यात्रियों के सामने खाने-रहने का संकट

Uttar Kashi Updated Wed, 19 Jun 2013 05:31 AM IST
विज्ञापन

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें
उत्तरकाशी। गंगोत्री-यमुनोत्री मार्ग पर अब भी बीस हजार से अधिक यात्री फंसे हैं। हालांकि जिला प्रशासन 11 हजार यात्रियों के ही फंसे होने का दावा कर रहा है। मार्गों पर फंसे यात्रियों के समक्ष खाने-रहने की मुसीबत खड़ी हो रखी है। कुछ यात्री गांवों में तो कुछ स्कूलों में रातें गुजार रहे हैं।
विज्ञापन

प्रशासन के मुताबिक जिले में गंगोत्री, हर्षिल, झाला, धराली, उत्तरकाशी, चिन्यालीसौड़, डुंडा, धरासू, भोजवासा, डामटा, ब्रह्मखाल, बड़कोट आदि स्थानों पर ग्यारह हजार यात्री फंसे हैं। प्रशासन की सूची में चौरंगीखाल, धौंतरी, कौडार व सुक्की आदि स्थानों पर फंसे यात्रियों का जिक्र नहीं है। जबकि इन स्थानों पर दो हजार से अधिक यात्री फंसे हैं। यूपी देवरिया निवासी गुलाब गोस्वामी का कहना है कि उनके 88 यात्रियों का दल तीन दिनों से कौडार गांव में रह रहा है। जबकि कुछ यात्री गांव के प्राथमिक विद्यालय में रह रहे हैं। इधर, धौंतरी में फंसे मथुरा के गुलाब गोस्वामी बताते हैं कि होटल न मिलने पर वह वाहन में रातें काट रहे हैं।
इन स्थानों पर बंद है यात्रा मार्ग
उत्तरकाशी। ऋषिकेश-उत्तरकाशी-गंगोत्री मार्ग चिन्यालीसौड, धरासू, नालूपानी, बंदरकोट, चुंगी, बडेथी, गंगोरी, गरमपानी, सैंज, सुक्कीटॉप तथा धरासू-बड़कोट-यमुनोत्री मार्ग खरादी, बाडिया आदि स्थानों पर बंद हैं। जबकि बडकोट-विकासनगर मार्ग डामटा, चामी, यमुना ब्रिज तथा उत्तरकाशी-लंबगांव-श्रीनगर मार्ग जोशियाड़ा, चौंरगी, कौडार, मट्टी धनेटी में बंद हैं।

कोट.......
यात्रा मार्गों पर फंसे लगभग तीन हजार यात्रियों को सरकारी स्कूल, बारात घर, तहसील कार्यालय, आईटीबीपी कैंप आदि स्थानों पर ठहराया गया है। इन स्थानों पर यात्रियों के लिए खाने-रहने की व्यवस्था की गई है।
डा. आर.राजेश कुमार, जिलाधिकारी उत्तरकाशी

बिजली और पानी के लिए लोग परेशान
उत्तरकाशी। बाढ़ के कारण स्थानीय लोगाें के साथ ही तीर्थयात्रियों को भी बिजली व पानी के लिए जूझना पड़ रहा है। विद्युत लाइनें ठीक न होने से पूरे जिले में तीसरे दिन भी अंधेरा रहा। जिला मुख्यालय की पेयजल लाइन क्षतिग्रस्त होने से लोग हैंडपंप से प्यास बुझा रहे हैं।
रविवार को बाढ़ से जोशियाड़ा में 11 केवी की विद्युत लाइन बह गई थी। इसके साथ ही कई जगह एलटी लाइन और विद्युत पोल भी बाढ़ की भेंट चढ़ गए। इससे उत्तरकाशी जिला मुख्यालय के साथ ही भटवाड़ी, बडकोट, पुरोला, मोरी, चिन्यालीसौड़ सहित संपूर्ण जिले में तीन दिनों से अंधेरा पसरा हुआ है। बिजली न होने से लोगाें को भारी परेशानियां को सामना करना पड़ रहा है। ऐसे में बाढ़ प्रभावित व देश-विदेश के यात्री लैंप व चिमनी के सहारे रातें गुजारने को मजबूर हैं। जिला मुख्यालय की पेयजल लाइन क्षतिग्रस्त होने से उत्तरकाशी मुख्य बाजार, जोशियाडा, ज्ञानसू आदि क्षेत्राें में पानी का भी संकट बना हुआ हैं। लोग हैंडपंपाें से पानी की आपूर्ति कर रहे हैं। नगर क्षेत्र में दिनभर पानी भरने के लिए हैंडपंपों में लोगाें की कतार लगी रही।

