शिवानी और अंकित के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है।
... और पढ़ें

कोरोना वायरस का संदिग्ध अस्पताल पहुंचा

खांसी और जुकाम की शिकायत पर सिविल अस्पताल पहुंचे पांच लोगों को जांच के बाद आइसोलेशन वार्ड में भर्ती कराया गया है। डॉक्टरों ने सभी का सैंपल जांच के लिए भेजा है।
बृहस्पतिवार को सिविल अस्पताल में दोपहर एक बजे तक एक ही संदिग्ध मरीज उपचार कराने पहुंचा। वह बुधवार को हरियाणा के बॉर्डर और उत्तर-प्रदेश के कैराना से लौटा था। साथ ही उसे खांसी, जुकाम की शिकायत थी। जांच करने के बाद डॉक्टरों उसका ब्लड सैंपल लेकर जांच के लिए भेजा। इसके अलावा दो लोग हरियाणा और दो लोग मेरठ से लौटकर अस्पताल पहुंचे थे। सीएमएस डॉ. संजय कंसल ने बताया कि रिपोर्ट आने के बाद ही सही जानकारी का पता लगेगा। वहीं, अस्पताल में 13 संदिग्ध भर्ती हैं, जिनकी रिपोर्ट नहीं आई है। अभी तक कुल 66 लोगों के सैंपल भेजे जा चुके हैं। 53 की रिपोर्ट निगेटिव आई है।
सामान्य वायरल से पीड़ित 74 लोग पहुंचे अस्पताल
सीजनल खांसी जुकाम से पीड़ित 74 मरीज बृहस्पतिवार को सिविल अस्पताल पहुंचे। जांच के बाद डॉक्टरों ने उन्हें दवा लेने की सलाह देकर घर भेज दिया। सभी को आशंका सता रही थी कि कहीं वे कोरोना की चपेट में तो नहीं आ गए। जांच में किसी में कोरोना वायरस जैसे लक्षण नहीं पाए गए। सीएमएस डॉ. संजय कंसल ने बताया कि सभी को सामान्य तौर पर खांसी जुकाम था, जो मौसम बदलने के कारण होता है।
बाहर से आए 11 लोगों को किया होम क्वारंटीन
खानपुर। बाहरी प्रदेशों से क्षेत्र में लौटे 11 लोग विभागीय जांच में सामान्य पाए गए हैं। स्वास्थ्य विभाग ने सभी को होम क्वारंटीन में रहने के निर्देश दिए हैं। खानपुर सीएचसी प्रभारी डॉ. विनीत कुमार ने बताया कि बृहस्पतिवार को विभाग की टीम ने गिद्धावाली गांव में दिल्ली और चंडीगढ़ से लौटे छह लोगों की प्राथमिक जांच की। वहीं, हरियाणा से कर्णपुर गांव लौटे दो व्यक्तियों की स्क्रीनिंग की गई। उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर से न्यामतपुर गांव लौटे तीन व्यक्तियों का स्वास्थ्य जांचा गया है। फिलहाल सभी सामान्य पाए गए हैं। एहतियातन सभी को 14 दिन तक होम क्वारंटीन रहने के निर्देश दिए गए हैं।
... और पढ़ें

Coronavirus uttarakhand: क्वारंटीन अधूरा छोड़ दिल्ली लौटे छह युवकों और जमातियों को ठहराने पर चार ग्रामीणों पर मुकदमा दर्ज

लॉ़कडाउन के बीच रुड़की में क्वारंटीन के लिए तय 14 दिन का समय पूरा होने से पहले ही हसनपुर मदनपुर निवासी छह युवा स्वास्थ्य विभाग की टीम को चकमा देकर दिल्ली लौट गए। विभाग ने सभी के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया है। दिल्ली से आने के बाद इन लोगों को 14 दिन के लिए होम क्वारंटीन किया गया था।

भगवानपुर क्षेत्र के हसनपुर मदनपुर निवासी छह लोग 10 दिन पूर्व दिल्ली से लौटे थे। सूचना मिलने पर विभागीय टीम ने थर्मल स्क्रीनिंग के बाद सभी को 14 दिन के लिए होम क्वारंटीन कर दिया था। विभागीय टीम लगातार उनकी निगरानी कर रही थी, लेकिन इसी बीच चकमा देकर सभी लोग क्वारंटीन का समय पूरा होने के चार दिन पहले ही दिल्ली रवाना हो गए। बृहस्पतिवार को विभागीय अधिकारी गांव में निगरानी करने पहुंचे तो सभी के फरार होने की जानकारी मिली।



थानाध्यक्ष संजीव थपलियाल ने बताया कि स्वास्थ्य विभाग के नोडल अधिकारी डॉक्टर पंकज कुमार ने तहरीर देकर बताया कि छह लोगों ने महामारी एक्ट का उल्लंघन किया
है। तहरीर के आधार पर आरोपी हिमांशु, स्वाति, आयशा, रूबी, शिवानी और अंकित के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है।
... और पढ़ें

