विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

Coronavirus Lockdown Day 15 Live : रानीखेत के सील किए गए क्षेत्रों में क्वारंटीन लोगों का स्वास्थ्य परीक्षण शुरू

उत्तराखंड में कोरोना का नया मामला सामने आने के बाद अब राज्य में पॉजिटिव केस की कुल संख्या 32 हो गई है। जिनमें से तीन मरीज सही हो चुके हैं। वहीं आज कैबिनेट लॉकडाउन पर फैसला ले सकती है।

8 अप्रैल 2020

विज्ञापन
विज्ञापन

उत्तर काशी

बुधवार, 8 अप्रैल 2020

Lockdown Uttarakhand: उत्तरकाशी में सामूहिक रूप से नमाज पढ़ते 10 और सेलाकुई में पांच लोग गिरफ्तार

कोरोना के संक्रमण से बचाव के लिए सामाजिक दूरी बनाने के लिए किए गए लॉकडाउन के दौरान उत्तरकाशी जिला मुख्यालय की इंदिरा कालोनी में एक घर में जुमे की नमाज पढ़ने के लिए दस लोग इकट्ठा हो गए। पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया। उनके खिलाफ विभिन्न धाराओं में मुकदमा दर्ज किया गया है। कोरोना संक्रमण के चलते देशभर में लागू लॉक डाउन के दौरान जिले के सभी मंदिर और मस्जिद आदि धार्मिक स्थानों पर ताले पड़े हुए हैं।

सामाजिक दूरी बनी रहे और कोरोना संक्रमण न हो इसके लिए एक स्थान पर चार से अधिक लोगों के एकत्र होने पर पाबंदी है।  इसके बावजूद शुक्रवार को इंदिरा कालोनी स्थित एक घर में जुमे की नमाज अदा करने के लिए कई लोग एकत्र हुए। सूचना मिलते ही मौके पर पहुंची पुलिस ने यहां एकत्र हुए दस लोगों को गिरफ्तार कर लिया। थानाध्यक्ष महादेव उनियाल ने बताया कि इंदिरा कालोनी निवासी कश्मीरा अहमद, दरोगा अंसारी, रहमत अंसारी, शहजाद अंसारी, राशिद अहमद, सदरकन अली, शाजिद, मोनू, इमाजुद्दीन एवं शोएब अंसारी के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है।
... और पढ़ें

उत्तरकाशी निवासी एक व्यक्ति की मनाली हिमाचल प्रदेश में मौत

हिमाचल प्रदेश के मनाली में 12 दिन पहले एक हादसे में गंभीर रूप से घायल हुए उत्तरकाशी के हुकम सिंह (61) की उपचार के दौरान मौत हो गई। अभी तक इनके परिजनों का कुछ पता नहीं चल पाया है। मनाली पुलिस ने उत्तरकाशी पुलिस से संपर्क कर इस व्यक्ति का पता लगाने को कहा।
जिला आपदा प्रबंधन अधिकारी देवेंद्र पटवाल ने बताया कि मनाली पुलिस ने सूचना दी कि 23 मार्च को मनाली में हुए एक हादसे में एक व्यक्ति गंभीर रूप से घायल हो गया था। उसके पास से मिले आधार कार्ड के आधार पर उसकी पहचान हुकम सिंह पुत्र सतीश सिंह के रूप में हुई। साथ में कोई परिजन नहीं होने के कारण उक्त व्यक्ति को मिशन हॉस्पिटल मनाली में भर्ती कराया गया था। उपचार के दौरान शुक्रवार को उनकी मौत हो गई। मनाली पुलिस ने उत्तरकाशी पुलिस को इसकी सूचना देकर परिजनों तक उसके निधन की जानकारी पहुंचाने को कहा। आपदा प्रबंधन अधिकारी पटवाल ने बताया कि आधार कार्ड पर उक्त व्यक्ति का पता ग्राम चिन्यारसो बड़ेथी पट्टी बरसाली जिला उत्तरकाशी दर्ज है।
... और पढ़ें

