विज्ञापन
विज्ञापन
प्रतिष्ठित ज्योतिषाचार्य से वीडियो कॉल पर करियर की सारी समस्या का समाधान स्या
Astrology

प्रतिष्ठित ज्योतिषाचार्य से वीडियो कॉल पर करियर की सारी समस्या का समाधान स्या

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

Uttarakhand News : मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने 17 अधिकारियों को दिए उत्कृष्टता एवं सुशासन पुरस्कार

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने सचिवालय में विभिन्न क्षेत्रों में सराहनीय कार्य करने वाले अधिकारियों को मुख्यमंत्री उत्कृष्टता एवं सुशासन पुरस्कार 2019-20 से पुरस्कृत किया। मुख्यमंत्री ने 17 अधिकारियों को पुरस्कृत किया। राज्य में लगातार तीसरे वर्ष यह पुरस्कार दिया जा रहा है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि मुख्यमंत्री उत्कृष्टता एवं सुशासन पुरस्कार का उद्देश्य अच्छा कार्य करने वाले कार्मिकों को प्रोत्साहित करना है। अच्छा कार्य करने वालों को प्रोत्साहन मिलना जरूरी है। इससे अन्य लोग भी प्रेरणा लेते हैं। आज जिन अधिकारियों को पुरस्कृत किया गया है, उन्होंने राज्य के विकास के लिए नई पहलों से योगदान करने का सराहनीय प्रयास किया है।

व्यक्तिगत श्रेणी:

संदीप कुमार, प्रभागीय वन अधिकारी (2019-20 ), वन प्रभाग कोट बंगला, उत्तरकाशी
कोस्तुभ चन्द्र जोशी, प्रधानाचार्य राजकीय इण्टर काॅलेज, पत्थरपानी पिथौरागढ़

सामूहिक श्रेणी:

शैलेश बगोली, सचिव परिवहन
सुनीता सिंह, अपर परिवहन आयुक्त
सनत कुमार सिंह, उप परिवहन आयुक्त
दिनेश चन्द्र पठोई, सम्भागीय परिवहन अधिकारी
अरविन्द पाण्डेय, सम्भागीय परिवहन अधिकारी
नरेश संगल, मुख्य प्रशासनिक अधिकारी
राधिका झा, अध्यक्ष उत्तराखण्ड अक्षय ऊर्जा विकास अभिकरण, उरेडा
आलोक शेखर तिवारी, निदेशक उरेडा एवं अनुभाग अधिकारी
जेपी मैखुरी, ऊर्जा अनुभाग
डाॅ. आशीष कुमार श्रीवास्तव, जिलाधिकारी देहरादून
नितिका खण्डेलवाल, मुख्य विकास अधिकारी देहरादून
राजीव धीमान, प्रभागीय वनाधिकारी देहरादून
नरेन्द्र सिंह क्वीरियाल, मुख्य नगर आयुक्त नगर निगम ऋषिकेश

इस अवसर पर मेयर सुनील उनियाल गामा, विधायक खजान दास, मुख्य सचिव ओमप्रकाश, अपर मुख्य सचिव मनीषा पंवार, प्रमुख सचिव आनन्द वर्द्धन एवं शासन के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।
... और पढ़ें
अधिकारियों को मुख्यमंत्री उत्कृष्टता एवं सुशासन पुरस्कार से किया पुरस्कृत अधिकारियों को मुख्यमंत्री उत्कृष्टता एवं सुशासन पुरस्कार से किया पुरस्कृत

राष्ट्रीय बाल पुरस्कार 2021 : प्रधानमंत्री ने देहरादून के अनुराग रमोला से किया वर्चुअल संवाद

प्रधानमंत्री राष्ट्रीय बाल पुरस्कार के लिए चयनित अनुराग रमोला सहित देश के सभी 32 पुरस्कार विजेताओं को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उनके द्वारा किए गए उल्लेखनीय कार्य के लिए सराहा। सोमवार को वर्चुअल संवाद के जरिए प्रधानमंत्री इन बच्चों से जुड़े और बात की। उन्होंने कहा कि विजेता प्रतिभागी यहीं तक सीमित नहीं रहें, बल्कि विश्व स्तर पर परचम लहराएं।

देहरादून से पीएम के साथ ऑनलाइन जुड़े अनुराग रमोला

वर्चुअल संवाद में प्रधानमंत्री ने एक भारत श्रेष्ठ भारत कार्यक्रम की भी जानकारी दी। देहरादून से अनुराग सोमवार को सचिवालय स्थित एनआईसी से पीएम के साथ ऑनलाइन जुड़े। केंद्रीय विद्यालय ओएनजीसी के दसवीं के छात्र अनुराग ने बताया कि उनकी पेंटिंग के क्षेत्र में शुरू से ही रुचि जी रही है। कला एवं संस्कृति के क्षेत्र में उन्हें यह पुरस्कार मिला है।