खतरे से खाली नहीं झूलापुल से आवाजाही
उत्तरकाशी। जोशियाड़ा में सड़क के भागीरथी में समाने के बाद से तिलोथ और जोशियाड़ा क्षेत्र के लोग केदारघाट पर निर्माणाधीन झूला पुल से जान जोखिम में डालकर आवाजाही कर रहे हैं। हालांकि पुल के दोनों ओर आईटीबीपी के जावान तैनात हैं, लेकिन इस पुल पर चलना खतरे से खाली नहीं है।
रविवार को आई बाढ़ के बाद से तिलोथ व जोशियाड़ा क्षेत्र के लोगों को उत्तरकाशी आने-जाने के लिए लंबी पैदल दूरी तय करनी पड़ रही है। ऐसे में लोग सुविधा को देखते हुए केदारघाट पर निर्माणाधीन झूलापुल से आवाजाही करने लगे हैं। मंगलवार को अधिकांश लोगों ने इसी पुल से आवाजाही की। लेकिन इस पुल पर अब तक दोनों ओर विंड वायर तक भी नहीं लग पाए। पुल इतना हिल रहा कि हल्की लापरवाही भारी पड़ सकती है। पुल से दिख रही उफनती नदी से लोगों को चक्कर आ रहे हैं, ऐसे में कई लोग बैठ-बैठ कर पुल को पार कर रहे हैं। हालांकि प्रशासन की ओर से पुल की दोनों ओर आईटीबीपी के जवान तैनात किए गए हैं, जो लोगाें को दोनों किनारों से बारी-बारी से भेज रहे हैं।

पीड़ितों की सहायता के जुटे हिमवीर
उत्तरकाशी। आईटीबीपी 12वीं वाहिनीं मातली के जवान बाढ़ पीड़ितों के साथ ही गंगोत्री यात्रा मार्ग पर फंसे यात्रियाें की सेवा कर रहे हैं। बल द्वारा मातली कैंप परिसर में चिकित्सा शिविर के साथ ही भंडारे का आयोजन किया गया है। इसके साथ ही दो सौ से अधिक यात्री कैंप में ठहरे हुए हैं। सेनानी आरएस चंदेल ने बताया कि बताया कि उत्तरकाशी तथा जोशियाड़ा के संवेदनशील स्थानों पर भी जवानों की तैनाती की गई है। जोशियाड़ा, तिलोथ, गंगोरी आदि क्षेत्राें से जवान बाढ़ पीड़ितों के सामान को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाने में जुटे हुए हैं।


---------------------------------
टिहरी के समाचार



मजबूरी का फायदा उठा रही व्यापारी
तीर्थयात्रियों ने किया एसडीएम का घेराव, मनमाने रेट लेने की शिकायत
- सड़क मार्ग बंद होने की नहीं दी जा रही सही जानकारी
- प्रशासन के स्तर पर भी नहीं मिल रही कोई सुविधाएं
अमर उजाला ब्यूरो
घनसाली (टिहरी)। एक ओर जहां आपदा से खोज और बचाव के लिए पूरे देश से मदद के हाथ बढ़ रहे हैं, वहीं यहां जगह-जगह फंसे यात्रियों से मनमाना मूल्य वसूला जा रहा है। जिससे यात्रियों में गुस्सा है। उन्हाेंने एसडीएम का घेराव कर अपनी नाराजगी का इजहार किया है। कहा कि उनकी मजबूरी का फायदा न उठाया जाए। प्रशासन को चाहिए कि वह होटलों में कमरों और अन्य सामानों की मूल्य सूची अंकित करवाएं।
तीन दिनों से यात्रा मार्ग की सभी सडकें बंद है। घनसाली में भी करीब 400 यात्री फंसेहैं। यात्रियों का कहना है कि प्रशासन के स्तर पर उन्हें कोई सुविधा मुहैया नहीं कराई जा रही है। व्यापारी मनमाना दाम वसूल रहे हैं। होटल में एक छोटे से कमरे का किराया 1200 रूपये तक लिया जा रहा है। यही स्थिति खाने-पीने के सामान की भी है। मार्ग खुलने के बारे में भी सही जानकारी नहीं दी जा रही है।
यात्री प्रदीप गुप्ता, हरीश चंद, जगमोहन वर्मा, दीपक का कहना है कि प्रशासन द्वारा उन्हें कंट्रोल रूम का गलत नंबर दिया गया है। जिससे यात्री भटक कर बंद रास्तों में जा रहे है। गुस्साएं व्यापारियों ने बाजार में एसडीएम जगदीश लाल का घेराव किया। उन्हें जमकर खरीखोटी सुनाई। एसडीएम ने व्यापार मंडल के पदाधिकारियों से यात्रियों से वार्ता करवाई। व्यापार मंडल ने भरोसा दिलाया कि वे पूरी तरह से यात्रियों की मदद करेंगे। कोई भी मनमाना दाम नहीं वसूलेगा।

कोट-
व्यापार मंडल से वार्ता होने के बाद व्यापारियों से होटलों में ठहरने तथा खानें के उचित दाम लेने के निर्देश दिए गए हैं । यात्रियों को मार्ग बंद होने सबंधी जानकारी समय-समय पर पुलिस और राजस्व कमियों के माध्यम से दी जा रही है। -जगदीश लाल एसडीएम घनसाली
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X