घर में नमाज पढ़ने के लिए जुटे दस लोग, गिरफ्तार

कोरोना के संक्रमण से बचाव के लिए सामाजिक दूरी बनाने के लिए किए गए लॉकडाउन के दौरान जिला मुख्यालय की इंदिरा कालोनी में एक घर में जुमे की नमाज पढ़ने के लिए दस लोग इकट्ठा हो गए। पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया। उनके खिलाफ विभिन्न धाराओं में मुकदमा दर्ज किया गया है।
कोरोना संक्रमण के चलते देशभर में लागू लॉक डाउन के दौरान जिले के सभी मंदिर और मस्जिद आदि धार्मिक स्थानों पर ताले पड़े हुए हैं। सामाजिक दूरी बनी रहे और कोरोना संक्रमण न हो इसके लिए एक स्थान पर चार से अधिक लोगों के एकत्र होने पर पाबंदी है। इसके बावजूद शुक्रवार को इंदिरा कालोनी स्थित एक घर में जुमे की नमाज अदा करने के लिए कई लोग एकत्र हुए। सूचना मिलते ही मौके पर पहुंची पुलिस ने यहां एकत्र हुए दस लोगों को गिरफ्तार कर लिया। थानाध्यक्ष महादेव उनियाल ने बताया कि इंदिरा कालोनी निवासी कश्मीरा अहमद, दरोगा अंसारी, रहमत अंसारी, शहजाद अंसारी, राशिद अहमद, सदरकन अली, शाजिद, मोनू, इमाजुद्दीन एवं शोएब अंसारी के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है।
... और पढ़ें

सब्जी उत्पादन में बिता रहे समय

कोरोना महामारी और इसकी रोकथाम के लिए किए गए लॉकडाउन के चलते जहां सभी परेशान हैं, वहीं इसके कई सकारात्मक परिणाम भी सामने आने लगे हैं। लॉकडाउन में गांवों में लोग सब्जी उत्पादन कर खाली समय का सदुपयोग कर रहे हैं। स्थिति यह है कि खुले बाजार में सब्जी बीज एवं पौध की डिमांड बढ़ गई है।
आजकल जिले में सब्जी बीज एवं पौध की डिमांड बढ़ गई है। बड़ी संख्या में लोग दुकानों से सब्जी बीज खरीदकर ले जा रहे हैं। सब्जी बीज विक्रेता गिरीश पंवार, द्वारिका प्रसाद पांडे आदि ने बताया कि लॉकडाउन की अवधि में अचानक सब्जी बीजों की खरीद में तेजी आई है। लोग मौसमी सब्जियों के बीज खरीद कर ले जा रहे हैं। जोशियाड़ा निवासी मंगलेश मिश्रा ने बताया कि लॉकडाउन के चलते बाहर कहीं जा नहीं सकते। ऐसे में घर के पास खाली पड़ी जमीन पर क्यारियां तैयार कर सब्जी उगाने का निर्णय लिया है।
सब्जी उत्पादन के लिए अनुकूल है समय
उत्तरकाशी। सहायक उद्यान अधिकारी एनके सिंह ने स्वीकारा कि लॉकडाउन की अवधि में जिले में सब्जी बीज, पौध एवं कृषि बागवानी संसाधनों की डिमांड बढ़ी है। कृषि एवं उद्यान विभाग द्वारा गांवों तक कृषि संसाधन मुहैया कराए जा रहे हैं। कृषि विज्ञान केंद्र चिन्यालीसौड़ के प्रभारी डा. पंकज नौटियाल ने बताया कि आजकल केंद्र में सब्जी बीज एवं पौध की काफी डिमांड आ रही है। उन्होंने विभिन्न सब्जी पौध के सौ पैकेट तैयार कर रेडक्रॉस को ग्रामीण क्षेत्रों में वितरण के लिए मुहैया कराए हैं। आजकल टमाटर, मिर्च, शिमला मिर्च, बैंगन, फ्रैंचबीन, भिंडी उत्पादन के लिए अनुकूल स्थितियां हैं। भिंडी को तो बंदर भी नुकसान नहीं पहुंचाते हैं।
... और पढ़ें