अनुराग के स्कूल केंद्रीय विद्यालय ओएनजीसी  में भी खुशी का माहौल

अनुराग के स्कूल केंद्रीय विद्यालय ओएनजीसी में भी खुशी का माहौल है। शिक्षक भी अनुराग की पीएम के साथ होने वाले संवाद पर निगाहें गढ़ाए रहे। शिक्षकों ने कहा कि अनुराग बेहद प्रतिभाशाली हैं। कला एवं संस्कृति संरक्षण को लेकर उनकी सोच व नजरिया प्रभावित करने वाला है। उनके पिता सीएस रमोला नगर निगम में कार्यरत हैं।
... और पढ़ें

Corona Vaccination in Uttarakhand :  प्रदेश में 34 बूथों पर आज लगाई जा रही स्वास्थ्य कर्मियों को वैक्सीन

प्रदेश में सोमवार को 34 बूथों पर स्वास्थ्य कर्मचारियों को कोविड वैक्सीन लगाई जा रही है। 16 जनवरी से शुरू हुए टीकाकरण अभियान में अब तक प्रदेश में 10514 स्वास्थ्य कर्मियों को टीका लगवाने से कोरोना वायरस से सुरक्षा कवच मिला है। 

Haridwar Kumbh Mela 2021: 27 फरवरी से शुरू हो सकता है कुंभ, श्रद्धालुओं की होगी आरटीपीसीआर जांच

राज्य कोविड कंट्रोल रूम के चीफ आपरेटिंग आफिसर डॉ. अभिषेक त्रिपाठी ने बताया कि केंद्र के दिशानिर्देशों के अनुसार पहले चरण में स्वास्थ्य कर्मियों को वैक्सीन लगाने का अभियान चल रहा है।

वर्तमान में 34 बूथों पर ही टीकाकरण चल रहा है। सोमवार को भी इन्हीं बूथों पर वैक्सीन लगाई जा रही है। पहले की तुलना में वैक्सीन लगवाने वाले स्वास्थ्य कर्मचारियों की संख्या बढ़ रही है। केंद्र के दिशानिर्देश पर ही प्रदेश में टीकाकरण बूथों की संख्या बढ़ाई जाएगी।

अब तक 10514 कर्मियों को वैक्सीन लगवाई जा चुकी है। 28 दिनों के भीतर वैक्सीन की दूसरी खुराक दी जाएगी।

सोशल डेवलपमेंट फॉर कम्युनिटी फाउंडेशन के संस्थापक अनूप नौटियाल का कहना है कि कोरोना संक्रमितों की संख्या लगातार कम हो रही है। इस जंग में वैक्सीन सबसे बड़ा हथियार साबित होगा। उन्होंने कहा कि लोगों से आह्वान किया वैक्सीन लगाने में किसी तरह का संकोच न करें। 
 
... और पढ़ें

Uttarakhand Weather Update :  पश्चिमी विक्षोभ ने बदला मार्ग, दून में मौसम रहेगा सामान्य

कोरोना वैक्सीन लगातीं स्वास्थ्यकर्मी
पश्चिमी विक्षोभ के मार्ग बदलने के चलते फिलहाल दो-तीन दिन प्रदेश में मौसम सामान्य रहने की संभावना है। हालांकि, हरिद्वार व ऊधमसिंह नगर के मैदानी इलाकों में घना कोहरा रह सकता है।

वहीं सोमवार को राजधानी देहरादून में सुबह कोहरा छाया रहा। हालांकि बाद में धूप खिल आई। ऊधमसिंह नगर, हल्द्वानी और हरिद्वार में भी आज सुबह कोहरा छाया रहा। अन्य इलाकों में धूप खिली हुई है।

मौसम केंद्र देहरादून के अनुसार, देहरादून में धूप खिली रहने की संभावना है। सुबह व रात को हल्का कोहरा रह सकता है। पर्वतीय इलाकों में हल्का पाला व मैदानों में मध्यम से घना कोहरा रहने के आसार हैं।

मौसम केंद्र निदेशक बिक्रम सिंह ने बताया कि पहले पश्चिमी विक्षोभ के शनिवार को उत्तराखंड पहुंचने की संभावना थी। इसके बाद रविवार को संभावना जताई गई, जिससे प्रदेश में बर्फबारी व बारिश के आसार जताए गए थे। लेकिन, अब पश्चिमी विक्षोभ ने मार्ग बदल लिया है। इसलिए कुछ दिन मौसम सामान्य रहने की संभावना है।
... और पढ़ें