पेट्रोल की पाइपलाइन में बाल्व लगाकर तेल चोरी, केस दर्ज

कुरुक्षेत्र से रुड़की नजीबाबाद जा रही पैट्रोलियम पाइपलाइन से कुआखेड़ा गांव के निकट लाइन में कुछ लोगों ने वाल्ब लगाकर पेट्रोल चोरी कर लिया। पुलिस ने इस मामले में मुकदमा दर्ज कर लिया है। मुकदमा दर्ज करने के साथ ही पुलिस ने मामले की जांच पड़ताल शुरू कर दी है।
गौरतलब है कि कुरुक्षेत्र से रुड़की और नजीबाबाद तक इंडियन ऑयल की पेट्रोल की पाइप लाइन जा रही है। इसका रुड़की में कंट्रोल रूम बनाया गया है, लेकिन इसी बीच रुड़की कंट्रोल रूम को विगत 27 मार्च को जानकारी हुई कि तेल की पाइप लाइन का प्रेशर कम हुआ है। इस पर विभाग के सुपरवाइजर जितेंद्र सिंह टीम के साथ पाइपलाइन की लीकेज ढूंढने के लिए क्षेत्र में गए। इसी बीच उन्होंने देखा कि कुआखेड़ा गांव के निकट जमीन में गड्ढा खोदकर पाइप लाइन में वाल्ब लगाकर पेट्रोल चोरी किया गया है। साथ ही जमीन पर पेट्रोल बिखरा हुआ पड़ा है। तेल चोरी करने वालों ने जमीन में खोदे गए गड्ढे को घास आदि से भी ढका हुआ था। इस पर अभय चौहान वरिष्ठ परिचालन, अनुरक्षण अभियंता उत्तरी क्षेत्र पाइपलाइन इंडियन आयल कारपोरेशन लिमिटेड ने कोतवाली पुलिस को तहरीर दी थी। कोतवाल वीरेंद्र सिंह नेगी ने बताया कि तहरीर के आधार पर चोरों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है। मुकदमा दर्ज करने के साथ ही पुलिस ने मामले की जांच पड़ताल शुरू कर दी है।
... और पढ़ें

प्रसार कर कहीं और चले गए जमाती

दिल्ली निजामुद्दीन मरकज में कोरोना के संदिग्धों का साया पूरे जिले पर मंडराने लगा है। यह हम नहीं कह रहे हैं, बल्कि ऐसे आंकड़े बता रहे हैं। इन आंकड़ों को पुलिस-प्रशासन और खुफिया विभाग ने कड़ी मशक्कत के बाद तैयार किया है। आंकड़े बेहद चौंकाने वाले हैं। बताया गया है कि दो-तीन माह में जिले से करीब डेढ़ सौ लोग निजामुद्दीन मरकज में पहुंचे थे। जो अब देश के अलग-अलग हिस्सों में हैं। वहीं, चिंताजनक यह भी है कि विभिन्न प्रदेशों के 50 से अधिक जमाती जिले के विभिन्न क्षेत्रों का दौरा कर चुके हैं। अब इन सैकड़ों जमातियों के अलावा इनके संपर्क में आए हजारों लोगों की पहचान और स्क्रीनिंग की चुनौती ने पुलिस-प्रशासन की पेशानी पर बल ला दिया है।
आंकड़ों के अनुसार, जिलेभर में अब तक करीब 150 लोग निजामुद्दीन मरकज में शिकरत कर चुके हैं। 19 मार्च को भगवानपुर के नौ लोग दिल्ली पहुंचे थे। फिलहाल जिन्हें दिल्ली में भर्ती कर लिया गया है। इसके अलावा 17 मार्च को थाना गंगनहर अंतर्गत विभिन्न गांवों के 15 लोग निजामुद्दीन मरकज से सोनभद्र यूपी पहुंचे चुके हैं। वहीं, ज्वालापुर क्षेत्र के 12 लोग 15 मार्च को 40 दिन की जमात के लिए आंध्र प्रदेश के श्री काकूलम जिले में डेरा डाले हैं। 12 मार्च को निजामुद्दीन मरकज से थाना पथरी क्षेत्र के पांच लोग मध्य प्रदेश के जनपद निमच के हिम्मतनगर में पहुंचे हैं। सात मार्च को ज्वालापुर क्षेत्र के नौ लोग अंबाला, हरियाणा पहुंचे। यहीं से ही 14 फरवरी को आठ लोग यूपी के सुल्तानपुर में पहुंचे थे। इन्हें हाल ही में हरिद्वार जिले में क्वारंटीन किया गया है। इसके अलावा 12 फरवरी को भगवानपुर क्षेत्र के बुग्गावाला क्षेत्र से दस लोग अलवर राजस्थान गए हैं। 30 जनवरी को इसी क्षेत्र के नौ लोग निजामुद्दीन दिल्ली, 15 जनवरी को 11 लोग मुजफ्फरनगर, नौ जनवरी को आठ लोग निजामुद्दीन दिल्ली, चार जनवरी को 14 लोग सहारनपुर यूपी, एक जनवरी को दस लोग उड़ीसा पहुंचे। इसके अलावा 30 दिसंबर को मंगलौर और झबरेड़ा क्षेत्र के 11 लोग फतेहपुर यूपी, 29 दिसंबर को मंगलौर क्षेत्र के 13 लोग बुलंदशहर यूपी पहुंचे हैं। वहीं हरिद्वार जिले में बाहर के प्रदेशों से आई जमातों में शामिल 50 से अधिक लोग फरवरी और मार्च में जिले के विभिन्न हिस्सों का दौरा कर चुके हैं।
भगवानपुर से इंडोनेशिया भी पहुंचे हैं आठ जमाती
क्षेत्र से आठ जमाती विदेश में भी पहुंचे हैं। बताया जा रहा है कि भगवानपुर कस्बे के अलावा क्षेत्र के मक्खनपुर, करौंदी, नन्हेड़ा अनंतपुर, पुहाना, सरठेड़ी, शाहजहांपुर के आठ लोग 13 मार्च को इंडोनेशिया गई जमात में शामिल हैं।
जिले के सभी जमातियों के बारे में जानकारी जुटाई जा रही है। ऐसे लोगों को चिह्नित कर क्वारंटीन कर स्वास्थ्य विभाग से जांच कराई जा रही है। साथ ही इनके संपर्क में रहने वालों को भी चिह्नित किया जा रहा है। अगर कोई इनकी सूचना छिपा रहा है तो भविष्य में उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। इसलिए ऐसे लोगों की सूचना देने की पुलिस और प्रशासन की ओर से अपील की जा रही है।
-- एसके सिंह, एसपी देहात
... और पढ़ें