दून में कोरोना संक्रमित बढ़ने से प्रशासन अलर्ट

बीते दिनों में देहरादून में कोरोना संक्रमितों की संख्या बढ़ने पर जिला प्रशासन और ज्यादा सतर्क हो गया है। जिले में क्वारंटीन 13 जमातियों को आइसोलेशन वार्ड में भर्ती कराकर उनके सैंपल जांच के लिए भेजे गए हैं।
डीएम डा. आशीष चौहान ने कहा कि जिले की सभी सीमाओं को सील कर सिर्फ नगुण चिन्यालीसौड़ और डामटा बैरियर पर पूरी चेकिंग, मेडिकल परीक्षण और सैनिटाइजेशन के बाद ही प्रवेश दिया जा रहा है। बाहर से आ रहे सामान से लदे ट्रकों को भी सैनिटाइज किया जा रहा है। अभी कुल 39 लोग क्वारंटीन हैं, जबकि मार्च से अभी तक बाहरी क्षेत्रों से लौटे 4317 लोग होम क्वारंटीन हैं।
डीएम ने बताया कि रवाईं घाटी में प्रशासनिक व्यवस्था को सुदृढ़ करने के लिए एडीएम तीर्थपाल सिंह को बड़कोट में तैनात किया गया है। वह पुरोला के एसडीएम प्रशिक्षु आईएएस मनीष कुमार के साथ रवाईं घाटी की व्यवस्थाओं पर नजर रखेंगे। मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा. डीपी जोशी ने बताया कि जिले से पूर्व में भेजे गए सभी 24 सैंपल की रिपोर्ट नेगेटिव आई है।
दो दिन का नवजात और माता-पिता भी क्वारंटीन
उत्तरकाशी। सोमवार को देहरादून से लौटी प्रसूता और उसके नवजात सहित परिजनों को जीएमवीएन में क्वारंटीन किया गया है। डीएम डा. आशीष चौहान ने बताया कि क्वारंटीन वार्ड में इन लोगों के लिए समुचित व्यवस्था की गई है। देहरादून से घर लौटने की जल्दबाजी में नवजात का पूरा परीक्षण नहीं कराया गया। उत्तरकाशी पहुंचने पर चिकित्सकों ने बच्चे को पीलिया बताया, जिसका क्वारंटीन वार्ड में उपचार किया जा रहा है।
... और पढ़ें

ओलावृष्टि से स्योरी फल पट्टी को नुकसान

फ्लावरिंग सीजन में स्योरी फल पट्टी क्षेत्र में शनिवार शाम को हुई ओलावृष्टि से सेब की फसल को भारी नुकसान पहुंचा है। मौसम की मार ने इस बार सेब की अच्छी फसल की उम्मीदों पर पानी फेरने का काम किया है। क्षेत्र के पंचायत प्रतिनिधियों ने प्रशासन को इसकी सूचना देकर ओलावृष्टि से हुए नुकसान का आकलन कराने और सेब किसानों को क्षतिपूर्ति की मांग की है।
प्रखंड के स्योरी फल पट्टी क्षेत्र में अधिकांश किसानों की आजीविका सेब उत्पादन पर ही टिकी है। सेब के पेड़ फूलों से लद जाने से किसानों को इस बार अच्छे उत्पादन की उम्मीद थी, लेकिन शनिवार शाम को क्षेत्र में जमकर ओलों की बरसात होने से सेब वृक्षों को भारी नुकसान पहुंचा। ओलावृष्टि से फल पट्टी के रस्टाड़ी कंडाऊं क्षेत्र में सर्वाधिक नुकसान हुआ है। कंडाऊं गांव की प्रधान सीमा सेमवाल ने तहसील प्रशासन को पत्र लिखकर ओलावृष्टि से हुए नुकसान का आकलन करने की मांग की है।
... और पढ़ें

चिन्यालीसौड़ नगर में गहराया पेयजल संकट

धरासू में भारी भूस्खलन से पेयजल लाइन क्षतिग्रस्त होने के कारण चिन्यालीसौड़ नगर पालिका क्षेत्र की पेयजल आपूर्ति बीते तीन दिन से ठप पड़ी है। ऐसे में लॉकडाउन के दौरान लोगों को पेयजल की समस्या का सामना करना पड़ रहा है। लोगों ने आए दिन पेयजल आपूर्ति ठप होने पर रोष जताते हुए जल संस्थान के अधिकारियों से स्थायी व्यवस्था करने की मांग की है।
चिन्यालीसौड़ नगर के धनपुर नागणी, सूलीठांग, पीपलमंडी व बिजल्वाण मोहल्ले आदि क्षेत्रों में जलापूर्ति के लिए धरासू कल्याणी पेयजल योजना बनी हुई है। इस योजना की पाइप लाइन आए दिन धरासू में भूस्खलन से क्षतिग्रस्त हो जाती है। इस कारण क्षेत्र के लोगों को पानी की समस्या का सामना करना पड़ रहा है। बीते दिनों हुए भूस्खलन में एक बार फिर लाइन क्षतिग्रस्त होने के कारण तीन दिन से नगर क्षेत्र में जलापूर्ति ठप पड़ी है। इस कारण लोगों को हैंडपंप एवं दूरस्थ प्राकृतिक स्रोतों से पानी ढोना पड़ रहा है।
जल संस्थान के जेई मनीष रावत ने बताया कि धरासू भूस्खलन और ऑल वेदर रोड के कार्यों के चलते पेयजल लाइन बार-बार क्षतिग्रस्त हो रही है। भूस्खलन वाले हिस्से में लाइन को दुरुस्त करने की स्थिति नहीं बन पाने पर अब धरासू गाड़ से होते हुए पेयजल लाइन बिछाई जा रही है। फिलहाल नगर में दो टैंकरों के माध्यम से पेयजल आपूर्ति की व्यवस्था की गई है। जल्द ही वैकल्पिक लाइन तैयार कर नगर में पेयजल आपूर्ति सुचारु कर ली जाएगी।
... और पढ़ें