Haridwar Kumbh Mela 2021 : कुंभ आयोजन अब चुनौतीपूर्ण, हाईकोर्ट के रुख पर निर्भर करेगा अगला कदम

प्रदेश सरकार के लिए कुंभ का आयोजन अब हाईकोर्ट के रुख पर भी निर्भर करेगा। वहीं कुंभ का आयोजन अब अधिक चुनौतीपूर्ण हो गया है। हाईकोर्ट ने कुंभ के आयोजन को लेकर प्रदेश सरकार से कहा था कि केंद्र से गाइडलाइन जारी करवाए।

Haridwar Kumbh Mela 2021: 27 फरवरी से शुरू हो सकता है कुंभ, श्रद्धालुओं की होगी आरटीपीसीआर जांच

अब केंद्र सरकार ने गाइडलाइन जारी कर दी है और प्रदेश सरकार को श्रद्धालुओं का पंजीकरण कराने और आरटीपीसीआर टेस्ट करवाकर निगेटिव रिपोर्ट दिखाने वालों को ही कुंभ में शामिल होने को कहा है।

कुंभ में आने वालों को अपने स्तर पर कोविड की निगेटिव रिपोर्ट लेकर आनी होगी। इतना होने पर भी रिपोर्ट की जांच और अन्य औपचारिकताओं को पूरा करने के लिए प्रदेश सरकार को जरूरी फोर्स की तैनाती करनी होगी।

एसओपी में यह भी साफ है कि मुख्य पर्वों पर करीब 50 लाख लोग हरिद्वार पहुंच सकते हैं। इसी के आधार पर हाईकोर्ट ने भी प्रदेश सरकार को 50 लाख लोगों के लिए तंबुओं की व्यवस्था करने को कहा था। अभी तक प्रदेश सरकार टेंट कॉलोनी के इंतजाम से बचने की कोशिश भी करती आई है। अब यह जरूरी हो सकता है और इसमें सरकार को खासी कसरत करनी पड़ सकती है। 

कुंभ के लिए पंजीकरण की भी व्यवस्था सरकार को करनी होगी। कोविड के तहत स्मार्ट सिटी दून की वेबसाइट पर पंजीकरण की व्यवस्था सरकार ने की हुई है। कुंभ में कम समय में अधिक भीड़ जुटेगी और ऐसे में भीड़ नियंत्रण की चुनौती का सामना भी सरकार को करना होगा। बड़ी संख्या में आने वाले लोगों से सामाजिक दूरी के नियम का पालन कराने में भी सरकार को खासा पसीना बहाना होगा। 
... और पढ़ें

Rail Budget 2021 :  रेल बजट से उम्मीदें, किराये और माल भाड़े में कमी किए जाने की जरूरत

Haridwar Kumbh Mela 2021 : गंगा की धारा में उतार-चढ़ाव, कुंभकाल तक बढ़ेगा बहाव

मौसमी बदलाव का असर गंगा की मुख्य जलधारा पर भी पड़ने लगा है। उच्चहिमालयी क्षेत्रों में मौसम लगातार करवट बदल रहा रहा है। ग्लेशियरों की बर्फ पिघलने की गति धीमी होने से गंगा की मुख्यधारा में भी उतार-चढ़ाव आ रहा है।

Haridwar Kumbh Mela 2021: 27 फरवरी से शुरू हो सकता है कुंभ, श्रद्धालुओं की होगी आरटीपीसीआर जांच

हरिद्वार बैराज तक गंगा की मुख्य धारा में सुबह-शाम सात से 8200 क्यूसेक पानी पहुंच रहा है। जबकि दोपहर में जलस्तर बढ़कर 16000 क्यूसेक रिकार्ड हो रहा है। मार्च से मौसम खुलने पर ग्लेशियरों के पिघलने से गंगा का बहाव बढ़ेगा और अप्रैल तक करीब 30000 क्यूसेक पहुंच जाएगा।

हरिद्वार भीमगोड़ा में सिंचाई विभाग का ब्रिटिशकालीन बैराज बना है। हालांकि, पुराने बैराज की जगह 1985 में नया बैराज बन चुका है। बैराज की क्षमता साढ़े छह लाख क्यूसेक पानी को रोकने की है।

बैराज से ही गंगनहर और पूर्वी गंग नहर में सिंचाई और पीने के लिए पानी छोड़ा जाता है। गंग नहर की क्षमता भी 12 हजार क्यूसेक की है। बैराज का जलस्तर बढ़ने पर ही भगीरथी बिंदु से हरकी पैड़ी ब्रह्माकुंड के लिए गंगा की जलधारा पहुंचती है। 
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us

विज्ञापन
X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X