सिविल अस्पताल में तीन नए संदिग्ध आइसोलेशन में भर्ती

कोरोना वायरस के संदिग्धों का सिविल अस्पताल में आने वालों का क्रम टूट नहीं रहा है। बुधवार को तीन नए मरीजों को सिविल अस्पताल में भर्ती किया गया है। इसमें से एक मरीज 9 मार्च को ही निजामुद्दीन मरकज से लौटा था। तीनों के सैंपल जांच के लिए भेजे गए हैं। जिनकी रिपोर्ट आने के बाद ही सही जानकारी मिल सकेगी।
देश में कोरोना वायरस का टूटने का नाम नहीं ले रहा है। दिल्ली के निजामुद्दीन में मिले कोरोना वायरस के शिकार लोगों ने उत्तराखंड को भी हिला कर रख दिया है। इसे लेकर रुड़की स्वास्थ्य विभाग की टीम भी अलर्ट हो गई है। टीम गांव देहात व शहर में पता लगा रही है कि उनके घर के पास कोई संदिग्ध मरीज कोरोना का तो नहीं है। सीएमएस डॉ. संजय कंसल ने बताया कि बुधवार को तीन मरीज संदिग्ध मिले थे, जिनके ब्लड सैंपल लेकर जांच के लिए भेजे हैं। वहीं तीनों को आइसोलेशन वार्ड में भर्ती कराया गया है। इनमें से कोतवाली गंगनहर रुड़की के माधोपुर गांव निवासी एक मरीज नौ मार्च को निजामुद्दीन मरकज से लौटा है। जबकि दूसरा संदिग्ध उड़ीसा और तीसरा संदिग्ध राजस्थान से लौटा है। सिविल अस्पताल में अब तक कोरोना वायरस के लिए 61 मरीज उपचार कराने के लिए आ चुके हैं। जिनमें से 58 मरीजों के ब्लड सैंपल की रिपोर्ट निगेटिव आई है।
कोरोना का मरीज मिलने की अफवाह से हड़कंप
रुड़की। नारसन क्षेत्र के एक गांव में सूचना मिली कि एक महिला कोरोना वायरस की चपेट में है। जिसको लेकर स्वास्थ्य विभाग में हड़कंप मच गया। सिविल अस्पताल की टीम महिला को लेने के लिए गांव में पहुंच गई। गांव में स्वास्थ्य विभाग की टीम को देखकर लोग घर में बंद हो गए। किसी तरह से टीम ने महिला को एंबुलेंस में बैठाया और उसको सिविल अस्पताल में लेकर पहुंच गई। सिविल अस्पताल में चिकित्सकों ने महिला की बारीकी से जांच पड़ताल की, लेकिन महिला के अंदर कोरोना वायरस के लक्षण नहीं मिले। हालांकि उसकी खराब तबीयत को देखते हुए उसे एम्स ऋषिकेश के लिए रेफर कर दिया। सीएमएस डॉ. संजय कंसल ने बताया कि सूचना पर नारसन क्षेत्र में एक महिला की सिविल अस्पताल में जांच की गई है। हालांकि महिला में कोरोना वायरस जैसे कोई लक्षण नहीं मिले हैं।
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer


हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर और व्यक्तिगत अनुभव प्रदान कर सकें और लक्षित विज्ञापन पेश कर सकें। अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।
Agree
Election
  • Downloads

Follow Us