बेरहम पति ने पहले पत्नी की गला काट कर की हत्या, फिर जहर खाकर की आत्महत्या की कोशिश

उत्तरकाशी के धरासू में एक बेरहम पति ने पहले दंराती से पत्नी का गला काट दिया और फिर खुद जहरीला पदार्थ खाकर आत्महत्या की कोशिश की। डेढ़ वर्ष पूर्व शादी हुई थी।

बताया जा रहा है कि मृतका 04 माह की गर्भवती थी। पुलिस मामले की जांच में जुटी है। जानकारी के मुताबिक ज्येष्ठवाड़ी निवासी श्रीपाल सिंह नेगी की डेढ़ साल पहले विजेश्वरी (23) से शादी हुई थी। दोनों में घरेलू कलह चल रहा था।

पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार रविवार को दोनों पति-पत्नी लकड़ी लेने जंगल गए थे, दोनों में जंगल में विवाद हुआ और सिरफिरे पति ने पत्नी की दरांती से गला काटकर हत्या कर दी। सायं पांच बजे घर लौटा, अपनी मां और परिजनों से पत्नी का काम तमाम करने की बात की और खुद जहरीला पदार्थ गटक लिया। आरोपी पति को सीएचसी में इलाज के लिए लाए और प्राथमिक उपचार के बाद जिला अस्पताल भेज दिया।  

थानाध्यक्ष विनोद थपलियाल ने बताया कि मृतका के शव को कब्जे में लिया गया है। पंचनामा भर कर पीएम की कार्रवाई की जा रही है। उन्होंने बताया की आरोपी पर आत्महत्या और मृतका के पिता की तहरीर पर धारा 302 के मामला दर्ज किया गया है।
... और पढ़ें

चिन्यालीसौड़ नगर में गहराया पेयजल संकट

धरासू में भारी भूस्खलन से पेयजल लाइन क्षतिग्रस्त होने के कारण चिन्यालीसौड़ नगर पालिका क्षेत्र की पेयजल आपूर्ति बीते तीन दिन से ठप पड़ी है। ऐसे में लॉकडाउन के दौरान लोगों को पेयजल की समस्या का सामना करना पड़ रहा है। लोगों ने आए दिन पेयजल आपूर्ति ठप होने पर रोष जताते हुए जल संस्थान के अधिकारियों से स्थायी व्यवस्था करने की मांग की है।
चिन्यालीसौड़ नगर के धनपुर नागणी, सूलीठांग, पीपलमंडी व बिजल्वाण मोहल्ले आदि क्षेत्रों में जलापूर्ति के लिए धरासू कल्याणी पेयजल योजना बनी हुई है। इस योजना की पाइप लाइन आए दिन धरासू में भूस्खलन से क्षतिग्रस्त हो जाती है। इस कारण क्षेत्र के लोगों को पानी की समस्या का सामना करना पड़ रहा है। बीते दिनों हुए भूस्खलन में एक बार फिर लाइन क्षतिग्रस्त होने के कारण तीन दिन से नगर क्षेत्र में जलापूर्ति ठप पड़ी है। इस कारण लोगों को हैंडपंप एवं दूरस्थ प्राकृतिक स्रोतों से पानी ढोना पड़ रहा है।
जल संस्थान के जेई मनीष रावत ने बताया कि धरासू भूस्खलन और ऑल वेदर रोड के कार्यों के चलते पेयजल लाइन बार-बार क्षतिग्रस्त हो रही है। भूस्खलन वाले हिस्से में लाइन को दुरुस्त करने की स्थिति नहीं बन पाने पर अब धरासू गाड़ से होते हुए पेयजल लाइन बिछाई जा रही है। फिलहाल नगर में दो टैंकरों के माध्यम से पेयजल आपूर्ति की व्यवस्था की गई है। जल्द ही वैकल्पिक लाइन तैयार कर नगर में पेयजल आपूर्ति सुचारु कर ली जाएगी।
... और पढ़ें

युवाओं ने बनाया गांव की सुकूनभरी जिंदगी जीने का मन

कोरोना वायरस के भय और लॉकडाउन से उपजी दिक्कतों ने आधुनिक जीवनशैली एवं बाजार पर बढ़ती निर्भरता के दुष्प्रभावों को उजागर कर दिया है। वैश्विक महामारी से त्रस्त दिल्ली, महाराष्ट्र आदि महानगरों से किसी तरह बचकर गांव लौटे लोगों का अब शहरी जीवन से मोह भंग होने लगा है। रिवर्स पलायन कर लौटे कई लोग अब गांव में रहकर ही खेती बागवानी और पशुपालन आदि कार्य कर सुकून की जिंदगी जीने का मन बना रहे हैं।
रोजगार के लिए जिले के गांवों से बड़ी संख्या में लोग वर्षों से शहरों की ओर पलायन करते रहे हैं। इस बार कोरोना वायरस के प्रकोप और लॉकडाउन के चलते काम कारोबार ठप होने पर बड़ी संख्या में लोग महानगरों से गांव लौटे हैं। हरिद्वार से लौटे मुस्टिकसौड़ के विकास राणा एवं पुणे से आए सुखवंत रावत का कहना है कि अब वे शहर नहीं जाना चाहते। गोरसाली गांव के नवीन राणा ने बताया कि महाराष्ट्र में नौकरी छूटने पर लौटे अनूप राणा, धनेश पंवार आदि युवक भी गांव में ही रहकर खेतबाड़ी और पशुपालन में आजीविका तलाश रहे हैं। इन लोगों का कहना है कि शहरों में दौड़ती जिंदगी बेहद तनावभरी है। पहाड़ के गांवों में स्वच्छ आबोहवा के साथ जिंदगी बहुत सुकून भरी है।
कृषि विज्ञान केंद्र चिन्यालीसौड़ के प्रभारी डा. पंकज नौटियाल ने बताया कि बीते कुछ समय में खेती, बागवानी, पशुपालन, मौनपालन आदि के बारे में जानकारी लेने वालों की संख्या में इजाफा हुआ है। लोग अपने घर गांव में ही रहकर स्वरोजगार अपनाना चाहते हैं।
... और पढ़ें

उत्तराखंड: मुनस्यारी की चोटियों पर हिमपात, गंगोत्री हाईवे तीसरे दिन भी बंद, 19 घंटे बाद खुला पिथौरागढ़-घाट हाइवे

उत्तराखंड में गंगोत्री हाईवे धरासू के पास भारी भूस्खलन आने से तीन दिन से बंद है। पहाड़ी से लगातार भूस्खलन हो रहा है जिसके कारण टीम रास्ता खोल नहीं पा रही है।  रविवार को भी यातायात बहाली के प्रयास सफल नहीं हो पाए। इस हिस्से में नदी किनारे से पैदल आवाजाही लायक रास्ता तैयार किया गया है, जबकि वाहनों को बनचौरा, ब्रह्मखाल होते हुए उत्तरकाशी की ओर भेजा जा रहा है।

हाईवे के करीब सौ मीटर हिस्से में ऊंची पहाड़ी से भारी बोल्डर एवं मलबा गिर रहा है। थानाध्यक्ष धरासू विनोद थपलियाल ने बताया कि आवश्यक सेवाओं वाले वाहनों को बड़ेथी से बनचौरा, ब्रह्मखाल होते हुए उत्तरकाशी भेजा जा रहा है। ऐसे में वाहनों को करीब 70-80 किमी. की अतिरिक्त दूरी तय करनी पड़ रही है
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer


हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर और व्यक्तिगत अनुभव प्रदान कर सकें और लक्षित विज्ञापन पेश कर सकें। अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।
Agree
Election
  • Downloads

Follow Us